Thursday , May 30 2024

पंजाब : मुख्य सचिव ने खन्ना अनाज मंडी का दौरा कर लिया गेहूं के खरीद प्रबंधों का जायजा

राज्य भर में अब तक 66.8 लाख मीट्रिक टन मंडियों में पहुँची, 4 लाख से अधिक किसानों को 9170 करोड़ का किया भुगतान, सरकार किसानों की फ़सल की तुरंत खरीद और 48 घंटों के अंदर भुगतान के लिए प्रतिबद्ध: अनुराग वर्मा

किसानों को कोई मुश्किल नहीं आ रही, डी.सीज को दिन-रात काम करने के लिए दिए निर्देश: अनुराग वर्मा

खबर खास, खन्ना :
पंजाब के मुख्य सचिव अनुराग वर्मा आज खन्ना अनाज मंडी का दौरा करने पहुंचे और गेहूं की खरीद प्रक्रिया का जायजा लिया। उन्होंने खरीद एजेंसियों को हिदायत दी कि मंडियों में किसानों को किसी भी तरह से मुश्किलों का सामना न करना पड़े। सीएस ने बताया कि मौजूदा सत्र के दौरान प्रदेश की मंडियों में 132 मीट्रिक टन गेहूं की आमद होने की संभावना है। बीते रोज शाम तक मंडियों में 66.8 लाख मीट्रिक टन गेहूँ की आमद हो चुकी है। जिसमें से 91 फीसद भाव 60.9 लाख मीट्रिक टन पहले ही खऱीदी जा चुकी है। श्री वर्मा ने कहा कि मंडी में गेहूँ की आमद के 24 घंटों के अंदर-अंदर फ़सल की साफ़-सफ़ाई, खरीद और तौल किया जा रहा है। इसके उपरांत किसान मंडी से जा सकते हैं। खरीद के 48 घंटों के अंदर किसानों के खातों में न्यूनतम समर्थन मूल्य के अंतर्गत भुगतान किया जा रहा है।

उन्होंने आगे बताया कि खरीद के 48 घंटों के अंदर-अंदर भुगतान करने के नियमों के अनुसार किसानों को 7,950 करोड़ रुपए की अदायगी की जानी बाकी है। इसके उलट किसानों को 9170 करोड़ रुपए की अदायगी पहले ही की जा चुकी है। इसका भाव कई मामलों में किसानों को 48 घंटे से पहले ही अदायगी की गई है। अब तक 4 लाख से अधिक किसानों को अदायगी की जा चुकी है।

मुख्य सचिव ने किसानों के साथ बातचीत भी की। वहां पहुंचे गांव भमद्दी के किसान सुखदीप सिंह ने बताया कि वह सुबह सात बजे अपनी फसल लेकर मंडी आए थे और दोपहर 12.30 तक उनकी फसल खरीदी जा चुकी थी। इसके अलावा गांव हुसैनपुर के किसान नरिंदर सिंह ने बताया कि वह सुबह अपनी फसल मंडी में लेकर आए थे और साढ़े बारह बजे तक उनकी फसल खरीदी गई थी। मंडी में मौजूद ज़्यादातर किसान आज ही अपनी फ़सल मंडी में लेकर आए थे।

श्री वर्मा ने आगे बताया कि कटाई में देरी होने के कारण मंडियों में गेहूँ की आमद शुरू में धीमी थी और अचानक आमद तेज हो गई, परन्तु राज्य सरकार इस सम्बन्धी दिन-रात काम कर रही है, जिससे किसानों को मंडियों में किसी किस्म की कोई दिक्कत पेश न आए। पिछले साल एक दिन में फ़सल की सबसे अधिक लिफ्टिंग 4.8 लाख मीट्रिक टन थी। इसके मुकाबले कल फ़सल की लिफ्टिंग इस हद को पार कर 5.5 लाख मीट्रिक टन तक पहुँच गई।

श्री वर्मा ने आगे कहा कि वह डिप्टी कमिश्नरों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के द्वारा प्रगति का जायज़ा ले रहे हैं। उन्होंने समूह डिप्टी कमिश्नरों को रोज़ाना मंडियों का दौरा करने और फ़सल की लिफ्टिंग को 6.5 लाख मीट्रिक टन प्रतिदिन तक बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। खन्ना मंडी में कल शाम तक 54 हज़ार मीट्रिक टन गेहूँ की आमद हुई और इसमें से 100 प्रतिशत फ़सल की खरीद हो चुकी है। 48 घंटों के अंदर किसानों को 52 करोड़ रुपए दिए जाने थे। इसके उलट किसानों को 72 करोड़ रुपए पहले ही अदायगी की जा चुकी है।

श्री वर्मा ने कहा कि राज्य सरकार मंडियों में किसानों की फ़सल की तुरंत खरीद और उनको 48 घंटों के अंदर- अंदर अदायगी सुनिश्चित बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। यदि किसी भी किसान को खरीद प्रक्रिया या अदायगी सम्बन्धी कोई समस्या आती है तो वह सरकार के टोल फ्री नंबर 1100 पर सूचना दे सकता है। किसान द्वारा दी गई सूचना पर तुरंत कार्यवाही की जाएगी। इस मौके पर अन्यों के अलावा डायरैक्टर खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति पुनीत गोयल, डिप्टी कमिश्नर लुधियाना साक्षी साहनी एस.एस.पी. खन्ना अमनीत कोंडल भी उपस्थित थे