Tuesday , June 18 2024

शाह ने तीन करोड़ पंजाबियों को दी है धमकी : केजरीवाल और मान ने गृह मंत्री अमित शाह पर किया पलटवार

आप सरकार को गिराने का अमित शाह का बयान लोकतांत्रिक व्यवस्था पर धब्बा है : भगवंत मान
मोदी-शाह की तानाशाही के कारण किसान आंदोलन में 750 लोग शहीद हो गए, उनमें से ज्यादातर पंजाब से थे – केजरीवाल
दरअसल मोदी-शाह का मकसद है आप सरकार गिराकर पंजाब के लोगों को मिल रही मुफ्त बिजली बंद करना
केंद्र सरकार ने पंजाब के साढ़े आठ हजार करोड़ रुपये रोके हुए है, जिससे गांवों की सड़कें और अन्य विकास कार्य होने थे, वे चाहते हैं कि पंजाब का विकास रुक जाए- केजरीवाल
2014 में मोदी खुद कह रहे थे कि वह ‘प्रधान सेवक’ हैं, 2019 में वह ‘चौकीदार’ थे और अब वह कह रहे हैं कि भगवान के अवतार हैं, यह उनका अहंकार है
मान ने कहा – बीजेपी की शैली तानाशाह वाली है, उन्होंने गैर-बीजेपी राज्यों की कई सरकारें गिरा दी, वे पंजाब में भी कुछ ऐसा ही करना चाहते हैं
वे हमें रोकना चाहते हैं ताकि काम की राजनीति बंद हो सके और उनकी नफरत की राजनीति चलती रहे : भगवंत मान
पंजाबी धमकियों से नहीं डरते, शायद वह किसानों के आंदोलन को भूल गए : सीएम मान
मान ने पूछा – पंजाब में हमारे पास 92 विधायक हैं, जबकि बीजेपी के पास सिर्फ दो विधायक हैं, वे किस आधार पर हमारी सरकार गिराने की बात कर रहे हैं?
हिंदी भाषा में करीब 6 लाख शब्द हैं लेकिन मोदी केवल 10 बोलते हैं, हिंदुस्तान-पाकिस्तान, मंदिर-मस्जिद, मंगलसूत्र-मुस्लिम, कब्रिस्तान-शमशान घाट, गाय-भैंस आदि, वह कभी भी लोगों के वास्तविक मुद्दों पर बात नहीं करते : सीएम मान
हम काम की राजनीति करते हैं, इसलिए वे हमसे डरते हैं – मान
भाजपा देश के लोकतंत्र और संविधान को खत्म करने के लिए 400 सीटें चाहती है, अगर वे इस बार जीत गए तो भारत की चुनावी व्यवस्था खत्म कर देंगे: सीएम मान

खबर खास, चंडीगढ़/बठिंडा:

पंजाब की सरकार गिराने के अमित शाह के बयान पर आम आदमी पार्टी (आप) ने पलटवार किया है। आप ने कहा कि अमित शाह ने तीन करोड़ पंजाबियों को धमकी दी और पंजाब की गरिमा को ठेस पहुंचाई है। पंजाब के लोग किसी की धमकियों को बर्दाश्त नहीं करते। ऐसा लगता है कि बीजेपी किसान आंदोलन भूल गई है। मुख्यमंत्री भगवंत मान और आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को बठिंडा में प्रेस कॉन्फ्रेंस की और इस गंभीर मुद्दे पर मीडिया से बात की।

मीडिया को संबोधित करते हुए अरविंद केजरीवाल ने अमित शाह के बयान पर पलटवार किया और कहा कि शाह ने पंजाब के लोगों को धमकी दी है कि 4 जून के बाद वह आम आदमी पार्टी की सरकार गिरा देंगे और तीन करोड़ पंजाबियों द्वारा चुने हुए मुख्यमंत्री भगवंत मान को हटा देंगे। केजरीवाल ने अमित शाह से पूछा कि आपके पास कितना पैसा है कि आप पंजाब के लोगों की बोली लग रहे हो? पंजाब के चुने हुए प्रतिनिधियों को खरीदना चाहते हो? क्या अब आप पंजाब के लोगों को भी ईडी और सीबीआई का डर दिखाओगे? केजरीवाल ने कहा कि पंजाब के लोग धमकी से डरने वाले नहीं है। ये बहादुर लोग हैं। आप इनको खरीद और डरा नहीं सकते।

केजरीवाल ने कहा कि दरअसल इनका मकसद है कि आम आदमी पार्टी की सरकार गिराकर पंजाब के लोगों को मिल रही मुफ्त बिजली को बंद करना। उन्होंने लोगों से अपील की कि अगर आप मुफ्त बिजली जारी रखना चाहते हैं तो पंजाब की सभी 13 सीटें आम आदमी पार्टी को जिता दो, वरना बीजेपी वाले आपकी मुफ्त बिजली बंद कर देंगे। अगर संसद में हमारे पास ज्यादा सांसद होंगे तो हम केंद्र सरकार से लड़ सकेगे और मुफ्त बिजली व अन्य सुविधाओं को जारी रख सकेंगे।

उन्होंने कहा कि 2020 में किसान आंदोलन के समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पंजाब के किसानों को दिल्ली में घुसने नहीं दिया था। सड़क पर कीलें लगा दी। फिर किसानों ने सवा साल तक दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन किया जिसमें करीब 750 लोग शहीद हो गए। उनमें से सबसे ज्यादा लोग पंजाब के ही थे। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी और अमित शाह पंजाब के लोगों से नफरत करते है।

केजरीवाल ने कहा कि मोदी सरकार पंजाब को परेशान कर रही है। केंद्र ने पंजाब के करीब साढ़े आठ हजार करोड़ रुपये रोक रखे हैं। उसे पैसे से पंजाब के गांवों की सड़कें और अन्य विकास कार्य होने थे। वह पंजाब के हेल्थ मिशन के पैसे रोक रोक रखी है। ऐसा वे इसलिए कर कर रहे हैं क्योंकि वह चाहते हैं कि पंजाब का विकास न हो।

आप सरकार को गिराने का अमित शाह का बयान लोकतांत्रिक व्यवस्था पर धब्बा है : भगवंत मान

मीडिया को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री भगवंत मान ने कहा कि अमित शाह बीजेपी उम्मीदवार के लिए वोट मांगने लुधियाना आए थे लेकिन उन्होंने चुनाव के बाद पंजाब सरकार को गिराने की धमकी दी। मान ने कहा कि वास्तव में यह भाजपा की शैली है, वे तानाशाह हैं। उन्होंने पहले भी ऐसा किया है।चंडीगढ़ के मेयर चुनाव के दौरान उनकी गुंडागर्दी सभी ने देखी क्योंकि सौभाग्य से वहां सीसीटीवी कैमरे थे और फिर सुप्रीम कोर्ट ने हस्तक्षेप किया और आप का मेयर बना दिया।

मान ने कहा कि हमारे देश की आजादी की लड़ाई में पंजाबियों ने सबसे ज्यादा योगदान दिया। पंजाब के लोगों को धमकाने वाले अमित शाह कौन होते हैं? शायद भाजपा और उसके नेता किसान आंदोलन को भूल गए हैं जब नरेंद्र मोदी को माफी मांगनी पड़ी और किसान विरोधी कानूनों को रद्द करना पड़ा।

मान ने कहा कि पंजाब के लोगों ने हमारी सरकार को चुना है। उन्होंने हमें ऐतिहासिक जनादेश दिया और हमारे 92 विधायक जिताएं, जबकि बीजेपी के पास केवल दो है, फिर वे किस आधार पर लोकतांत्रिक तरीके से चुनी हुई सरकार को गिराने की बात कर रहे हैं? मान ने कहा कि अमित शाह को लगता है कि भारत की राजनीति एक बाजार है जहां वह कुछ भी और किसी को भी खरीद सकते हैं। परन्तु यह सच नहीं है। हमारे विधायकों ने 50-60 हजार वोटों के अंतर से अपनी सीटें जीती हैं। हमें पंजाब की जनता का समर्थन प्राप्त है। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी एक संगठन है। हम अरविंद केजरीवाल के सिपाही हैं और अरविंद केजरीवाल सिर्फ एक व्यक्ति नहीं, वह एक विचार हैं। आम आदमी पार्टी का हर सिपाही इसी विचारधारा पर चलता है।

मान ने कहा कि बीजेपी ने शिवसेना और एनसीपी को तोड़ दिया। उन्होंने विपक्षी नेताओं को जेल भेज दिया। उन्होंने अरविंद केजरीवाल, हेमंत सोरेन को गिरफ्तार कर लिया। फिर उन्होंने कहा कि चलो अब चुनाव कराते हैं। यह स्पष्ट तौर पर तानाशाही है।

मान ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने पंजाब आकर मुझे सिर्फ गालियां दीं। उन्होंने आम जनता की समस्याओं, महंगाई, बेरोजगारी, शिक्षा या स्वास्थ्य व्यवस्था पर कोई बात नहीं की, सिर्फ मेरी बुराई की। मोदी ने कहा कि सबको मोदी-शाह के दरबार के बारे में पता है। मान ने पूछा कि शिवराज सिंह चौहान, मनोहर लाल खट्टर और रमन सिंह का राजनीतिक करियर को किसने खत्म किया? मान ने कहा कि मोदी-शाह बीजेपी में उन नेताओं को किनारे कर देते हैं जो उनकी चापलूसी नहीं करते। वे ईडी और सीबीआई को विपक्ष के खिलाफ हथियार के रूप में और राज्यपाल को गैर-भाजपा सरकार के खिलाफ हथियार के रूप में इस्तेमाल करते हैं।

मान ने कहा कि अमित शाह आप सरकार को गिराने की बात कर रहे हैं, लेकिन असल में उन्हें केंद्र की भाजपा सरकार की चिंता होनी चाहिए। मान ने कहा कि मोदी यह चुनाव नहीं जीत रहे हैं। छह चरणों के मतदान और नरेंद्र मोदी के बयानों और लहजे से साफ प्रतीत हो रहा है। मान ने कहा कि राज्यसभा में आप के सात सांसद हैं और जल्द ही लोकसभा में पंजाब से हमारे 13 सांसद होंगे। हम दिल्ली, गुजरात, असम और कुरूक्षेत्र सीटों पर जीत रहे हैं। फिर हम संसद में भी पंजाब के अधिकारों की रक्षा करेंगे।

मान ने नरेंद्र मोदी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि हिंदी भाषा में करीब 6 लाख शब्द हैं लेकिन मोदी सिर्फ 10 शब्द जानते हैं- हिंदुस्तान-पाकिस्तान, मंदिर-मस्जिद, मंगलसूत्र-मुस्लिम, कब्रिस्तान-शमशान घाट और गाय-भैंस आदि। वह कभी भी आम लोगों के वास्तविक मुद्दों के बारे में बात नहीं करते हैं। उनके पास पीएम के रूप में अपने 10 साल के कार्यकाल में दिखाने के लिए कोई भी स्कूल या अस्पताल नहीं है। मान ने कहा कि बीजेपी नफरत की राजनीति करती है लेकिन आम आदमी पार्टी काम की राजनीति करती है। हम अपने दो साल के काम के आधार पर वोट मांग रहे हैं। मैंने 43,000 सरकारी नौकरियां दीं। हम पंजाब के बुनियादी ढांचे, स्कूल ऑफ एमिनेंस और आम आदमी क्लीनिक का निर्माण कर रहे हैं। मान ने कहा कि नफरत की राजनीति हमारे देश और हमारे आपसी भाईचारे के लिए खतरा है।

मान ने कहा कि पंजाब देश के खाद्य भंडार में सबसे बड़ा हिस्सा देता है। अमित शाह ने अपने पंजाब दौरे में कुछ सकारात्मक बात करने के बजाय पंजाब की सरकार को तोड़ने की बात करना चुना क्योंकि यही उनकी मानसिकता है। मान ने कहा कि जब हमारे किसान भाजपा सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए दिल्ली जा रहे थे तो उन्होंने हरियाणा और दिल्ली की सीमा को सील कर दिया, जैसे यह रूस-यूक्रेन या इजरायल-फिलिस्तीन की सीमा हो।

मान ने कहा कि अब दिल्ली और पंजाब के लोगों को मुफ्त बिजली, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और स्वास्थ्य देखभाल मिल रही है। गरीबों के बच्चे अधिकारी बन रहे हैं। युवाओं में नौकरियां मिल रही हैं। इसलिए वे हमें रोकना चाहते हैं। वे हमारी काम की राजनीति को बढ़ने से रोकना चाहते हैं।

मान ने कहा कि वह, अरविंद केजरीवाल, डॉ. संदीप पाठक सहित अधिकांश आप नेता गैर-राजनीतिक पृष्ठभूमि से हैं। हम यहां आम लोगों के लिए लड़ने, बाबा साहेब अंबेडकर के संविधान और लोकतंत्र को बचाने के लिए आए हैं। हम राजनीति में आम लोगों के लिए लड़ने, बाबा साहेब अंबेडकर के संविधान और अपने देश के लोकतंत्र को बचाने के लिए आए हैं। मान ने कहा कि अमित शाह के इस बयान को लेकर पंजाब के लोगों में काफी गुस्सा है क्योंकि यह पंजाब की गरिमा पर हमला है। मान ने कहा कि भाजपा को पंजाब में एक भी सीट नहीं मिल रही है क्योंकि पंजाबी कभी भी नफरत की राजनीति को बर्दाश्त नहीं करते। वे कभी भी जनविरोधी और पंजाब विरोधी ताकतों के साथ खड़े नहीं होंगे।

मान ने कहा कि भाजपा इस तरह अत्यंत अमर्यादित आचरण इसलिए अपना रही है क्योंकि वे अपने अंत के करीब हैं। मान ने कहा कि ‘अति’ के बाद ‘अंत’ ही होता है।