Saturday , June 15 2024

यूपी: सपा-कांग्रेस की सरकार बनी तो ये राम मंदिर पर चलवा देंगे बुलडोजर: पीएम नरेंद्र मोदी

बाराबंकी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव 2024 के प्रचार के क्रम में शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में जनसभा को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने कहा कि केंद्र में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी की सरकार बन गई तो ये लोग अयोध्या में बने राम मंदिर पर बुलडोजर चलवा देंगे.

अयोध्या में बने भव्य राम मंदिर का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के लोगों ने पहले रामलला को टेंट में पहुंचाया. अपनी वोट बैंक को खुश करने के लिए कहा यहां मंदिर की जगह, धर्मशाला, स्कूल या अस्पताल बनवा दो. अब मंदिर बन गया तो उनके पेट में इतना जहर भरा पड़ा है. पता नहीं, उनकी राम से क्या दुश्मनी है. रामलला की प्राण प्रतिष्ठा निमंत्रण ठुकरा दिया.

राम मंदिर पर कोर्ट का फैसला बदलने की तैयारी कर रही कांग्रेस

नरेंद्र मोदी ने कहा, सपा के बड़े नेता यहां तक कहते हैं वो भी राम नवमी के दिन कि राम मंदिर बेकार है. कांग्रेस तो राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला पलटने की तैयारी कर रही है. जब मैं कहता हूं कि कांग्रेस में रहने वाले एक नेता ने कहा है कि ये लोग कोर्ट का निर्णय पलटना चाहते हैं तो कुछ लोग कहते हैं कि ऐसा कैसे हो सकता है. भ्रम में मत रहिए, देश जब आजादी का आंदोलन कर रहा था और देश के टुकड़े करने की बात आती थी तो देश का हर व्यक्ति कहता था नहीं-नहीं देश के टुकड़े थोड़े होते हैं. हो गए कि नहीं हो गए. इन्होंने कर दिया या नहीं. ये किसी भी हद तक जा सकते हैं. इनका ट्रैक रिकॉर्ड ही ऐसा है. इनके लिए देश कुछ नहीं है. इनके लिए इनका परिवार और पावर ही सबकुछ है.

उन्होंने कहा, सपा-कांग्रेस वाले सरकार में आए तो रामलला को फिर टेंट में भेजेंगे और मंदिर पर बुलडोजर चलवा देंगे. क्या योगी जी से यही सीखना है? अरे जरा योगी जी से ट्यूशन लो बुलडोजर कहां चलवाना है और कहां नहीं चलाना है.

सपा-कांग्रेस के लिए अपने वोट बैंक से बड़ा कुछ नहीं

पीएम ने कहा, सपा कांग्रेस के लिए अपने वोट बैंक से बड़ा कुछ नहीं है. जब मैं इनकी पोल खोलता हूं तो ये बेचैन हो जाते हैं, इनकी नींद हराम हो जाती है. जब संविधान बन रहा था बाबा साहेब अम्बेडकर धर्म के आधार पर आरक्षण के सबसे बड़े विरोधी थे. धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं होगा ये संविधान सभा ने निर्णय किया था. इनके परनाना ने भी धर्म के आधार पर आरक्षण का विरोध किया था. 10 साल पहले यूपी में इन्होंने धर्म के आधार पर आरक्षण देने की कोशिश की थी. कर्नाटक में तो कर दिया. कर्नाटक को उन्होंने प्रयोगशाला बनाया है. इन्होंने कर्नाटक में सभी मुसलमानों को रातोंरात ओबीसी बना दिया. जो ओबीसी को आरक्षण मिला था उसमें से बहुत बड़ा हिस्सा ये लूटकर चले गए.