Thursday , May 30 2024

#LokSabhaElections2024 मायावती के मतदाता बदलेंगे उत्तर प्रदेश के नतीजे?

अभिमनोज. उत्तर प्रदेश एक मात्र राज्य है जहां यह मान कर चला जा रहा है कि बीजेपी यहां 2019 की कामयाबी दोहरा सकती है!
लेकिन…. एनडीए और इंडिया गठबंधन के बीच मायावती का मतदाता खड़ा है और यह मतदाता बीएसपी को जीत भले ही नहीं दिला पाए, लेकिन किसी की हार का सबब बन सकता है?
वैसे उत्तर प्रदेश में श्रीराम मंदिर के कारण बीजेपी काफी हद तक सुरक्षित है, लेकिन फिर भी उसकी जीत इस बात पर निर्भर है कि विपक्ष के वोटों का कितना बिखराव होता है?
यदि वोट, खासकर मुस्लिम वोट इंडिया गठबंधन और बीएसपी में बंट गए, तो बीजेपी की जीत का रास्ता आसान हो जाएगा और यदि मायावती के मतदाताओं ने बसपा का सियासी दामन छोड़ दिया, तो बीजेपी को कई सीटों पर बड़ा नुकसान हो सकता है, खासकर उन सीटों पर जहां मुस्लिम मतदाता निर्णायक स्थिति में हैं!
मायावती की पार्टी ने 2009 में 27 प्रतिशत से ज्यादा मत हासिल किए और उसके 20 सांसद लोकसभा में पहुंच, लेकिन 2014 और 2019 में वह ऐसी कामयाबी दोहरा नहीं पाई, यही नहीं…. 2022 के चुनाव में तो बीएसपी का वोट शेयर घटकर केवल 13 प्रतिशत के करीब रह गया?
जाहिर है, बीएसपी यदि पूरी ताकत के साथ चुनाव नहीं लड़ी, तो बीएसपी के सियासी अस्तित्व पर ही सवालिया निशान लग जाएगा?
पल-पल इंडिया (11/4/2024) में कहा था…. क्या बिखर जाएगा मायावती का वोट बैंक? किसका फायदा, किसका नुकसान??
https://palpalindia.com/2024/04/11/rajniti-politics-Lok-Sabha-elections-2024-Mayawati-vote-bank-BSP-party-whose-advantage-whose-loss-political-equation-news-in-hindi.html
इस बार का लोकसभा चुनाव जिस तरह से मायावती की पार्टी बसपा लड़ रही है, वह चौंकानेवाला है?
सियासी सयानों का मानना है कि- या तो…. मायावती को अपने वोट बैंक पर पक्का भरोसा है, या फिर…. बसपा केवल चुनाव लड़ने की सियासी रस्म निभा रही है?
कभी मायावती का सियासी दबदबा ऐसा था कि- 2007 के विधानसभा चुनाव में 403 सीटों में से 206 हासिल की थी, तो इसके उलट…. 2022 में केवल एक सीट मिली!
वर्ष 2014 के बाद से लोकसभा और विधानसभा चुनावों में लगातार नाकामयाबी के बावजूद बसपा का यूपी में बड़ा आधार अब तक बचा हुआ है, लेकिन यदि यह बिखरा तो एक तिहाई फायदा बीजेपी को तो दो तिहाई लाभ कांग्रेस को मिलेगा?
दरअसल, मायावती के समर्थक जानते हैं कि अकेले दम पर केंद्र में मायावती का राज मुश्किल है, लेकिन- 'मजबूर सरकार' की धारणा साकार करने के लिए समर्थक मायावती के साथ हैं, मतलब…. केंद्र में एनडीए और इंडिया टीम में से किसी को बहुमत नहीं मिला तो वे बसपा पर निर्भर हो जाएंगे, एक मजबूर सरकार मायावती के इशारों पर चलेगी?
देखना दिलचस्प होगा कि मायावती की पार्टी 2024 में कोई सियासी करिश्मा दिखाती है या बिखर जाती है?
#LokSabhaElections2024 बिहार, महाराष्ट्र और कर्नाटक, तीनों राज्य बने बीजेपी के लिए बड़ी चुनौती?

https://palpalindia.com/2024/03/28/rajniti-politics-Lok-Sabha-Elections-2024-Bihar-Maharashtra-and-Karnataka-all-three-states-big-challenge-for-BJP-political-equation-news-in-hindi.html
#LokSabhaElections2024 क्या जनता की सेहत संकट में डालकर मोदीजी ने अपनी पार्टी की आर्थिक सेहत सुधारी है?
https://www.palpalindia.com/2024/03/26/rajniti-politics-Modi-public-health-Corona-vaccine-free-from-brokerage-and-party-donations-news-in-hindi.html