Monday , April 15 2024

विकास अुनदान में तीन लाख की घपलेबाजी के आरोप में विजिलेंस ने पूर्व सरपंच समेत दो को किया गिरफ्तार

पंचायत सचिव अभी फरार
खबर खास, चंडीगढ़ :
पंजाब विजिलेंस ब्यूरो ने भ्रष्टाचार के एक मामले में कार्रवाई करते हुए एसबीएस नगर के गांव नूरपुर में विकास कार्यों के लिए जारी हुए अनुदान में तीन लाख रुपए से अधिक की घपलेबाजी के आरोप में पूर्व सरपंच समेत दो लोगों को गिरफ्तार किया है जबकि पंचायत सचिव अभी फरार बताया जा रहा है।
प्राप्त जानकारी के मुताबिक गांव के पूर्व सरपंच सुरिंदर सिंह, ग्राम पंचायत सचिव बघौरां निवासी अशोक कुमार और गांव सरहाल काजिया निवासी मलकीत राम ने मिलीभग से अनुदान के पैसों में से 3, 14,500 रुपए की घपलेबाजी की। इस मामले में विजिलेंस ने कार्रवाई करते हुए पूर्व सरपंच और मलकीत राम को गिरफ्तार किया है। विजिलेंस ब्यूरो के मुताबिक एक शिकायत की जांच में पाया गया कि नूरपुर गांव में वर्ष 2014 से2017 तक तक गलियों- नालियों, गंदे पानी के निकास, एस. सी. और बी. सी. धर्मशालाओं के निर्माण समेत श्मशानघाट के निर्माण सम्बन्धी हासिल हुई ग्रांटों में से उक्त मुलजिमों की तरफ से मस्टरोल मुताबिक लेबर/ मिस्त्री के कामों सम्बन्धी मज़दूरों को 75,000 रुपए की अदायगी की जानी थी परंतु उक्त पंचायत सचिव और सरपंच ने उक्त मलकीत राम के नाम पर 54,500 रुपए रेत/ बज़री की अदायगी सम्बन्धी कैश बुक में फ़र्ज़ी एंट्री दिखा कर यह पैसे मलकीत राम के बैंक में से निकलवा कर आपस में बाँट लिए। इतना ही नहीं इन मुलजिमों ने यह रेत/ बजरी प्रयोग करने और यह अदायगी देने के बारे सम्बन्धित कोई रजिस्टर में कोई प्रस्ताव नहीं लाया गया।

प्रवक्ता ने बताया कि इस गाँव को विकास कामों के लिए कुल 2,60, 000 रुपए की ग्रांटें मिलीं थीं जिनमें भक्त धन्ना राम के कमरे के लिए 1,00, 000 रुपए, जिंम के निर्माण के लिए 1,00,000 रुपए और सोलर लाईटों के लिए 60,000 रुपए प्राप्त हुए थे परंतु टैकनिकल टीम की रिपोर्ट अनुसार जिस काम के लिए यह ग्रांटें आईं थीं वह काम मौके पर होने नहीं पाये गए। उन्होंने बताया कि जांच के दौरान इन ग्रांटों सम्बन्धी उक्त पंचायत सचिव और सरपंच की तरफ से कैश बुक में फ़र्ज़ी एंट्री दिखा कर कुल 2 60, 000 रुपए का गबन किया जाना साबित हुआ है।
इसके इलावा पंचायत सचिव और सरपंच की तरफ से उक्त ग्रांटों को ख़र्च करने सम्बन्धी और अदायगियों सम्बन्धी कोई प्रस्ताव नहीं पाया गया।

प्रवक्ता ने बताया कि इस सम्बन्ध में उक्त तीनों ही मुलजिमों के विरुद्ध धारा 13(1) ए और 13(2) और आई. पी. सी. की धारा 406, 409, 120-बी के अंतर्गत मुकदमा नंबर 05 तारीख़ 11. 03. 2024 को विजिलेंस ब्यूरो के थाना जालंधर रेंज में दर्ज कर लिया गया है। गिरफ़्तार किये मुलजिम पूर्व सरपंच सुरिन्दर सिंह और मलकीत राम को कल अदालत में पेश करके रिमांड हासिल करने के उपरांत और पूछताछ की जायेगी। इस केस की आगे तफ्तीश जारी है।

 

The post विकास अुनदान में तीन लाख की घपलेबाजी के आरोप में विजिलेंस ने पूर्व सरपंच समेत दो को किया गिरफ्तार first appeared on Khabar Khaas.