Monday , April 15 2024

‘व्यापारी और उद्योगपति राज्य की आर्थिकता की रीढ़ की हड्‌डी’

मुख्यमंत्री भगवंत मान ने कहा
लुधियाना में सरकार व्यापार मिलनी के दौरान सीएम मान और केजरीवाल ने किया उद्योगपतियों के साथ विचार- विमर्श, केजरीवाल ने की केंद्र की पंजाब विरोधी मानसिकता की निंदा
कहा, केंद्र सरकार ने राज्य की झांकी को रद्द करके पंजाबियों का अपमान किया

खबर खास, लुधियाना :
पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने आज यहां सरकार-व्यापार मिलनी के दौरान उद्योगपतियों और व्यापारियों के साथ विस्तृत विचार-विमर्श किया। उपस्थित लोगों को संबोधन करते हुये मुख्यमंत्री ने दोहराया कि सरकार-व्यापार मिलनी के रूप में अपनी किस्म की इस पहली पहलकदमी का उद्देश्य व्यापारिक भाईचारे की भलाई यकीनी बनाना है। उन्होंने कहा कि यह राज्य के आर्थिक विकास को बढ़ावा देकर राज्य की पुरातन शान बहाल करने की तरफ एक ठोस कदम है। मान ने कहा कि राज्य की आर्थिकता में उद्योग और व्यापार अहम भूमिका निभाते हैं और यह हर राज्य की रीढ़ की हड्डी होते हैं, जिसके लिए इसको बढ़ावा देना लाज़िमी है। उन्होंने कहा कि वह लोगों की भलाई और राज्य के विकास के लिए घटिया दर्जे की राजनीति की बजाय ‘काम की राजनीति’ कर रहे हैं। मान ने कहा कि ऐसा बहुत पहले हो जाना चाहिए था जिससे लोगों को इसका लाभ मिल सकता।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में अब तक टाटा स्टील, सनातन टेक्स्टाईल और अन्य प्रमुख कंपनियों की तरफ से 70,000 करोड़ रुपए का निवेश किया गया है, जो अन्य कंपनियों को निवेश के लिए उत्साहित करेगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार स्थानीय उद्योगों के हितों की रक्षा के लिए वचनबद्ध है और वह राज्य के असली ब्रांड अम्बैसडर हैं।
मान ने कहा कि राज्य सरकार यह यकीनी बनाने के लिए वचनबद्ध है कि यह कंपनियाँ राज्य में अपने कारोबार का विस्तार करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश भर में से राज्य में अमन- कानून की स्थिति सब से बढ़िया है, जिस कारण बड़े स्तर पर उद्योग राज्य में निवेश के लिए आ रहे हैं।। उन्होंने कहा कि इसके विपरीत पिछली सरकारों समय पर नेता निवेश के लिए आने वाले उद्यमों में हिस्सेदारी मांगते थे। मान ने कहा कि पहले सत्ताधारी परिवारों के साथ समझौतों पर दस्तखत किये जाते थे परन्तु अब राज्य की तरक्की और खुशहाली के लिए यह समझौते किये जाते हैं।

मुख्यमंत्री ने व्यापारियों को राज्य की तरक्की और खुशहाली के लिए तन-मन के साथ काम करने का न्योता दिया।
भगवंत सिंह मान ने कहा कि राज्य सरकार ने पहले ही फोकल प्वाइंटों और एस. ई. ज़ैडज़ में बुनियादी ढांचे को अपग्रेड करने के इलावा औद्योगिक क्षेत्रों में विशेष पुलिस चौकियाँ स्थापित करके सुरक्षा यकीनी बनाने का प्रस्ताव तैयार कर लिया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अब वह दिन चले गए हैं जब उद्योगों और व्यापारियों को बेवजह परेशानी झेलनी पड़ती थी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार अब उनकी सुविधा के लिए काम करेगी और बीते समय के उलट अब कोई भी उद्योगपतियों को तंग नहीं करेगा, बल्कि राज्य सरकार उद्योगों को उत्साहित करने के लिए हर संभव यत्न करेगी। भगवंत सिंह मान ने कहा कि औद्योगिक क्षेत्र के व्यापक विकास को यकीनी बनाने के लिए हर संभव कदम उठाया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार पंजाब में मौजूदा औद्योगिक इकाईयों की सुरक्षा से इलावस इन इकाईयों के विस्तार और उत्साहित करने के लिए ठोस प्रयास करेगी। उन्होंने कहा कि उद्योगपतियों ने देश के सामाजिक- आर्थिक विकास में अहम भूमिका निभाई है। मान ने बताया कि शुरुआती तौर पर हर 30 किलोमीटर के घेरे में अत्याधुनिक यंत्रों के साथ लैस 129 वाहन सड़कों पर तैनात किये गए हैं और इन वाहनों में किसी भी जरूरतमंद व्यक्ति को एमरजैंसी इलाज मुहैया करवाने के लिए संपूर्ण मैडीकल किट की सुविधा भी उपलब्ध है।

स्कूल आफ एक्सीलेंस का दौरा करें उद्योगपति : केजरीवाल

अपने संबोधन में दिल्ली के मुख्यमंत्री ने उद्योगपतियों को राज्य सरकार की तरफ से अत्याधुनिक बुनियादी ढांचे और सहूलतों के साथ लैस नये स्कूल आफ एक्सीलेंस का दौरा करने का न्योता दिया। उन्होंने कहा कि यह स्कूल सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों को कान्वेंट से पढ़े विद्यार्थियों का मुकाबला करने में मदद करेगा जिससे वह जीवन में और आगे बढ़ सकें। अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि स्कूल का एक ही दौरा उद्योगपतियों को यह सोचने के लिए मजबूर कर देगा कि उनको भी अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ने भेजना चाहिए।

पिछली सरकारें उद्योगपतियों को देती थी चोर करार

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछली किसी भी सरकार ने उद्योगपतियों और व्यापारियों की भलाई की कभी कोई चिंता नहीं की। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों उद्योगपतियों को चोर करार देती थीं, परन्तु यह सरकार उद्योगपतियों को राज्य की सामाजिक आर्थिक तरक्की में बराबर का हिस्सेदार बनाना चाहती है। अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि राज्य सरकार पिछली सरकारों की तरह लूटने की बजाय व्यापारियों और उद्योगपतियों की सुविधा के लिए है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने इन मिलनियों को राज्य सरकार और व्यापारियों के दरमियान बेहतर तालमेल के लिए समय की माँग बताया। उन्होंने कहा कि व्यापारियों को पेश मुश्किलों का जल्द हल करना और उनको बड़े स्तर पर लाभ पहुंचाना ही समय की ज़रूरत है। अरविन्द केजरीवाल ने ग़ैर- भाजपा राज्यों के सुचारू कामकाज में रुकावटें बिछाने के लिए केंद्र सरकार को आड़े हाथों लिया और कहा कि यह सब केंद्र का घमंडी रवैया और मनमाना है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि जैसे कि केरला, पश्चिमी बंगाल, तेलंगाना और अन्य राज्यों के लोगों ने अपने मुख्यमंत्रियों को लोक सभा सीटें देकर शक्ति दी थी, उसी तरह अब समय आ गया है कि भगवंत सिंह मान को सभी लोक सभा सीटें जीताईं जाएँ।

 

The post ‘व्यापारी और उद्योगपति राज्य की आर्थिकता की रीढ़ की हड्‌डी’ first appeared on Khabar Khaas.