Monday , April 15 2024

सिंघु बॉर्डर और टिकरी बॉर्डर आंशिक तौर पर खुला, किसान 29 को करेंगे बड़ा ऐलान

नई दिल्ली. बीते कई दिनों से किसान अपनी मांगों को लेकर पंजाब हरियाणा बार्डर पर प्रदर्शन कर रहे हैं. किसान राजधानी दिल्ली में जाकर प्रदर्शन करना चाह रहे थे, जिसके बाद पुलिस ने सिंघु और टिकरी बार्डर को सील कर दिया था. रास्ता खोलने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका भी दायर की गई थी. हालांकि किसानों ने 29 फरवरी को होने वाले "दिल्ली चलो मार्च" को स्थगित कर दिया, जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने सिंघु और टिकरी बार्डर को आंशिक रुप से खोल दिया.

किसान आंदोलन के बीच दिल्ली पुलिस ने बड़ा फैसला किया है. दिल्ली पुलिस टिकरी और सिंघु बॉर्डर पर किसानों को रोकने के लिए लगाए बैरिकेड को अस्थाई तौर पर हटा रही है ताकि रास्ते को आम यातायात के लिए खोला जा सके. बताया जा रहा है कि पुलिस सड़क के दोनों तरफ का एक हिस्सा आवाजाही के लिए खोल रही है. किसानों के दिल्ली में प्रवेश को रोकने के लिए पुलिस ने दोनों बॉर्डर पर कंक्रीट की दीवार से बैरिकेडिंग की थी.

दिल्ली पुलिस की ओर से बैरिकेडिंग हटाए जाने के कदम के बीच किसान नेता सरवन सिंह पंढेर का बयान भी सामने आया है. उन्होंने कहा है कि आंदोलन लगातार चलता रहेगा और आगे की रणनीति के बारे में 29 फरवरी को बड़ा ऐलान किया जाएगा. उन्होंने कहा कि फिलहाल हम सभी संगठनों को बुलाकर आंदोलन की रूप-रेखा पर चर्चा करेंगे फिर उसकी घोषणा करेंगे.बता दें कि न्यूनतम समर्थन मूल्य समेत करीब दर्जन भर मांगों को लेकर किसान अभी भी पंजाब-हरियाणा बॉर्डर पर डटे हुए हैं. किसानों ने दो बार हरियाणा का बॉर्डर पार करने की कोशिश की, लेकिन हरियाणा पुलिस ने खदेड़ दिया. जिसके बाद से किसान शंभू बॉर्डर पर ही डटे हुए हैं और दिल्ली कूच करने का फैसला दो दिनों के लिए टाल दिया है. किसान नेताओं ने कहा था कि वे 29 फरवरी तक दिल्ली कूच नहीं करेंगे.

पंजाब और हरियाणा के बीच शंभू बार्डर पर जहां किसान किसान पिछले 12 दिनों से MSP पर फसल खरीद की कानूनी गारंटी समेत कई मांगों को लेकर दिल्ली कूच करने के लिए बैठे हैं. वहां अब सेल्फी प्वाइंट बन गया है. लोग शंभू बार्डर पर सेल्फी और वीडियो बनाने आ रहे हैं.