Wednesday , February 21 2024

Punjab : अनियमितताओं के आरोप में पीपीएससी के पूर्व चेयरमैन और 5सदस्यों के खिलाफ विजिलेंस ब्यूरो ने मामला किया दर्ज

चंडीगढ़: पंजाब विजीलैंस ब्यूरो ने साल 2008-2009 के दौरान 312 स्वास्थ्य अधिकारियों (एम. ओ.) की भर्ती के दौरान अनियमितताएं करने के आरोप में पंजाब लोक सेवा आयोग (पीपीएससी) के पूर्व चेयरमैन और इसके पाँच पूर्व सदस्यों के विरुद्ध केस दर्ज किया है। इस मुकदमे में पटियाला जिले के शुतराना हलके से पूर्व विधायक डा. सतवंत सिंह मोही को गिरफ़्तार कर लिया गया है और बाकी आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी है। इस बारे में जानकारी देते हुए विजिलेंस ब्यूरो के प्रवक्ता ने मंगलवार को यहां बताया कि यह मामला विशेष जांच टीम की जांच रिपोर्ट के आधार पर दर्ज किया गया है।

उन्होंने बताया कि इस मामले में नामज़द किये गए आरोपियों में एस के सिन्हा चेयरमैन (स्वर्गवासी), ब्रिगेडियर (सेवामुक्त) डीएस  ग्रेवाल (स्वर्गवासी), डा. सतवंत सिंह मोही, डीएस  माहल, पूर्व मंत्री लाल सिंह की बहू रविन्द्र कौर और भाजपा प्रवक्ता अनिल सरीन शामिल हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने 22-11-2013 को पी. पी. एस. सी. द्वारा दो बार 100 और 212 पदों पर कुल 312 एमओ की भर्ती के दौरान हुई अनियमितताओं को चुनौती देने वाली रिट पिटीशनों का निपटारा करते हुए समूचे मामले की जांच के लिए एक एस. आई. टी गठित करने के हुक्म दिए हैं।

उन्होंने आगे बताया कि दो सदस्यीय एस. आई. टी. में शामिल एम. एस. बाली, संयुक्त कमिशनर सी. बी. आई. (सेवामुक्त) और सुरेश अरोड़ा, तत्कालीन डायरैक्टर जनरल विजीलैंस ब्यूरो ने हाई कोर्ट में अपनी रिपोर्ट पेश की है जो यह साबित करती है कि साल 2008-2009 में 312 डाक्टरों का पूरा चयन अनियमितताओं से भरा हुआ था।  इस अनुसार पी. पी. एस. सी. के तत्कालीन चेयरमैन और पाँच सदस्यों के विरुद्ध भ्रष्टाचार रोकथाम कानून और भारतीय दंड संहिता की सम्बन्धित धाराओं के अंतर्गत विजीलैंस ब्यूरो के थाना पटियाला रेंज में यह एफ. आई. आर. दर्ज की गई है।