Monday , February 26 2024

सांसद संत बलबीर सिंह सीचेवाल ने संसद में पंजाब के किसानों की समस्याओं का मुद्दा उठाया

स्वामीनाथन आयोग की सिफ़ारिशों को लागू करना, कृषि क्षेत्र में सुधार करना और खेती को लाभ का व्यवसाय बनाना एम.एस. स्वामीनाथन को सच्ची श्रद्धांजलि होगी – सीचेवाल

चंडीगढ़, 11 दिसंबर: पंजाब से आम आदमी पार्टी (आप) के राज्यसभा सांसद संत बलबीर सिंह सीचेवाल ने सोमवार को संसद में पंजाब की कृषि और किसानों की समस्याओं का मुद्दा उठाया।

 

सीचेवाल ने संसद को पंजाब के किसानों को आर्थिक तंगी के कारण हो रही परेशानियों से अवगत कराया। उन्होंने प्रसिद्ध कहावत ‘उत्तम खेती, मध्यम व्यापार, निखिद्ध चाकरी’ का जिक्र करते हुए कहा कि खेती को सबसे अच्छा व्यवसाय माना जाता था लेकिन अब यह घाटे का व्यवसाय बन गया है। इसीलिए पंजाब का युवा राज्य छोड़कर दूसरे देशों की ओर पलायन कर रहा है और पंजाब का लाखों-अरबों पैसा अपने साथ ले जा रहा है।

 

आप नेता ने कहा कि देश में हर रोज 114 किसान और दिहाड़ी मजदूर आत्महत्या कर रहे हैं। इसके लिए हमारा सिस्टम और सरकार जिम्मेदार है। केंद्र सरकार को किसानों को वित्तीय संकट से बाहर निकालने के लिए मदद का हाथ बढ़ाना चाहिए। सीचेवाल ने कहा कि सरकार 23 फसलों के लिए एमएसपी की घोषणा करती है लेकिन वे केवल औपचारिकता भर है क्योंकि एमएसपी पर केवल गेहूं और धान ही खरीदा जाता है। बाकी फसलों के लिए किसानों को उचित मूल्य नहीं मिलता है। उन्होंने कहा कि सरकार ने गुमराह करने के लिए मक्के की 1962 रुपये प्रति क्विंटल एमएसपी की घोषणा की लेकिन किसानों से इसे सिर्फ 700-1200 रुपये प्रति क्विंटल में खरीदा जा रहा है। इसलिए सरकार को एमएसपी गारंटी कानून लागू करना चाहिए जैसा कि सरकार ने कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर धरने पर बैठे किसानों से आंदोलन खत्म करने की अपील करते हुए किसानों से वादा किया था।

 

उन्होंने आगे कहा कि केंद्र सरकार को देश के कृषि क्षेत्र में सुधार के लिए स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करना चाहिए और खेती को लाभ का व्यवसाय बनाना चाहिए। यही एम.एस.स्वामीनाथन को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। उन्होंने यह भी मांग की कि भारत और पाकिस्तान के बीच व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए वाघा बॉर्डर को खोला जाना चाहिए क्योंकि जब हमारे किसान 5 रुपये किलो आलू बेच रहे हैं, तो। यह पाकिस्तान में 150 रुपये किलो बेचा जा रहा है। यह वही आलू है लेकिन यह गुजरात या दुबई के रास्ते पाकिस्तान पहुंचता है। उन्होंने कहा कि व्यापारिक उद्देश्यों के लिए वाघा बॉर्डर खोलने से पंजाब और उसके कृषि क्षेत्र को वित्तीय बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि चीन के साथ तमाम मतभेदों और मुद्दों के बावजूद, हम अभी भी उसके साथ व्यापार करते हैं तो पाकिस्तान के लिए भी ऐसा होना चाहिए।