Saturday , June 15 2024

Bird flu in Cow Milk : क्या गाय का दूध पीना सुरक्षित है?, अब इस बीमारी से चिंता लोग

खबर खास, चंडीगढ़:
गाय के दूध में बर्ड-फ्लू फैलने से अमेरिका में डेयरी मवेशियों के दूध में इन्फ्लूएंजा यानि कि बर्ड फ्लू फैलने से लोग परेशान हैं कि इस दूध को पिया जाए कि नहीं। दूध में इस वायरस के निशान मिले हैं और दूध को लेकर सुरक्षा मानक सबंधी भी चिंताएं बढ़ रही हैं। जानकारी के मुताबिक बर्ड फ्लू का प्रकोप मिशिगन और टेक्सास सहित कई राज्यों में मवेशियों में मिला है। इसके लिए लगभग 300 खुदरा डेयरी नमूनों का जांच की गई और अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने 10 मई को बयान दिया कि जांच में पाश्चुरीकृत दूध में किसी भी तरह के किसी वायरस की मिलावट नहीं हैं।

ये भी याद रहे कि यह वायरस आम तौर पर जानवरों से मनुष्यों में नहीं फैलता है, लेकिन संक्रमित गायों के संपर्क में आने के बाद अप्रैल में टेक्सास के एक फार्म कर्मचारी को इसमें पाजिटिव पाया गया है। उस कर्मचारी को सुरक्षा लिहाज से आइसोलेशन में रखा गया है।
दूसरी ओर वैज्ञानिकों के पास इस बात का कोई सही जवाब नहीं है कि ये जानवरों से इंसान में कैसे पाया गया।

कैसे फैलता है बर्ड फ्लू?

बर्ड फ़्लू पोल्ट्री और जंगली पक्षियों की एक संक्रामक बीमारी है जो लगभग 100 वर्षों से फैलती रही है। पक्षियों के अलावा, कुछ जंगली स्तनधारी जानवरों जैसे कि लोमड़ी, जंगली कुत्ते, सील और ऊदबिलाव भी अब इस वायरस के कण मिल रहे हैं। सबसे पहले H5N1 वायरस 1996 में चीन में मिला था। हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक यह वायरस आम तौर पर मनुष्यों में नहीं फैलता है, लेकिन संक्रमित पोल्ट्री या दूषित वातावरण के सीधे संपर्क के माध्यम से यह इंसानों में भी मिल रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, पिछले 20 वर्षों में, 888 लोग H5N1 एवियन फ्लू से संक्रमित हुए हैं और 463 लोगों की मृत्यु हुई है, मानव मृत्यु दर 52% है।