Sunday , May 19 2024

खालिस्तानी आतंकी निज्जर हत्या मामले में कनाड़ा पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार करने का किया दावा

खबर खास, चंडीगढ़ :
खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर हत्या मामले में कनाडा पुलिस ने तीन आरोपियों को बीते रोज गिरफ्तार करने का दावा किया है। कनाडा की न्यूज एजंसी सीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक एडमंटन शहर से गिरफ्तार तीनों आरोपी भारतीय सिख है। पुलिस का कहना है कि उन्हें यकीन है कि इन लोगों को भारत ने निज्जर को मारने का काम सौपा था।
आरोपियों की पहचान करण बरार, करण्प्रीत सिंह और कमलप्रीत सिंह के तौर पर हुई है और यह सभी 20 से 30 साल के दरमियान के है। जबकि दावा यह भी किया जा रहा है कि तीनो आरोपी गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई की गैंग से भी संपर्क में थे। यह सभी 2021 में टेंपरेरी वीजा लेकर कनाडा गए थे। इनपर फर्स्ट डिग्री हत्या और हत्या की साजिश रखने के आरोप में मामला दर्ज किया है। पुलिस ने कहा है कि बाकी आरोपियों को भी जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
गौर रहे कि कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने बीते साल सितंबर में अपनी संसद में खालिस्तानियों के प्रति अपने सहानुभूतिपूर्वक रवैये के चलते भारत सरकार पर निज्जर की हत्या की साजिश रचने का आरोप लगाया था।
पुलिस की चार्जशीट के मुताबिक निज्जर की हत्या को अंजाम देने में तीनों आरोपियों ने अलग-अलग भूमिका निभाई थी। इनमें से एक पर निज्जर की लोकेशन पता करने की जिम्मेवारी थी तो दूसरा आरोपी ड्राइवर था जबकि तीसरे ने उसपर गोली चलाने का काम कया।
आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद कनाडा के पब्लिक सेफ्टी मिनिस्टर डेमिनिक लेबलांक से निज्जर हत्या मामले में सवाल पूछे गए। लेबलांक ने कहा कि उन्हें कनाडा की सुरक्षा व्यवस्था और पुलिस पर पूरा भरोसा है। पुलिस ने निज्जर हत्या मामले को काफी गंभीरता से लिया है। इसके भारत से लिंक होन या न होने का जवाब पुलिस बेहतर दे सकती है।
गौर रहे कि 18 जून 2023 की शाम सरे शहर के एक गुरुद्वारे से बाहर निकलते निज्जर की गोली मारकर हत्या कर दी थी। जिसके बाद सितंबर में प्रधानमंत्री ट्रूडो ने भारत सरकार पर निज्जर की हत्या में शामिल होने का आरोप लगाया था, जिसे भारत ने खारिज कर दिया था। मामले में एक्शन लेते हुए कनाडा की ट्रूडो सरकार ने भारत के एक सीनियर डिप्लोमैट को देश से निकाल दिया। जिसके बाद दोनों देशों के बीच विवाद गहरा गया। हालांकि बाद में ट्रूडो ने कई बार भारत से रिश्ते बनाए रखने की बात कही थी। भारत ने कनाडा के 41 डिप्लोमैट्स को निकाला था। कनाडा के आरोपों के बाद भारत ने वहां के लोगों के लिए वीजा सेवाएं बाधित कर दी थी।
द वॉशिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट की माने तो कुछ महीनों पहले ही इस हत्याकांड से जुड़ा 90 सेकेंड का एक सीसीटीवी फुटेज जारी किया गया था। जिसमें निज्जर ग्रे पिकअप ट्रक को पार्किंग से बाहर निकलता दिखाई दिया था। इसके बाद हमलावर सिख गेटअप में आते हैं। उन्होंने 2 कारों से निज्जर के पिकअप ट्रक का काफी समय तक पीछा किया था। कुछ देर में हत्यारों की कार ट्रक के सामने आ गई। इस पर निज्जर ने ट्रक रोक दिया। इसके बाद कार से 2 लोग काली स्वेटशर्ट पहनकर बाहर निकले। उन्होंने निज्जर पर काफी देर तक गोलियां चलाईं और फिर कार में बैठकर फरार हो गए।
पुलिस को दो युवकों ने बयान भी दिए थे, जो घटना के वक्त पास ही एक ग्राउंड में खेल रहे थे। उन्होंने बताया कि आरोपियों के मुंह ढंके हुए थे। उन्होंने निज्जर पर ऑटोमेटिक वेपन से करीब 50 राउंड फायर किए और फरार हो गए। पुलिस के मुताबिक, निज्जर के शरीर पर करीब 34 गोलियां लगी थीं। कुछ महीनों पहले कनाडा की पुलिस ने दावा किया था कि उन्होंने निज्जर के मामले में आरोपियों की पहचान कर ली है, और जल्द ही उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा।