Thursday , May 30 2024

केजरीवाल के जेल में रहने से दिल्ली के कई काम रूके, बोली परनीत कौर

कहा, हाईकोर्ट की फटकार के बाद भी मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा नहीं दे रहे थे अरविंद
खबर खास, पटियाला :
‘दिल्ली के स्कूलों में छात्रों को किताबें नहीं मिल रहीं और इसे लेकर हाईकोर्ट ने अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली दिल्ली सरकार को जमकर फटकार लगाई है।’ यह कहना है पटियाला लोकसभा से भाजपा प्रस्ताशी एंव सांसद परनीत कौर का।
उन्होंने कहा कि दिल्ली हाईकोर्ट ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा न देने पर बीते शुक्रवार को अरविंद केजरीवाल को कड़ी फटकार लगाई। कोर्ट ने एक याचिका पर सुनवाई दौरान यहां तक कह दिया कि आप पार्टी वाली दिल्ली सरकार को केवल सत्ता में दिलचस्पी है। दिल्ली में शिक्षा के स्तर को बढ़ाचढ़ाकर बताने वाले अरविंद केजरीवाल आज बच्चों को किताबें न मिलने की बात से जानबूझकर बेखबर हैं, यदि बच्चों की शिक्षा का फिक्र केजरीवाल को होता तो वह बच्चों के भविष्य को प्राथमिकता देते हुए अपने पद से अस्तीफा दे देकर बाबा साहिब अंबेडर जी के बनाए संविधान का सम्मान बढ़ाते।
परनीत कौर ने कहा कि अदालत में एमसीडी कमिश्नर की ओर से दलील दी गई थी कि नोटबुक, स्टेशनरी आइटम, यूनिफॉर्म और स्कूल बैग का वितरण न होने का एक बड़ा कारण स्थछाई समितियों का गठन न होना है। समितियों के पास ही पांच करोड़ रुपये से अधिक के ठेके दोने की शक्ति और अधिकार है और समितियां का चेयरमैन मुख्यमंत्री हो जो इस समय जेल में हैं। चेयरमैन के बिना समितियां कोई फैसला कानून अनुसार नहीं ले सकती। लिहाजा बच्चे इस समय किताबों के साथ-साथ स्टेशनी और स्कूल बैग से भी वंचित हैं।
आम आदमी पार्टी पर निशाना साधते हुए सांसद परनीत कौर ने कहा कि आप के जो मंत्री दावा करते थे कि दिल्ली में एजूकेशन ढांचा विश्र सेतर का बना दिया गया है, वह अपने सत्ता मोह के चलते बच्चों को किताबें और अन्य जरूरी सामान मुहैया करवाने को तैयार नहीं हैं। सत्ता का मोह आज आप लीडरशिप की नजर में शिक्षा से कहीं बड़ा हो चुका है।