Monday , April 15 2024

फिरोजपुर में दो करोड़ की लागत से तैयार देश का पहला ऐतिहासिक सारागढ़ी म्यूजियम लोकार्पित

सारागढ़ी वार मेमोरियल का काम भी जोरों पर
हुसैनीवाला शहीदी स्मारक की कायाकल्प के लिए 25 करोड़ खर्च किए जाएंगे
खबर खास, फिरोजपुर :
सारागढ़ी की ऐतिहासिक लड़ाई में दुश्मनों से कड़ी टक्कर लेते हुए शहादत प्राप्त करने वाले 21 सिख बहादुर सैनिकों की बेमिसाल बलिदान, बहादुरी और जूझारूपन को समर्पित 2 करोड़ की लागत के साथ बना देश का पहला ऐतिहासिक सारागढ़ी म्युजियम आज लोकार्पित किया गया। आज विधायक रणबीर सिंह भुल्लर और डिप्टी कमिश्नर राजेश धीमान ने सारागढ़ी म्युजियम का लोकार्पण किया।
उन्होंने बताया कि इस म्युजिय़म में सारागढ़ी जंग के समय इस्तेमाल किए गए सिगनलिंग तकनीक के आर्कीफैक्ट्स, इक्यूपमैंट, कोडिंग, डीकोडिंग को दिखाया गया है, जिससे यहां आने वाले लोगों खासतौर पर स्कूली छात्रों को इतिहास के साथ तकनीकी ज्ञान भी मिलेगा। इस म्यूजियम में सात गैलरियां बनी हैं जो सारागढ़ी पोस्ट और जंग के विभिन्न पहलुओं से तस्वीर पेश करती हैं। पहली गैलरी में सारागढ़ी पोस्ट का मॉडल बनाया गया है और सारागढ़ी जंग का इतिहास भी दिखाया गया है, जिसमें सारागढ़ी के शहीदों के बारे में जानकारी है।
गैलरी- 2 में थ्रीडी रंगमंच बनाया गया है जहां हवलदार ईशर सिंह के नेतृत्व में हज़ारों अफगानों के साथ लड़े 21 सिख सैनिकों की शूरवीरता को समर्पित सारागढ़ी की ऐतिहासिक जंग को दर्शाती पूरी मूवी दिखाई जाती है। गैलरी-3 में हील्योग्राफी गैलरी है, जिसमें उस समय पर दो किले और एक पोस्ट में किस प्रकार सिगनलिंग होती थी के बारे में लाईव वी.एफ.एक्स. तकनीक के द्वारा दिखाया गया है। गैलरी-4 में टूडी मूवी चलती है, जिसमें इस लड़ाई के बाद के हालातों, घटनाओं, सम्मानों के बारे में विस्तार सहित जानकारी दी गई है। अगली गैलरी में इस लड़ाई के दौरान सिख फौजियों और अफगानों की तरफ से इस्तेमाल किए गए हथियारों और बंदूकों को प्रतिकों द्वारा दिखाया गया है। छटी गैलरी जिसको लास्ट मैन गैलरी भी कहा जाता है आखिरी शहीद गुरमुख सिंह को समर्पित है।

यहां आखिरी गैलरी-7 है जो कि श्रद्धांजलि और सेल्फी गैलरी है। यहां सिख फौजियों की बंदूक रखी गई है जहां सैंसर लगाया गया है जिसको छूकर शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाती है। इसी गैलरी में सारागढ़ी जंग के शहीदों का लाइव कटआऊट लगाया गया है जिसके पास खड़े होकर लोग सेल्फी ले सकते हैं। इस गैलरी में उस समय की अखबारों की कटिंग और महारानी विक्टोरिया द्वारा किया सम्मान, शहीदों के बने यादचिन्हों के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई है। इन गैलरियों में टच पैनल लगाए गए हैं जिनमें सारागढ़ी जंग और शहीदों के बारे में पंजाबी और अंग्रेज़ी भाषा में विस्तार से जानकारी ली जा सकती है।
सारागढ़ी के शहीदों के महान बलिदान की याद में बनाया यह अजायबघर 36 सिख के 21 सैनिकों की बेमिसाल गाथा जो कि समाना रिज्ज (अब पाकिस्तान) में घटी थी, जिन्होंने 12 सितम्बर, 1897 को 10,000 अफगानियों के हमले के खि़लाफ़ लड़ाई लड़ते हुए बलिदान दे दिया था, भारतीय फ़ौज के इतिहास में हमेशा मिसाल बनी रहेगी।
पंजाब सरकार द्वारा 2 करोड़ रुपए की राशि ख़र्च कर सारागढ़ी जंग के शहीदों की याद में सारागढ़ी मेमोरियल जिसका नींव पत्थर मुख्यमंत्री द्वारा रखा गया था, का काम भी ज़ोरों पर है। इसके साथ ही सरहदी जि़ले फिऱोज़पुर में पर्यटन उद्योग को बढ़ावा मिलेगा और देश-विदेश के लोगों को पंजाबियों के कीमती बलिदानों के बारे में भी जानकारी मिलेगी।
इस मौके पर डिप्टी कमिश्नर राजेश धीमान ने कहा कि फिऱोज़पुर में पर्यटन को प्रोत्साहित करने और ऐतिहासिक महत्व वाले स्थानों के विकास के लिए बड़े स्तर पर काम किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सारागढ़ी वॉर म्युजिय़म और सारागढ़ी युद्ध स्मारक के अलावा हूसैनीवाला शहीदी स्मारक का भी नवीनीकरण किया जायेगा, जिसके अंतर्गत शहीदी स्मारकों, पार्कों और इमारतों का सौन्द्रीयकरण, पार्किंग व्यवस्था, तालाब और सैलानियों की सुविधा के लिए 25 करोड़ रुपए की ख़र्च किये जाएंगे।
इस मौके पर एस.डी.एम. फिरोजपुर चारूमिता, सारागढ़ी मेमोरियल ट्रस्ट के मैंबर डॉ. अनिरुद्ध गुप्ता, विनोद चौहान डायरैक्टर वीचायो वोयेज के अलावा अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

The post फिरोजपुर में दो करोड़ की लागत से तैयार देश का पहला ऐतिहासिक सारागढ़ी म्यूजियम लोकार्पित first appeared on Khabar Khaas.