Breaking News

हमीरपुरः PNB में हुआ 38 लाख रुपये का गबन, असिस्टेंट मैनेजर के खिलाफ दर्ज हुई FIR

हमीरपुर। पंजाब नेशनल बैंक के उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले की ब्रांच में लॉकडाउन के बीच बैंक का 38 लाख रुपये का गबन करने के मामले में मैनेजर ने यहां आज कोतवाली में असिस्टेंट मैनेजर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। असिस्टेंट मैनेजर की सैलरी खाते में पड़ी छह लाख रुपये की धनराशि भी सीज कर दी गई है।

पंजाब नेशनल बैंक में लाँकडाउन के दौरान असिस्टेंट मैनेजर ने बैंक का 38 लाख रुपये निकालकर गबन कर डाला। इतनी बड़ी धनराशि मैनेजर की गैर मौजूदगी में निकाली गयी। इसकी भनक तब मैनेजर को लगी जब उनके यूजर आईडी में बैंक की धनराशि के निकाले जाने का मेसेज मिला। रविवार को यहां मैनेजर की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है।

हमीरपुर  के जेल तालाब रमेड़ी के पास पंजाब नेशन बैंक (पीएनबी) की मेन शाखा संचालित है। यहां मुहम्मद आमिर असिस्टेंट मैनेजर की पोस्ट में कार्यरत है। वहीं नागेन्द्र सिंह ब्रांच मैनेजर है। कोरोना संक्रमण के मामलों का ग्राफ बढऩे पर पिछले माह बैंक में कर्मचारियों की संख्या कम हो गयी थी।

लाँकडाउन को देखते हुये मैनेजर ने बैंक का कामकाज निपटाने के लिये अपनी यूजर आईडी असिस्टेंट मैनेजर मुहम्मद आमिर को दे दी थी। इसने पहले साढ़े 7 लाख रुपये निकाले फिर कई बार में लगातार यूजर आईडी जरिये बैंक का 38 लाख रुपये निकाले लिये। ये पूरी धनराशि असिस्टेंट मैनेजर ने बैंक में अपनी सैलरी खाते में जमा कर दी। और तो और सैलरी खाते से इसने 38 लाख रुपये निकाल भी लिये।

Loading...

इतनी बड़ी धनराशि के निकलने की जानकारी होते ही मैनेजर का पारा बढ़ गया। उसने बैंक में इस मामले की जांच करने के बाद आज यहां कोतवाली में असिस्टेंट मैनेजर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने को तहरीर दी। पुलिस ने असिस्टेंट मैनेजर के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा भी दर्ज कर लिया है।

हमीरपुर शहर कोतवाल मनोज कुमार शुक्ला ने बताया कि पीएनबी में 28 अप्रैल से लेकर 29 मई तक मैनेजर की यूजर आईडी के जरिये असिस्टेंट मैनेजर ने धनराशि निकालकर इसे अपने सैलरी खाते में जमा कर दी फिर पूरी धनराशि निकाल ली गई। बताया कि मैनेजर की तहरीर पर मुकदमा असिस्टेंट मैनेजर के खिलाफ लिखा गया है। जांच करायी जा रही है।

कोतवाल मनोज कुमार शुक्ला ने बताया कि पीएनबी हमीरपुर शाखा के मैनेजर नागेन्द्र सिंह ने इस मामले में असिस्टेंट मैनेजर के सैलरी खाते को सीज कर दिया है। सैलरी में करीब छह लाख रुपये जमा थे जिसे बैंक ने सीज करने की कार्रवाई की है।

कोतवाल मनोज कुमार शुक्ला  ने मैनेजर की तहरीर के आधार पर बताया कि पीएनबी में काम करने वाले कर्मी साढ़े सात लाख रुपये ओवर ड्राफ्ट भुगतान ले सकते है। उन पर इतनी धनराशि का कर्ज होता है। लेकिन असिस्टेंट मैनेजर ने साढ़े सात रुपये निकलने के साथ ही बैंक का 38 लाख रुपये निकालकर लिया है जो गबन के दायरे में आता है। बताया कि कोरोना कर्फ्यू के दौरान मैनेजर भी यहां नियमित रूप से नहीं आते थे। वह बैंक का कामकाज निपटाने के लिये असिस्टेंट मैनेजर या किसी अन्य स्टाफ को यूजर आईडी दे देते थे। जिसका दुरुपयोग कर बैंक को भारी चपत लगाई गयी है।

error: Content is protected !!
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/