Breaking News

योगी सरकार के इस आदेश से काँप उठा कोरोना, कहा- 1 केस मिलते ही 20 मकान होंगे सील

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने कंटेमेंट जोन का दायरा नए सिरे से तय किया जाएगा. मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी से इस संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं. इसके मुताबिक एक केस आने आने के बाद 25 मीटर और एक से अधिक होने पर 50 मीटर को कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा.

इसी के साथ 25 मीटर के दायरे में 20 घर और 50 मीटर के दायरे में 60 घर होंगे. इसमें क्षेत्र के हिसाब से बदलाव हो सकता है. मुख्य सचिव ने जानकारी देते हुए कहा कि ‘अंतिम पॉजिटिव केस के सैंपल कलेक्शन की तिथि से 14 दिन तक संबंधित क्षेत्र कंटेनमेंट जोन बना रहेगा.’

उन्होंने आगे कहा कि ‘यदि अंतिम पॉजिटिव केस को सैंपल कलेक्शन की तिथि 14 दिनों तक कोई अन्य केस उस क्षेत्र में नहीं पाया जाता है तो ऐसे क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन की सूची से बाहर कर दिया जाएगा, जिला सर्विलांस अधिकारी रोजाना कोविड-19 केस की जानकारी जिला प्रतिरक्षण अधिकारी को देगा.’

बता दें कि कंटेनमेंट जोन में स्थित घरों के लिए एक टीम लगाई जाएगी. एक क्षेत्र में एक से ज्यादा कोरोना पॉजिटिन केस मिलने पर कलस्टर मानते हुए इसके मध्य बिंदु को एपीसेंटर चिह्नित करते हुए 50 मीटर के दायरे को कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा. प्रत्येक कंटेनमेंट जोन में स्थित घरों को आच्छादित करने के लिए एक टीम लगाई जाएगी.

प्रत्येक टीम अपने क्षेत्र के घरों का भ्रमण कर अपने कार्यों की रिपोर्ट निर्धारित प्रपत्र पर भरेगी. हर टीम में स्वास्थ्य कर्मी, निकाय कर्मी या ग्राम विकास पंचायती राज कर्मी और स्थानीय प्रशासन का एक-एक सदस्य होगा.

कोविड से बचाव की जानकारी देंगे

बताते चले कि प्रत्येक टीम के सदस्य अपने क्षेत्र में घर-घर जाकर जनसामान्य को कोविड रोग से बचाव और लक्षणों के बारे में जामकारी देंगे. खांसी, जुखाम, बुखार, सांस लेने में परेशानी आदि के लक्षण वाले रोगियों को चिह्नित कर ऐसे रोगियों का नाम, पूरा पता, मोबाइल नंबर और लक्षणों का विवरण अपने प्रपत्र पर भरेंगे.

हर टीम में एक सुपरवाइजर होगा, जो काम समाप्त होने पर सभी सूचनाओं को जिला सर्विलांस अधिकारी को उपलब्ध कराएगा, जिले की सूचना राज्य मुख्यालय को उपलब्ध कराई जाएगी.

Loading...

जानें, मुख्य बातेः-

कंटेनमेंट जोन में सैंपल कलेक्शन टीम कोविड-19 मरीज का नमूना लैब.

एक कोविड-19 पॉजिटिव केस मिलने पर कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा.

एक से अधिक केस वाले क्षेत्र को कलस्टर मानते हुए, वहां पर 50 मीटर के रेडियस में लगभग 60 आवासों का सर्वेक्षण किया जाएगा.

बहुमंजिला भवनों में एक कोविड केस पर जिस तल पर आवास होगा उसे कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा.

कंटेनमेंट जोन में टीम द्वारा चिह्नित किसी भी संभावित रोगी का चिह्नीकरण के उपरांत 24 घंटे में सैंपल कलेक्ट करना होगा.

कंटेनमेंट जोन को सूचीबद्ध कर इसकी सूची को रोजाना शाम छह बजे तक डीएम व एसएसपी कार्यालय को उपलब्ध कराना होगा.

error: Content is protected !!
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/