Breaking News

मनसुख हिरेन मर्डर केस में ATS का संदेह, पहले क्लोरोफॉर्म देकर किया गया बेहोश, फिर की गई हत्या

एंटीलिया केस से जुड़े मनसुख हिरेन मर्डर केस की जांच कर रही एटीएस को इस बात के पुख्ता सबूत मिले हैं कि मनसुख हिरेन की हत्या से पहले उन्हें क्लोरोफॉर्म देकर बेहोश किया गया था। बताया जा रहा है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर एटीएस ने ये शक जताया है। मनसुख के चेहरे पर चोट के कई निशान भी मिले हैं।

महाराष्ट्र एटीएस ने इस मामले में आरोपी पूर्व कॉन्स्टेबल विनायक शिंदे और नरेश गोर से पूछताछ भी की थी और पूछा था कि हिरेन की मौत कैसे हुई? एटीएस ने इस मामले में सचिन वाजे की लोकेशन तलाशने के लिए मोबाइल टॉवर की लोकेशन भी निकाल रही है। इसके अलावा कई गाड़ियों की जांच भी की जा रही है।

Loading...

वहीं, अब मनसुख हिरेन की मौत मामले की जांच भी अब एनआईए अपने हाथों में ले रही है। बता दें कि, एंटीलिया केस से ही मनसुख हिरेन की मौत को जोड़कर देखा जा रहा है। वहीं, मनसुख हिरेन की जांच कर रही महाराष्ट्र एटीएस को आशंका है कि उन्हें क्लोरोफॉर्म दिए जाने की कोशिश की गई होगी तो उसने संघर्ष किया होगा और इस दौरान ही जोर-जबरदस्ती में उसके चेहरे पर चोटें आई हैं। जांचकर्ताओं को संदेह है कि क्लोरोफॉर्म देने के बाद मनसुख हिरेन बेहोश हो गया होगा और फिर उसकी हत्या के लिए ले जाया गया।

error: Content is protected !!
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/