Breaking News

बड़ी खबर: खतरे में फंसी महाराष्ट्र सरकार की कुर्सी, क्या बीजेपी दोहराएगी बिहार वाला किस्सा?

मुंबई के अंटीलिया प्रकरण में अब नया मोड़ आ गया है, जिससे अब महाराष्ट्र सरकार की मुश्किलें बढ़ सकती हैं और इससे शिवसेना-एनसीपी के बीच भी दूरी बढ़ने के आसार हैं. इस विवाद का सीधा फायदा भाजपा को हो सकता है. नया मामला पुलिस आयुक्त पद से हटाए गए परमबीर सिंह से जुड़ा है, जिन्होंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर सनसनीखेज राज खोले हैं.

परमबीर सिंह ने आरोप लगाया है कि महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पुलिस अधिकारियों से हर महीने 100 करोड़ रुपये की वसूली करवाना चाहते थे, इतना ही नहीं, पत्र में उन्होंने ये भी लिखा है कि देशमुख अधिकारियों को घर बुलाकर वसूली के गुर भी सिखाते थे. वहीं, देशमुख ने इन आरोपों को झूठा बताया है और जांच से बचने के लिए इसे नया पैंतरा करार दिया है.

 

Loading...

अब परमबीर सिंह के लेटर बम से उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली सरकार मुश्किल में आ गई है. उद्धव ठाकरे को भेजे गए आठ पेज के लेटर का असर सीधे मुकेश अंबानी के घर अंटीलिया केस पर तो पड़ेगा ही, इस लेटर से महाराष्ट्र में सरकार गिरने का भी खतरा बढ़ गया है. चर्चा है कि यह लेटर कांड के बाद शिवसेना एनसीपी के साथ अपने रिश्तों पर सोचने पर मजबूर हो गई है. दूसरी तरफ बीजेपी शिवसेना के साथ मिलकर महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कोशिशें तेज कर दी हैं.

महाराष्ट्र में हो सकता है बिहार की तर्ज पर गठबंधन!

इस मामले ने बिहार में भी उपमुख्यमंत्री रहे तेजस्वी यादव पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद महागठबंधन की सरकार खतरे में आ गई थी और जदयू  ने राजद से नाता तोड़कर भाजपा से नाता जोड़ लिया और बिहार में एनडीए के गठबंधन की सरकार बनी थी. अब महाराष्ट्र में भी इसके आसार दिख रहे हैं.

error: Content is protected !!
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/