Breaking News

इन 5 राज्यों के लोगों को दिल्ली में एंट्री लेने से पहले कराना होगा ये टेस्ट, यहाँ पढ़ें पूरी गाइडलाइन

कोरोना (Coronavirus) के बढ़ते मामलों से सरकारें एक बार फिर चिंता में आ गई हैं. इस वक्त देश के 5 राज्यों की स्थिति चिंताजनक बताई जा रही है जिनमें महाराष्ट्र, केरल, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और पंजाब शामिल है. इन राज्यों से सामने आ रहे कोरोना के मामलों को देखते हुए दिल्ली सरकार ने बड़ा फैसला लिया है.

बताया जा रहा है कि महाराष्ट्र, केरल, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और पंजाब से दिल्ली आने वाले लोगों को दिल्ली में एट्री लेने से पहले कोरोना टेस्ट कराना होगा. उनकी RT-PCR की रिपोर्ट नेगेटिव आने पर ही उन्हें दिल्ली में एंट्री मिलेगी. इस फैसले को लेकर औपचारिक आदेश आज यानी 24 फरवरी को जारी होगा.

दरअसल कुछ राज्यों में कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते दिल्ली सरकार अलर्ट हो गई है. दिल्ली के लोगों को सुरक्षित रखने के लिए फैसला लिया गया है कि 5 राज्यों से दिल्ली आने वाले लोगों को कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट लेकर आना अनिवार्य होगा. महाराष्ट्र, केरल, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और पंजाब से दिल्ली आने वाले लोगों को नेगेटिव RT-PCR दिखाने पर ही दिल्ली में एंट्री मिलेगी.

जानकारी के मुताबिक बीते 1 हफ्ते में जो नए कोरोना मामले आए हैं उसमें 86% इन्हीं पांच राज्यों से हैं, जिसके बाद दिल्ली सरकार ने यह फैसला किया है. इन पांच राज्यों के नोडल ऑफिसर से कहा जाएगा कि वह अपने यहां से दिल्ली जा रहे लोगों की 72 घंटे तक पुरानी नेगटिव RT-PCR टेस्ट रिपोर्ट सुनिश्चित करें उसके बाद ही दिल्ली की तरफ प्रस्थान करने दें

Loading...

यह आदेश 26 फरवरी शुक्रवार की आधी रात से लेकर 15 मार्च दोपहर 12:00 बजे तक लागू रहेगा. यह आदेश फ्लाइट,ट्रेन और बस से दिल्ली आने वाले यात्रियों पर लागू होगा जबकि कार से दिल्ली आने वाले यात्री इससे बाहर रहेंगे.

कोरोना के नए स्ट्रेन से बढ़ सकता है खतरा

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS), दिल्ली के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया (Randeep Guleria) ने कहा कि देश में कोरोनावायरस के नए स्ट्रेन (Covid Strains) के सामने आने के बाद संक्रमण के खिलाफ लड़ाई और कठिन होने वाली है. उन्होंने लोगों को चेतावनी दी कि देश में पाए गए कोविड के नए वेरिएंट्स एंटीबॉडी डेवलप कर चुके लोगों को भी दोबारा संक्रमित कर सकता है. विशेषज्ञों ने महाराष्ट्र के अमरावती, यवतमाल, अलोका और पूरे विदर्भ क्षेत्र में कोरोना के अलग स्वरूप का पता लगाया है.

जिन विशेषज्ञों ने इसका पता लगाया है उनमें डॉ शशांक जोशी और डॉ टीपी लहाने शामिल हैं. लहाने मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च के डायरेक्टर हैं. ये दोनों महाराष्ट्र कोविड टास्क फोर्स का भी हिस्सा हैं. लहाने ने कहा कि इन तीन जिलों के सैंपल में नए स्ट्रेन का पता चला है. लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि इसके खतरे का पता लगाने के लिए और अधिक जांच की जरूरत है.

error: Content is protected !!
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/