Breaking News

ऑस्ट्रेलिया में ऐसा क्या हुआ कि फेसबुक ने लगा दिया न्यूज कंटेंट पर बैन, मॉरिसन ने पीएम मोदी से भी की बात

फेसबुक अब दुनियाभर के कई लोगों के जीवन का हिस्सा बन गया है. फेसबुक से सोशल लाइफ में ही नहीं, बल्कि करेंट अफेयर्स को लेकर भी लोग अपडेट हैं. दरअसल, सभी मीडिया संस्थान फेसबुक के माध्यम से भी लोगों तक खबरें पहुंचा रहे हैं. अब फेसबुक ने ऑस्ट्रेलिया में बड़ा कदम उठाते हुए सभी न्यूज कंटेंट पर बैन लगा दिया है, इसके बाद फेसबुक के जरिए न्यूज नहीं पढ़ सकते हैं. अगर यूजर्स को न्यूज पढ़नी है तो उन्हें सीधे या अन्य प्लेटफॉर्म के जरिए न्यूज देखनी या पढ़नी होगी.

दरअसल, फेसबुक ने यूजर्स के फीड में दिखने वाले न्यूज कंटेंट पर बैन लगाया है, इसके बाद किसी को भी न्यूज फीड में न्यूड लिंक्स नहीं दिखेंगे. फेसबुक के इस बैन के बाद काफी बवाल मचा हुआ है, यहां तक कि प्रधानमंक्षी स्कॉट मॉरिसन भी इस मामले को सुलझाने में लगे हुए हैं. मॉरिसन ने शुक्रवार को फेसबुक से अनुरोध किया कि वह ऑस्ट्रेलिया के उपयोगकर्ताओं पर लगाई रोक को हटा ले और समाचार प्रकाशित करने वाले व्यवसायों से वार्ता शुरू करे.

बताया जा रहा है कि मॉरिसन ने कहा कि उन्होंने फेसबुक विवाद के बारे में गुरुवार को भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से बात की। वह ब्रिटेन, कनाडा और फ्रांस के नेताओं के साथ भी ऑस्ट्रेलिया के इस प्रस्तावित कानून के बारे में बात कर रहे हैं. मॉरिसन ने ऑस्ट्रेलिया के लोगों की समाचार तक पहुंच और इसे साझा करने से फेसबुक की ओर से गुरुवार को रोके जाने के कदम को एक खतरा बताया.

Loading...

फेसबुक ने ये बैन क्यों लगाया है?

फेसबुक ने यह बैन ऑस्ट्रेलिया सरकार के एक बिल के बाद लगाया है. फेसबुक ने वहां के मीडिया बार्गेनिंग बिल को लेकर यह कदम उठाया है. ऑस्ट्रेलिया में फेसबुक पर समाचार साझा किए जाने के एवज में मीडिया संस्थानों को (सोशल मीडिया कंपनी द्वारा) भुगतान किए जाने के संबंध में एक प्रस्तावित किए गए इस कानून के खिलाफ जवाबी कार्रवाई करते हुए इस कंपनी ने यह कदम उठाया है. ऐसे में जानते हैं कि आखिर इस बिल में ऐसा क्या है कि जिसके बाद फेसबुक को न्यूज आर्टिकल्स पर बैन लगाना पड़ा.

क्या है वो बिल?

दरअसल, सोशल मीडिया कंपनी के इस कदम से सरकार, मीडिया और शक्तिशाली प्रौद्योगिकी कंपनियों के बीच तकरार बढ़ गई है. मीडिया बार्गेनिंग बिल की वजह से ही सरकार और फेसबुक के बीच तकरार बढ़ गई है. रिपोर्ट्स के अनुसार, इस बिल में कहा गया है कि फेसबुक और ऐसी ही दूसरी कंपनियों को मीडिया संस्थानों को उनके लिंक्स यूज करने के लिए पैसा देना चाहिए, क्योंकि इससे फेसबुक को काफी फायदा होता है. वहीं फेसबुक का मानना है कि न्यूज कंटेंट से कोई फायदा नहीं होता है और ऐसे पैसे देने के लिए बाध्य करना ठीक नहीं है.

मीडिया संस्थानों को लिंक इस्तेमाल के लिए पैसे देने संबंधित बिल को लेकर फेसबुक ने गुस्सा जाहिर किया है. साथ ही कार्रवाई में न्यूज कंटेंट पर बैन लगा दिया है. हालांकि, ऑस्ट्रेलिया की सरकार इस गलत कदम बता रही है. फेसबुक के रोक लगाने की देश में व्यापक तौर पर आलोचना हुई क्योंकि इस सोशल मीडिया कंपनी ने महामारी, सार्वजनिक स्वास्थ्य और आपातकालीन सेवाओं तक पहुंच रोक दी है, हालांकि ऐसा अस्थायी तौर पर किया गया है.

error: Content is protected !!
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/