Breaking News

प्रधानमंत्री मोदी के बयान पर राकेश टिकैत का जवाब, MSP पर कानून बना दो, हम बातचीत को तैयार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को दोहराया कि उनकी सरकार गरीबों को समर्पित सरकार है और गरीबी उन्मूलन के लिए कृषि सुधार जरूरी है। इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने कहा कि एमएसपी खत्म नहीं होगा और किसान बात करें, आंदोलन खत्म करें। प्रधानमंत्री मोदी की इस अपील पर किसान नेता राकेश टिकैत की प्रतिक्रिया सामने आई है। राकेश टिकैत ने कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को लेकर उलझाया जा रहा है। एमएसपी पर कानून बनने से ही देश के किसानों को फायदा होगा। एमएसपी पर कानून नहीं होने से ही व्यापारी किसानों को लूटते हैं। तीनों कृषि कानून वापस हों और एमएसपी पर कानून बने, तभी समस्या का समाधान होगा।

उन्होंने कहा कि जिस तरह फ्लाइट के टिकट की कीमत दिन में चार बार ऊपर-नीचे होती है, उस तरह अनाज का दाम भूख के आधार पर नहीं तय होगा। उन्होंने कहा कि आज भी ग्रामीण क्षेत्रों में दूध 22 से 28 रुपये प्रति किलो के हिसाब से बिक रहा है। टिकैत ने आगे कहा, ‘’प्रधानमंत्री मोदी ने जिस तरह से जनता से गैस पर सब्सिडी छोड़ने की अपील की थी, उसी तरह अब उन्हें सांसदों और विधायकों से अपील करनी चाहिए कि वह जो पेंशन ले रहे हैं, वह छोड़ दें।’’ उन्होंने कहा, ‘’अगर सांसद और विधायक पेंशन छोड़ देंगे तो किसान भारतीय यूनियन उनका धन्यवाद करेगा।’’ टिकैत ने कहा कि हम वार्ता को तैयार हैं, हमारा पंच भी वही है, मंच भी वही है, एमएसपी पर कानून बना दो, काले कानून वापस ले लो हम वार्ता को तैयार हैं।

Loading...

Image result for farmers protest ghazipur

उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन (Farmers Protest) को जाट आंदोलन बताए जाने पर राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कहा कि ये मसला पहले पंजाब का और हरियाणा का था। फिर जाटों का बना, अब यह आंदोलन छोटे बड़े किसानों का हो गया है, सभी किसान एक हैं, छोटा बड़ा क्या है। राकेश टिकैत ने कहा कि देश मे भूख पर व्यापार नही होगा। अनाज की कीमत भूख पर तय नही होगी। देश मे पानी से सस्ता दूध बिकता है। उसका भी रेट तय होगा।

error: Content is protected !!
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/