Breaking News

आपके आँखों की रोशनी छीन सकती है ये 3 छोटी-सी गलतियाँ, जानिए कही आप भी तो नहीं है कर रहे है?

आँख या नेत्र जीवधारियों का वह अंग है जो प्रकाश के प्रति संवेदनशील है। यह प्रकाश को संसूचित करके उसे तंत्रिका कोशिकाओ द्वारा विद्युत-रासायनिक संवेदों में बदल देता है। उच्चस्तरीय जन्तुओं की आँखें एक जटिल प्रकाशीय तंत्र की तरह होती हैं जो आसपास के वातावरण से प्रकाश एकत्र करता है. मध्यपट के द्वारा आंख में प्रवेश करने वाले प्रकाश की तीव्रता का नियंत्रण करता है.

इस प्रकाश को लेंसों की सहायता से सही स्थान पर केंद्रित करता है (जिससे प्रतिबिम्ब बनता है) इस प्रतिबिम्ब को विद्युत संकेतों में बदलता है; इन संकेतों को तंत्रिका कोशिकाओ के माध्यम से मस्तिष्क के पास भेजता है।

आंखें प्रकृति की एक अनुपम देन और शरीर का एक महत्त्वपूर्ण भाग हैं। ये शरीर की दो खिड़कियां हैं या यों कहिए कि शरीर में फिट कैमरे की तरह हैं, जो सामने घट रही घटनाओं को जस का तस प्रस्तुत करती हैं। पर कभी आपने सोचा है कि यदि आंख कमजोर हो या उससे कम दिखे और उसकी सही देखभाल न की जाए तो नजरदोष बढ़ जाता है। यहां तक कि देखने के तरीके में भी अंतर आ जाता है। अच्छाखासा इंसान नजरदोष के कारण भैंगेपन से भी ग्रस्त हो सकता है। सवाल यह उठता है कि हमारी आँखें कैसे ठीक रहें तो इनको ठीक रहने के लिए आपको भूलकर भी ये तीन गलतियों को नही करना चाहिए।

Loading...

आंखों का चेकअप- भले ही आपकी आंखें स्वस्थ हो लेकिन फिर भी रूटीन चैकअप करवाना ना भूलें। जो लोग चश्मों का इस्तेमाल करते हैं उनके लिए आंखों के साथ चश्मे की जांच करवाना भी बहुत जरूरी है।

बिना परामर्श आई ड्राप ना डालें- कुछ लोग बिना डॉक्टर की सलाह से आंखों में आई-ड्राप डालते हैं जोकि बहुत गलत है। इससे कई बार इंफैक्शन दूर होने की बजाए आंखों में एलर्जी हो जाती है, जिससे आंखें खराब हो सकती है।

दूसरों का चश्मा न लगाएं- कई बार लोग गलती से किसी दूसरे का चश्मा पहन लेते हैं जिससे आंखों की कई समस्याएं हो सकती है क्योंकि हर व्यक्ति के चश्मे का नंबर अलग-अलग होता है इसलिए अन्य व्यक्ति का चश्मा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

error: Content is protected !!
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/