Breaking News

जब सेना प्रमुख नरवणे बोले- तनाव बुरी वस्तु नहीं है, मैं भी तनाव में हूं

हाल ही भारतीय सैनिकों के तनाव पर जारी रिपोर्ट को सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने मानने से इन्कार कर दिया. उन्होंने बोला तनाव बुरी वस्तु नहीं है. मैं भी तनाव में हूं.

 


उन्होंने बोला कि केवल 400 सैनिकों पर आधारित रिपोर्ट से हम किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकते हैं. साथ ही बोला कि सैनिकों के तनाव को कम करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं और जवानों के सुसाइड की घटनाओं में भी कमी आई है.

थिंक टैंक युनाइटेड सर्विस इंस्टीट्यूशन ऑफ इंडिया (यूएसआई) के शोध में यह बताया था कि सेना हर वर्ष खुदकुशी और अन्य घटनाओं के चलते करीब 100 से अधिक सैनिक यानी हर तीसरे दिन एक सैनिक को खो रही है.

Loading...

इसके अतिरिक्त अध्य्यन में बताया था कि तनाव के चलते सैनिक उच्च रक्तचाप, दिल की रोग , मनोविकार, न्यूरोसिस और अन्य रोग की चपेट में आ रहे हैं. हालांकि टकराव होने पर यूएसआई की वेबसाइट से इस रिपोर्ट को पिछले हफ्ते हटा लिया गया.

जनरल नरवणे ने बोला कि उन्होंने रिपोर्ट पढ़ी, ये केवल चार सौ लोगों पर सर्वे किया गया था. इस रिपोर्ट में नमूनों का आकार उचित नहीं था,साथ ही जनरल ने बोला कि ऐसे शोध के लिए नमूने का आकार 19,000 होना चाहिए था.

यूएसआई की वेबसाइट पर पिछले महीने अपलोड किए गए शोध में बोला गया था कि बीते 15 सालों में इंडियन आर्मी और रक्षा मंत्रालय ने तनाव कम करने के विभिन्न तरीकों को लागू किया, लेकिन इसके नतीजे आशा के अनुसार नहीं रहे. हालांकि अब वेबासाइट पर ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं है.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/