Breaking News

पूर्वी लद्दाख में भीषण ठंड से चाइना का ‘छूटा पसीना’, एलएसी से हटाए 10 हजार सैनिक

भारत और चाइना के बीच लंबे समय से चल रहे सीमा टकराव के बीच चाइना ने पूर्वी लद्दाख में असली नियंत्रण रेखा (एलएसी) से अपने 10 हजार सैनिकों को हटा लिया है. बोला जा रहा है कि चाइना ने यह निर्णय पूर्वी लद्दाख में पड़ रही भीषण ठंड की वजह से किया है. जानकारी के मुताबिक भारतीय सीमा के पास 200 किलोमीटर के दायरे से चाइना ने अपने सैनिक हटाए हैं.

इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के मुताबिक सूत्रों ने बताया कि पूर्वी लद्दाख में भारतीय सीमा के पास उस इलाके में जहां चीनी सैनिक पारंपरिक रूप से प्रशिक्षण किया करते थे, अब वो स्थान खाली दिख रही है. पिछले वर्ष मार्च-अप्रैल के दौरान जब दोनों पक्षों के बीच तनाव जन्मा था, जब चाइना ने सीमा पर 50 हजार सैनिक तैनात किए थे. तब से ये सैनिक वहीं तैनात थे.
भारत ने वापस भेजा पीएलए का सैनिक
पूर्वी लद्दाख के पैंगोंग सो के दक्षिणी किनारे पर शुक्रवार की प्रातः काल चाइना की जनमुक्ति सेना (पीएलए) के एक सैनिक को पकड़ा गया था जो असली नियंत्रण रेखा (एलएसी) पार कर हिंदुस्तान की तरफ आ गया था. जानकारी के मुताबिक पीएलए के सैनिक को सोमवार प्रातः काल 10 बजकर 10 मिनट पर पूर्वी लद्दाख के चुशुल-मोल्डो सीमा बिंदु पर चाइना को वापस सौंपा गया.

इससे पहले 18 अक्तूबर को चीन-भारत सीमा पर एक चरवाहे की उसकी याक खोजने में सहायता करने के दौरान एक सैनिक कथित तौर पर लापता हो गया था. हिंदुस्तान और चाइना की सेना के बीच पूर्वी लद्दाख में आठ महीनों से भी अधिक समय से गतिरोध बना हुआ है. यह गतिरोध पिछले वर्ष मई में प्रारम्भ हुआ था जब पैंगोंग झील इलाके में दोनों पक्षों के बीच झड़प हुई थी.

Loading...

शिंघुआ यूनिवर्सिटी में चाइना के नेशनल स्ट्रेटजी इंस्टीट्यूट के अध्ययन विभाग के निदेशक कियान फेंग ने इसे लेकर बोला कि लापता चीनी सैनिक की वापसी दोनों राष्ट्रों के बीच सीमा नियमन तंत्र पर बनी सहमति के अनुरूप हुई है. चीनी सैनिक की वापसी पर उन्होंने कहा, चार दिनों के अंदर सैनिक को वापस कर हिंदुस्तान ने सीमा पर तनाव कम करने की सद्भावना दिखाई है.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/