Breaking News

बीएसपी को नहीं मिला 20 हजार रुपये से अधिक का एक भी चंदा, एनसीपी को मिले 60 करोड़, चुनाव आयोग ने जारी की रिपोर्ट

उत्तर प्रदेश की पॉलिटिक्स लगभग एक दशक से दूर मायावती की बसपा को वर्ष 2019-20 के दौरान 20 हजार रुपये से अधिक का एक भी चंदा नहीं मिला है. यह जानकारी चुनाव आयोग की रिपोर्ट से मिली है. चुनाव आयोग ने कई राष्ट्रीय और क्षेत्रिय सियासी पार्टियों को वर्ष 2019-20 के दौरान मिले चंदे की जानकारी को सार्वजनिक कर दिया है. इसके अतिरिक्त महाराष्ट्र सरकार में अहम किरदार निभाने वाली राष्ट्रीय कांग्रेस (NCP) को इस दौरान करीब 60 करोड़ रुपये का चंदा मिला, जो कि वर्ष 2018-19 की तुलना में मिले चंदे से पांच गुणा अधिक है.

एनसीपी को 2018-19 में 12.05 करोड़ रुपये का चंदा मिला था. एनसीपी को सबसे अधिक चंदा देने वालों में शिरके कंस्ट्रक्शन टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेल अव्वल नंबर पर है जिसने 25 करोड़ रुपये की राशि दी है. इसके बाद पंचशील कॉरपोरेट पार्क प्राइवेट लिमिटेड ने 7.5 करोड़ रुपये, कोविड वैक्सीन बनाने वाले सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया ने 3 करोड़ रुपये और फिनोलेक्स इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने 1.25 करोड़ रुपये दिए. एनसीपी को केवल एक इलेक्टोरल ट्रस्ट (हार्मनी इलेक्टोरल ट्रस्ट) ने 1.5 करोड़ रुपये दिए.

चुनाव आयोग को अभी तक बीजेपी, कांग्रेस, सीपीआई, सीपीएम, तृणमूल कांग्रेस पार्टी जैसी राष्ट्रीय पार्टियों को मिले चंदे की रिपोर्ट नहीं मिली है.

Loading...

चुनाव आयोग की वेबसाइट पर जिन क्षेत्रीय पार्टियों की सालाना आय अपलोड की गई है उनमें से AIADMK ने 20 हजार रुपये से ऊपर के चंदे की जानकारी दी है. पार्टी को कुल 52.17 करोड़ रुपये का चंद मिला. इसमें से 46.78 करोड़ रुपये पार्टी को टाटा-ग्रुप के नियंत्रण वाले प्रोग्रेसिव इलेक्टोरल ट्रस्ट की तरफ से मिले हैं. वहीं, DMK ने कुल 48.31 करोड़ रुपये का चंदा मिलने की घोषणा की है जिसमें 45.5 करोड़ रुपये इलेक्टोरल बॉन्ड्स के जरिए मिले हैं. इलेक्टोरल बॉन्ड्स का पारदर्शिता को लेकर अकसर प्रश्न उठते रहते हैं.

प्रोग्रेसिव इलेक्टोरल ट्रस्ट ने बीजू जनता दल को भी 25.29 करोड़ रुपये का चंदा दिया है. जेडीयू को वर्ष 2019-20 में 20 हजार से अधिक का 6.08 करोड़ रुपये चंदा मिला. इसमें से 1.25 करोड़ रुपये समाज इलेक्टोरल ट्रस्ट ने दिए. समाज इलेक्टोरल ट्रस्ट ने राष्ट्रीय लोक दल को भी 1.5 करोड़ रुपये का चंदा दिया.

वहीं, प्रूडेंट इलेक्टोरल ट्रस्ट ने शिरोमणी अकाली दल और एलजेपी को 1-1 करोड़ रुपये दिए और ट्रियूम्फ इलेक्टोरल ट्रस्ट ने तेलुगू देशम पार्टी को 1 करोड़ रुपये का चंदा दिया.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/