Breaking News

अमेरिकी राष्ट्रपति पद पाने के लिए जो बाइडन को मिला इस आखिरी बाधा से निजात

पश्चिमी वर्जीनिया की तरफ से अमेरिकी राष्ट्रपति पद के चुनाव परिणामों को प्रमाणित करने के साथ ही जो बाइडन की जीत की आखिरी बाधा भी दूर हो गई है। अब सभी 50 अमेरिकी राज्यों व डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया ने 3 नवंबर को हुए चुनाव के परिणाम को मंजूरी दे दी है।

 

सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक, डेमोक्रेटिक उम्मीदवार के तौर पर उतरे निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन करीब 306 निर्वाचक मत जीतने में सफल रहे हैं, जबकि रिपब्लिकन उम्मीदवार व वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को 232 वोट मिले हैं। राष्ट्रपति बनने के लिए कुल उपलब्ध 538 निर्वाचक मत में से 270 जीतने आवश्यक होते हैं।
सीएनएन के मुताबिक, पश्चिमी वर्जीनिया ने बुधवार को राष्ट्रपति चुनाव परिणामों को मंजूरी दे दी। पश्चिमी वर्जीनिया ने अपनी पांचों निर्वाचक वोट संकट में फंसे वर्तमान राष्ट्रपति ट्रंप के खाते में दर्ज कराई है। सोमवार को 538 सदस्यीय इलेक्टोरल कॉलेज सोमवार को आपस में मिलकर चुनावी प्रक्रिया को आगे बढ़ाएंगे।

बता दें कि हर अमेरिकी राज्य के अलग-अलग निर्वाचक मत तय हैं। यह मत विभाजन सदन में उस राज्य के प्रतिनिधियों की संख्या से तय होता हैं। अमेरिकी राज्यों में सबसे ज्यादा 55 निर्वाचक मत कैलिफोनिया के ह्रैं। कैलिफोर्निया के बाद 38 निर्वाचक मत के साथ टेक्सॉस दूसरे नंबर पर है।

बता दें कि राज्यों की तरफ से प्रमाणपत्र ट्रंप की उस टिप्पणी के बाद आए हैं, जिसमें अमेरिकी राष्ट्रपति ने हार नहीं मानने और बिना आधार के चुनावों में धांधली की बात कहते हुए ऐतराज जताया है। ट्रंप अभियान की तरफ से चुनाव परिणामों को चुनौती देने के लिए दर्जन भर से ज्यादा मुकदमे दायर किए हुए हैं।

Loading...

हालांकि ट्रंप ने सत्ता हस्तांतरण की प्रक्रिया को अनुमति नहीं दी थी, लेकिन आखिरकार उन्होंने 23 नवंबर को हार मान ली थी। अब बाइडन की टीम को एजेंसियों में अतिरिक्त कार्यालय और संघीय संसाधनों के उपयोग का मौका मिलेगा। बाइडन 20 जनवरी को अमेरिका के 47वें राष्ट्रपति के तौर पर कामकाज संभालेंगे।

अब यह होगी प्रक्रिया
निर्वाचक मंडल प्रक्रिया के अगले अहम कदम के तौर पर अब निर्वाचकों की बैठक आयोजित की जाएगी, जो कानूनी तौर पर दिसंबर के दूसरे बुधवार के बाद आने वाले पहले सोमवार को आयोजित की जाती है।

इस साल यह बैठक 14 दिसंबर को आयोजित होगी। इसके बाद निर्वाचक मतों को अधिकारियों के हवाले कर दिया जाएगा और 6 जनवरी को कांग्रेस (अमेरिकी संसद) के संयुक्त सत्र में उन्हें गिना जाएगा।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/