Breaking News

Coronavirus : जॉनसन ने शोध के आधार पर जारी की यह नई फिल्म, जिसमें दी गई यह बड़ी सलाह

पिछले साल चीन से फैले कोरोना संक्रमण का दौर अभी तक खत्म नहीं हुआ है। पूरी दुनिया के वैज्ञानिक और शोधकर्ता कोरोना के प्रसार को रोकने के उपायों पर काम कर रहे हैं। इसी बीच ब्रिटेन में बोरिस जॉनसन सरकार ने बुधवार को शोध के आधार पर एक नई फिल्म जारी की, जिसमें बताया गया है कि घर के अंदर के स्थानों को हवादार बनाने और ताजी हवा में रहने से कोरोना वायरस से संक्रमण के जोखिम को 70 फीसदी तक कम किया जा सकता है।


इंग्लैंड इस समय दो दिसंबर तक एक महीने के लॉकडाउन में है और लोगों को इस बात की चिंता है किए संक्रमण की वजह से क्रिसमस से पहले प्रतिबंधों में छूट की अनुमति नहीं मिल सकती है। वहीं, मंगलवार शाम तक, पूरे ब्रिटेन में 20,051 नए मामले और 598 मौतें दर्ज की गईं।
लीड्स यूनिवर्सिटी में वैज्ञानिकों के साथ बनाई गई फिल्म बताती है कि कोरोना वायरस बिना ताजी हवा के अंतरिक्ष में हवा में कैसे संक्रमित होते हैं, संक्रमित कणों में सांस लेने वाले लोगों के जोखिम को बढ़ाते हैं, और नियमित रूप से संलग्न क्षेत्रों को हवादार करके संक्रमण के जोखिम को काफी कम किया जा सकता है।
अधिकारियों ने कहा कि अनुसंधान से पता चला है कि ताजी हवा वाले कमरे में कणों से संक्रमण का खतरा 70 फीसदी तक कम हो सकता है, क्योंकि ताजी हवा कणों को पतला करती है। विशेषज्ञ दिन भर में नियमित रूप से थोड़ी देर के लिए, कम से कम 10 से 15 मिनट तक खिड़कियों को खोलने की सलाह देते हैं और कमरे में संक्रमित कणों को हटाने के लिए खिड़कियों को लगातार थोड़ी देर तक खुली छोड़ने के लिए कहते हैं।

उन्होंने यह भी सलाह दी कि कोई भी घरेलू प्रणाली जो हवा को बाहर करने का काम करती है, जिसमें रसोई या बाथरूम में लगा निस्सारित्र पंखा (एग्जॉस्ट फैन) शामिल है, का उपयोग सही और नियमित रूप से संक्रमित कणों को हटाने के लिए एक अतिरिक्त विधि के रूप में किया जा सकता है।
फिल्म में सलाह देने वाले लीड्स विश्वविद्यालय के कैथरीन नॉक ने कहा कि ‘जब एक कमरे में कोई ताजी हवा नहीं आती है, और जहां लोग गायन और भाषण जैसी गतिविधियों के माध्यम से बड़ी मात्रा में एरोसोल पैदा करते हैं, तो वहां कोरोना वायरस के संचरण होने की सबसे अधिक संभावना होती है।’

उन्होंने कहा कि ‘ताजी हवा बाहर से आनी चाहिए – हवा को फिर से इकट्ठा करने का मतलब है कि एयरोसोल्स युक्त वायरस का बाहर के कमरे में जाने के बजाय उसी कमरे में घूमते रहना। वेंटिलेशन इकाइयां या कोई भी घरेलू सिस्टम जो हवा को बाहर करने का काम करते हैं, केवल उतनी ही प्रभावी हो सकती हैं, जितना कि खिड़कियों या दरवाजों को खोलना, जब तक वे एक ही तरह हवा के पुनरावृत्ति को सीमित नहीं करते।’

कोरोना वायरस हवा के माध्यम से बूंदों और छोटे कणों द्वारा फैलता है- जिसे एरोसोल के रूप में जाना जाता है। जब संक्रमित व्यक्ति नाक और मुंह से सांस लेते हैं, जैसे कि वे सांस लेते हैं, बोलते हैं या खांसते हैं। उस वक्त वे धूम्रपान करने के एक समान तरीके जैसा व्यवहार करते हैं, लेकिन अदृश्य होते हैं।

Loading...

वायरस का प्रसारण ज्यादातर घर के अंदर होता है। घर के अंदर होने के कारण और ताजी हवा नहीं आने पर संक्रमण के कण हवा में घंटों तक या और ज्यादा समय तक बने रह सकते हैं। अधिकारियों ने कहा कि लोग इन कणों की उपस्थिति में एक ही कमरे में समय बिताते हैं, जिससे अधिक संभावना होती है कि वे संक्रमित हो सकते हैं।

 

 

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/