Breaking News

त्रिवेन्द्र सरकार ने लिया सबको चौका देना वाला फैसला, सीधे 37 लाख महिलाओं को मिलेगा लाभ, जानकर चौक जायेंगे आप

देहरादून: प्रदेश की करीब 37 लाख महिलाओं (बालिग) के जीवन में नया सवेरा आया है। प्रदेश मंत्रिमंडल ने बुधवार को राज्य की सभी बालिग महिलाओं को भूमि का मालिकाना हक देने का नीतिगत फैसला कर लिया है। वे भूमि के खातों में किस तरह से खातेदार बनेंगी, यह तय करने के लिए कैबिनेट ने मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन कर दिया है।

कमेटी में अपर मुख्य सचिव (मुख्यमंत्री), सचिव राजस्व और सचिव न्याय को शामिल किया गया है। यह कमेटी महिलाओं को संपत्ति में स्वामित्व देने पर विचार करेगी और अगली कैबिनेट की बैठक में अपनी रिपोर्ट रखेगी। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने यह घोषणा की थी। ‘अमर उजाला’ ने महिलाओं को भूमिधरी का अधिकार देने के मामले को प्रमुखता से उठाया था।

बुधवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में हुई बैठक में सैद्धांतिक तौर पर निर्णय ले लिया गया। शासकीय प्रवक्ता मदन कौशिक ने बताया कि कैबिनेट ने फैसला ले लिया है और अब कमेटी अपने सुझाव देगी, जिन पर आगामी कैबिनेट बैठक में फैसला लिया जाएगा। बकौल कौशिक भूमि पर अधिकार मिल जाने के बाद  महिलाएं अपने नाम पर दर्ज संपत्ति पर स्वरोजगार के लिए बैंकों से ऋण ले सकेंगी, वे आर्थिक रूप से मजबूत होंगी। बुधवार को हुई कैबिनेट बैठक में कुल 13 प्रस्ताव आए, जिनमें से 11 को मंजूरी मिल गई।

Loading...

महिलाओं के आत्मनिर्भर बनने की खुलेगी राह उत्तराखंड की आर्थिकी की धुरी माने जाने वाली मां और बालिग बेटियों के आत्मनिर्भर होने की राह खुलेगी। यह उन्हें जमीन पर मालिकाना हक मिलने से मुमकिन होगा। राज्य में काम कर रहे स्वयं सहायता समूह में शामिल कई महिलाओं ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से यह शिकायत की थी कि वे अपने दम पर स्वरोजगार स्थापित करना चाहती हैं लेकिन उनके पास पूंजी नहीं हैं।

काम धंधा शुरू करने के लिए बैंक उन्हें लोन नहीं देते हैं क्योंकि उनके नाम कोई संपत्ति नहीं हैं। इसके बाद मुख्यमंत्री ने प्रदेश की सभी बालिग महिलाओं को भूमिधरी का अधिकार देने की घोषणा की। इस घोषणा के बाद बुधवार को कैबिनेट ने भी अपनी सहमति दे दी। अब कैबिनेट को मुख्य सचिव की अध्यक्षता में गठित कमेटी के सुझावों के मिलने का इंतजार रहेगा।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/