Breaking News

जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की ऑनलाइन बैठक, जाने हो सकती है यह जांच

जिले में कोरोना प्रसार पर नियंत्रण के लिए जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की मंगलवार को ऑनलाइन बैठक हुई। इसमें जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने अधिकारियों के साथ कोरोना से जुड़े मुद्दों पर चर्चा की।

इस दौरान दिल्ली में बढ़ते हुए कोरोना मामलों को ध्यान में रखते हुए दिल्ली से आने वाले लोगों की रैंडम सैंपलिंग (किसी को भी रोककर नमूना लेना) का निर्णय लिया गया। जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को टीम बनाकर डीएनडी व चिल्ला बॉर्र्डर की ओर से आने वाले लोगों की रैंडम सैंपलिंग कर एंटीजन जांच करने के निर्देश दिए हैं। इस कार्य में पुलिस का सहयोग प्राप्त करने के लिए भी निर्देश दिया गया है।

दरअसल, भले ही लोगों को लॉकडाउन के बाद अनलॉक में रियायतें मिल गईं हों, लेकिन जिले में कोरोना संक्रमण का खतरा टला नहीं है। दिल्ली में बढ़ती मरीजों की संख्या को देखते हुए प्रशासन ने दिल्ली से सटे इलाकों और कंटेनमेंट जोन में सतर्कता बढ़ा दी है। प्रदूषण और सर्दी के कारण कोरोना संदिग्धों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। इसे देखते हुए प्रशासन ने कोरोना की जांच पर खास ध्यान देना शुरू कर दिया है। कोरोना रोकथाम के लिए सभी जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। आम लोगों से कोरोना गाइडलाइन का पालन करने की अपील की जा रही है।

Loading...

जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने बैठक में कहा कि जो भी संक्रमित व्यक्ति मिल रहे हैं उनके कांटेक्ट ट्रेसिंग पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। संक्रमित व्यक्तियों का सभी सरकारी व प्राइवेट अस्पतालों में कोविड-19 के प्रोटोकॉल के अनुरूप इलाज संभव कराने के उद्देश्य से प्रशासनिक व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों द्वारा निरंतर स्तर पर कार्रवाई सुनिश्चित की जाए।

जिन व्यक्तियों की जांच कराई जा रही है और जो पॉजिटिव आ रहे हैं, उन्हें यथाशीघ्र इलाज उपलब्ध कराने की व्यवस्था स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी करें। इसके अलावा संस्थानों को जिलाधिकारी ने कहा है कि अगर वह कर्मचारियों की रैंडम सैंपलिंग कराना चाहते हैं तो बता सकते हैं। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व मुनींद्र नाथ उपाध्याय, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. दीपक ओहरी सहित प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मौजूद रहे।

कोविड अस्पतालों के निदेशकों के साथ बैठक आज
बैठक में निर्णय लिया गया कि जिलाधिकारी बुधवार दोपहर 1 बजे सभी निजी व सरकारी कोविड-अस्पतालों के निदेशकों के साथ बैठक करते हुए गहन समीक्षा करेगी, ताकि जनपद में संक्रमण फैलने से रोका जा सके और संक्रमितों का इलाज प्रोटोकॉल के अनुरूप हो सके।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/