Breaking News

US Election 2020 LIVE: इतने मतों से व्हाइट हाउस की दौड़ में पिछड़ते दिख रहे ट्रंप, यहां जाने अपडेट्स

US Presidential Elections 2020 Live Updates: अमेरिका में मतदान के दो दिन बाद भी राष्ट्रपति पद की तस्वीर साफ नहीं हो सकी है। मतगणना के बीच डेमोक्रेट उम्मीदवार जो बाइडन ने 264 निर्वाचक मंडल मतों के साथ निर्णायक बढ़त बना ली है। वहीं, मौजूदा राष्ट्रपति और रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप 214 मतों के साथ व्हाइट हाउस की दौड़ में पिछड़ते दिख रहे हैं।

ट्रंप कानूनी लड़ाई के फैसले पर आगे बढ़ गए हैं। दूसरी ओर, उनके समर्थक धांधली का आरोप लगाते हुए कई राज्यों में मतगणना केंद्रों के बाहर जुट गए हैं। समर्थकों ने कई जगह हंगामा और प्रदर्शन किया। वहीं डोनाल्ड ट्रंप उत्तरी कैरोलिना में आगे चल रहे हैं जबकि नेवादा और एरिजोना में बाइडन बढ़त बनाए हुए हैं।

इस मुकाबले में जीत किसकी होगी यह कहना अभी जल्दबाजी होगी
इस मुकाबले में जीत किसकी होगी यह कहना अभी जल्दबाजी होगी क्योंकि हजारों वोटों की गिनती अभी बाकी है। बाइडन 270 इलेक्टोरल कॉलेज वोट की ओर बढ़ रहे हैं, जो राष्ट्रपति के तौर पर निर्वाचित होने के लिए जरूरी है। उन्होंने विस्कॉन्सिन और मिशीगन में जीत हासिल कर ली है।
जॉर्जिया में बाइडन ने बनाई बढ़त
अमेरिका में राष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडन जॉर्जिया प्रांत में मतगणना में अपने रिपब्लिकन प्रतिद्वंद्वी, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रपं से आगे हो गए हैं। शुक्रवार सुबह तक, बाइडन ने गिने गए मतों में ट्रंप पर बढ़त बना ली। ट्रंप के लिए जॉर्जिया प्रांत में जीतना जरूरी है। यह लंबे समय से रिपब्लिकन पार्टी का गढ़ रहा है।

अमेरिका की गद्दी कौन संभालेगा, अभी तक तय नहीं
अमेरिका में तीन नवंबर को चुनाव हुआ लेकिन अमेरिका की गद्दी कौन संभालेगा, ये अभी तक तय नहीं हुआ है। कानूनी दांव पेच और आरोप-प्रत्यारोप में वोटों की गिनती घिर गई है। जो बाइडन मैजिक नंबर के बिल्कुल करीब हैं। मगर ट्रंप अभी भी जीत के दावे कर रहे हैं।

डाक से आए वोटों को चुनौती देने की कानूनी कार्रवाई शुरू की जा चुकी है
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार सुबह (भारतीय समय के अनुसार) मीडिया के सामने आकर एक बार फिर से ये साफ कर दिया कि चुनाव नतीजे को मंजूर करने और उसके मुताबिक आचरण करने का उनका कोई इरादा नहीं है। ट्रंप की तरफ से उन सभी राज्यों में मतगणना या डाक से आए वोटों को चुनौती देने की कानूनी कार्रवाई शुरू की जा चुकी है, जहां मुकाबला कांटे का रहा। कोर्ट में डाली जा रही याचिकाओं के निपटारे में वक्त लगेगा। इस बीच देश अनिश्चय में फंसा रहेगा।

तीन दिन बाद भी हार-जीत साफ नहीं हो सकी
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के तीन दिन बाद भी हार-जीत साफ नहीं हो सकी है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप हार मानने को तैयार नहीं हैं। वहीं, न्यूज एजेंसी एएफपी के मुताबिक, बाइडन जॉर्जिया में ट्रंप से आगे निकल गए हैं।

बाइडन को अब तक 50.5 फीसदी वोट
फॉक्स न्यूज के आंकड़ों के मुताबिक, डेमोक्रेट उम्मीदवार जो बाइडन को अब तक कुल 73,488,248 वोट हासिल हुए हैं। जो कि पूरे मतों का 50.5 फीसदी है। वहीं दूसरी ओर रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप को 47.9 फीसदी वोट शेयर के साथ 69,622,407 वोट मिले हैं।
डेमोक्रेटिक पार्टी धांधली से जीतना चाहती है चुनाव: ट्रंप
ट्रंप ने संवाददाता सम्मेलन में किसी पत्रकार के सवाल का जवाब नहीं दिया, लेकिन आरोप लगाया कि डेमोक्रेटिक पार्टी धांधली से वर्ष 2020 का राष्ट्रपति चुनाव जीतना चाहती है। हालांकि, उन्होंने अपने दावे के समर्थन में कोई सबूत पेश नहीं किया।
केवल वैध मतों की गिनती होती तो आसानी से जीत जाता
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दावा किया है कि अगर केवल ‘वैध मतों’ की ही गिनती होती तो वह कांटे की टक्कर वाले राष्ट्रपति चुनाव में आसानी से जीत गए होते। व्हाइट हाउस में गुरुवार को संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए ट्रंप ने संकेत दिया कि अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के नतीजों का फैसला अंतत: उच्चतम न्यायालय में होगा क्योंकि उन्होंने चुनाव में कथित धांधली के खिलाफ बड़े पैमाने पर वाद दाखिल करने की योजना बनाई है।
पहली बार इतनी बड़ी संख्या में डाले गए मेल इन वोट्स
अमेरिका में ऐसा पहली बार हुआ जब इतनी बड़ी संख्या में मेल इन वोट्स डाले गए।  इस बार लगभग दस करोड़ से अधिक वोट लोगों ने इलेक्शन डे के पहले ही डाल दिए और लगभग 6 करोड़ वोट चुनाव वाले दिन यानी तीन नवंबर को डाले गए।
नेवादा में ट्रंप से आगे निकले बाइडन
नवीनतम अपडेट के अनुसार, नेवादा राज्य में बाइडन 604,251 वोट (49.43 प्रतिशत) के साथ आगे हैं, जबकि ट्रंप को अबतक कुल 592,813 वोट (48.50 प्रतिशत) मिले हैं।
जहां कोरोना ने बरपाया था कहर, वहां ट्रंप को मिले सबसे ज्यादा वोट
अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के बीच एक सर्वे सामने आया है जिसमें कोरोना संकट से सबसे अधिक प्रभावित इलाकों में पड़े वोट के रुख के बारे में बताया गया है। इसके अनुसार, जिन काउंटी में कोरोना वायरस ने कहर बरपाया था उन्हीं इलाकों में डोनाल्ड ट्रंप को सबसे ज्यादा वोट मिले हैं।
अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रिकॉर्ड मतदान
अमेरिका में इस वर्ष हुए राष्ट्रपति चुनाव में करीब 16 करोड़ लोगों ने अपने मताधिकारों का इस्तेमाल किया जो एक रिकॉर्ड है। चुनाव पर नजर रखने वाली साइट ‘यूएस इलेक्शन प्रोजेक्ट’ के प्रारंभिक अनुमान के मुताबिक इस वर्ष 23 करोड़ 90 लाख लोग मतदान करने के योग्य थे। उनमें से करीब 16 करोड़ लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया।

आने वाले सप्ताह में यह संख्या और भी बढ़ने की उम्मीद है। इसके अनुसार तीन नवंबर के चुनाव में रिकॉर्ड 66.9 फीसदी मतदान हुआ, जो वर्ष 1900 के बाद का सर्वाधिक मतदान है। वर्ष 1900 के चुनाव में 73.7 फीसदी मतदान हुआ था।
अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट को करना चाहिए फैसला
डोनाल्ड ट्रंप बोले, ‘मैं आसानी से कानूनी वोटों के साथ संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति पद को जीत सकता हूं। पर्यवेक्षकों को किसी भी तरह से, अपना काम करने की अनुमति नहीं दी गई थी और इसलिए, इस अवधि के दौरान स्वीकार किए गए वोटों को अवैध वोट करार देना चाहिए। अमेरिकी उच्चतम न्यायालय को इसका फैसला करना चाहिए।’
जीत के बेहद करीब पहुंचे बाइडन
अमेरिका में कुछ राज्यों में मतगणना शुरू होने के बाद डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता जो बाइडन राष्ट्रपति चुनाव जीतने के बेहद करीब दिखाई दे रहे हैं। वहीं रिपब्लिकन पार्टी के उनके प्रतिद्वंद्वी डोनाल्ड ट्रंप के पुन: निर्वाचित होने की संभावनाएं कम दिखाई दे रही हैं।
बढ़ाई गई बाइडन की सुरक्षा
जो बाइडन की सुरक्षा बढ़ाई गई है।
एबीसी, सीबीएस और एनबीसी ने ट्रंप के संबोधन से बनाई दूरी
मीडिया संगठन ‘एबीसी’, ‘सीबीएस’ और ‘एनबीसी’ अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के उस संबोधन से दूरी बनाते दिखे, जिसमें वह राष्ट्रपति चुनाव को उनसे चुराने का आरोप लगा रहे थे। ‘एमएसएनबीसी’ के ब्रायन विलियम्स ने भी राष्ट्रपति के भाषण को बीच में रोका। वहीं ‘फॉक्स न्यूज चैनल’ और ‘सीएनएन’ ने उनका पूरा संबोधन प्रसारित किया।
उत्तरी कैरोलिना में ट्रंप आगे तो नेवादा और एरिजोना में बाइडेन को मिली बढ़त
पेंसिल्वेनिया (20 चुनावी वोट), जॉर्जिया (16 चुनावी वोट), उत्तरी कैरोलिना (15 चुनावी वोट), एरिजोना (11 चुनावी वोट) और नेवादा (6 चुनावी वोट) से चुनाव की तस्वीक साफ होड जाएगी। डोनाल्ड ट्रंप उत्तरी कैरोलिना में आगे चल रहे हैं लेकिन जॉर्जिया में वे पिछड़ गए हैं। वहीं नेवादा और एरिजोना में बाइडन बढ़त बनाए हुए हैं।
मतगणना रोकने की ट्रंप की मांग से रिपब्लिकन नेताओं में मतभेद
चुनाव में गलत तरह से जीत घोषित करने और पेनसिल्वेनिया तथा अन्य राज्यों में मतगणना रोकने के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रयासों से कुछ रिपब्लिकन नेताओं ने खुद को अलग कर लिया और फिर से राष्ट्रपति बनने के लिए उतावले ट्रंप को ऐसे में अपनी पार्टी में मजबूत समर्थन नहीं मिल रहा है। केंटकी में सीनेट का चुनाव जीत चुके ट्रंप के सहयोगी एवं सीनेट के बहुमत नेता मिच मैककॉनेल ने संवाददाताओं से कहा कि मतगणना समाप्त नहीं हुई है और चुनाव जीतने का दावा किया जा रहा है।
लोकतंत्र कई बार उलझावपूर्ण हो जाता है, थोड़ा धैर्य रखने की जरूरत : बाइडेन
अमेरिका चुनाव के नतीजों में आने में लग रहे समय पर राष्ट्रपति पद के डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन ने कहा कि लोकतंत्र कई बार उलझावपूर्ण हो जाता है और धैर्य रखने की जरूरत होती है। बाइडेन ने अमेरिकियों से मतों की गिनती पूरी होने तक शांत रहने और धैर्यपूर्वक इंतजार करने की अपील की।

जनता अपना राष्ट्रपति चुनती है, राष्ट्रपति अपने मतदाता नहीं चुनते: न्यूयार्क की अटॉर्नी जनरल
न्यूयार्क की अटॉर्नी जनरल लेटिटिया जेम्स ने अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव की निष्पक्षता पर सवाल उठाने के लिए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रति नाराजगी जताई है और कहा है कि अमेरिका में जनता अपना राष्ट्रपति खुद चुनती है और जनता की जो इच्छा है वह सुनी जाएगी।
मिशिगन और जॉर्जिया में याचिका खारिज
अमेरिका की अदालतों ने चुनाव में कथित गड़बड़ी के खिलाफ राष्ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप के प्रचार अभियान की ओर से मिशिगन और जॉर्जिया में दर्ज कराए गए मुकदमों को खारिज कर दिया है।

ट्रंप प्रचार अभियान ने मिशिगन में अनुपस्थित मतपत्रों (जब कोई व्यक्तिगत रूप से मतदान केन्द्र में नहीं जा कर बल्कि अन्य किसी माध्यम से मतदान करता है) की गिनती रोकने का अनुरोध किया था, वहीं जॉर्जिया में प्रचार अभियान ने आरोप लगाया कि वहां अनुचित मतों की भी गणना की जा रही है।
जॉर्जिया में बाइडेन कर सकते है उलटफेर
अमेरिका के जॉर्जिया में अब लड़ाई उलटफेर की तरफ बढ़ती हुई दिख रही है। यहां पहले डोनाल्ड ट्रंप बढ़त बनाए हुए थे लेकिन अब जो बाइडेन आगे बढ़ रहे हैं। दोनों उम्मीदवारो के बीच अब केवल दो हजार वोटों का अंतर रह गया है। अबतक लगभग 98 प्रतिशत वोटों की गिनती हो गई है। राज्य में केवल 16 इलेक्टोरल वोट हैं।
फेसबुक ने ट्रंप समर्थकों के एक समूह को किया बैन
फेसबुक ने डोनाल्ड ट्रंप समर्थकों के एक बड़े समूह को प्रतिबंधित कर दिया है। इन्होंने ‘स्टॉप द स्टील’ अभियान शुरू किया था। इस समूह में हिंसा फैलाने की बात की जा रही थी और वोटों की गिनती में धांधली रोके जाने की अपील की गई थी। अमेरिकी चुनाव को लेकर फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम सख्ती बरतते आए हैं। उन्होंने कई पोस्ट पर रोक लगाई है।
डोनाल्ड ट्रंप ने लगाया फर्जीवाड़े का आरोप
डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर चुनाव में फर्जीवाड़े का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि अगर केवल कानूनी वोटों को गिना जाए तो मैं आसानी से जीत जाऊंगा, लेकिन फर्जी वोटों को गिना जा रहा है। मुझे लगता है कि हम ये चुनाव आसानी से जीत जाएंगे। हमारे पास बहुत सबूत हैं, हम इस लड़ाई को अदालत लेकर जाएंगे।
मिशिगन और जॉर्जिया में ट्रंप द्वारा दायर केस खारिज
मिशिगन और जॉर्जिया में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की तरफ से दायर केस खारिज कर दिए गए हैं। ट्रंप ने इन दोनों राज्यों में पोस्टल बैलेट की गिनती रोकने की मांग की थी। जिसे दोनों राज्यों की अदालत ने मानने से इनकार कर दिया।
बाइडेन ने ट्वीट कर कहा कि ‘कोई भी हमारे लोकतंत्र को हमसे दूर नहीं ले जाएगा’
जो बाइडेन ने ट्वीट कर कहा कि ‘कोई भी हमारे लोकतंत्र को हमसे दूर नहीं ले जाएगा। अभी नहीं, कभी नहीं। अमेरिका बहुत दूर आ गया है, बहुत सारी लड़ाइयां लड़ी हैं, और ऐसा होने देने के लिए बहुत अधिक संघर्ष किया है।’
ट्रंप बोले- ‘हम इस तरह से चुनाव की चोरी होने नहीं दे सकते ‘
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि ‘हमें लगता है कि हम बहुत आसानी से चुनाव जीत जाएंगे। हमें लगता है कि बहुत अधिक मुकदमेबाजी होने वाली है क्योंकि हमारे पास बहुत सारे सबूत हैं और यह खत्म होने जा रहा है, शायद, उच्चतम न्यायालय के स्तर …. हम इस तरह से चुनाव की चोरी होने नहीं दे सकते हैं।’
हिंसा की आंशका में कई हिरासत में
ट्रंप के धांधली का आरोप लगाने के बाद उनके समर्थक गई राज्यों में सड़क पर उतर गए हैं। कई जगह उनके पास हथियार भी दिखे हैं। बाइडेन समर्थकाें के भी प्रदर्शन करने से हिंसा की आशंका है। डेनवर में झड़प के बाद पुलिस ने चार प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया। मिनियापोलिस में और पोर्टलैंड में भी गिरफ्तारी हुई है। वाशिंगटन, फिनिक्स, मिनपोलिस में भी कई जगह प्रदर्शन और गिरफ्तारी हुई है।
ट्रंप बोले- ‘यदि आप कानूनी मत को गिनते हैं, तो मैं आसानी से जीत जाता’
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि ‘यदि आप कानूनी मत को गिनते हैं, तो मैं आसानी से जीत जाता। यदि आप अवैध वोटों की गिनती करते हैं, तो वे हमसे चुनाव चुराने की कोशिश कर सकते हैं …. मैंने पहले ही निर्णायक रूप से कई महत्वपूर्ण राज्यों को जीत लिया है …. हम ऐतिहासिक संख्याओं से जीते हैं।’
जीत के करीब पहुंचे जो बाइडेन हुए सक्रिय
अमेरिकी चुनाव में मतगणना जारी है और जीत के करीब पहुंच चुके जो बाइडेन लगातार प्रेस ब्रीफिंग कर रहे हैं। उन्होंने कोविड-19 और अर्थव्यवस्था की स्थिति पर चर्चा की।

जो बाइडेन ने लोगों से शांत रहने की अपील
जो बाइडेन ने लोगों से शांत रहने की अपील की। कहा प्रक्रिया जारी है और मतगणना पूरी हो रही है।

सीनेट और हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स के भी चुनाव हुए
राष्ट्रपति चुनाव के अलावा सीनेट और हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स के भी चुनाव हुए हैं। सीनेट में रिपब्लिकन और हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स में डेमोक्रेट बहुमत में हैं। रिपब्लिकन अपनी सीटें कायम रखकर सीनेट में बढ़त जारी रखेगा। वहीं, कुछ सीटों पर हार के बावजूद हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स में डेमोक्रेट आगे रहेंगे। हालांकि अभी इनकी मतगणना नहीं हुई है।

बाइडेन ने ट्वीट कर कहा- ‘हमारी शासन प्रणाली से दुनिया ईर्ष्या करती है’
जो बाइडेन ने ट्वीट कर कहा कि ‘लोकतंत्र में कभी-कभी गड़बड़ी होती है, इसलिए कभी-कभी इसके लिए थोड़ा धैर्य की आवश्यकता होती है। लेकिन उस धैर्य को 240 वर्षों से अधिक समय से पुरस्कृत किया गया है, हमारी शासन की एक प्रणाली है, जिससे दुनिया ईर्ष्या करती है।’

1992 के बाद दूसरे कार्यकाल के लिए चुनाव हारने वाले पहले राष्ट्रपति बन सकते हैं ट्रंप
अमेरिका के वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अगर यह चुनाव हार जाते हैं तो वह पिछले तीन दशक के पहले ऐसे अमेरिकी राष्ट्रपति बन जाएंगे जिसे दूसरे कार्यकाल के लिए चुनाव में हार का सामना करना पड़ा हो। इससे पहले साल 1992 में जॉर्ज डब्ल्यू बुश दूसरे कार्यकाल के लिए जीत हासिल करने में नाकाम साबित हुए थे, जब उनके विपक्षी डेमोक्रेट उम्मीदवार बिल क्लिंटन ने जीत हासिल की थी।
बाइडेन को मिले रिकॉर्ड वोट
बाइडेन अमेरिकी इतिहास में सर्वाधिक मत पाने वाले प्रत्याशी बन गए हैं। उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा का रिकॉर्ड तोड़ा है। बाइडेन को 7.07 करोड़ मत मिल चुके हैं। यह ओबामा से तीन लाख ज्यादा है। बाइडेन लोकप्रिय मतों में ट्रंप से 27 लाख मत आगे हैं। ट्रंप 6.732 करोड़ मत पाकर ओबामा के रिकॉर्ड के करीब है। अमेरिका के 120 साल के  इतिहास में इस बार सर्वाधिक 66.6 फीसदी वोटिंग हुई थी।
अंतिम परिणाम आने में अभी कुछ दिन लग सकते हैं
अमेरिकी राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को व्हाइट हाउस पहुंचने के लिए 270 इलेक्टोरल कॉलेज वोट की जरूरत है। मेरिका में एक सदी से अधिक समय के बाद सबसे अधिक मतदान का अनुमान लगाया जा रहा है। हालांकि, अंतिम परिणाम आने में अभी कुछ दिन लग सकते हैं। डोनाल्ड ट्रंप ने मतों की गिनती के बीच ये कहकर विवाद खड़ा कर दिया कि उनकी जीत हो चुकी है और धोखाधड़ी हो रही है।
मिशिगन में ट्रंप अभियान दल का मुकदमा खारिज
मिशिगन के एक जज ने डोनाल्ड ट्रंप के अभियान दल द्वारा दायर एक मुकदमे को खारिज कर दिया है। जज का कहना है कि ये मुकदमा आखिरी वोटों की गिनती होने से कुछ पहले ही दायर किया गया था।
बाइडेन बोले- ‘मैं अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में शासन करूंगा’
जो बाइडेन ने ट्वीट कर कहा कि ‘मैं स्पष्ट कर रहा हूं कि मैंने एक गर्वित डेमोक्रेट के रूप में प्रचार किया, लेकिन मैं एक अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में शासन करूंगा।’

ट्विटर ने ट्वीट डिलीट करने पर दिया यह बयान
ट्विटर की ओर से कहा गया है कि ‘इस ट्वीट में साझा की गई कुछ या सभी सामग्री विवादित हैं और चुनाव या किसी अन्य प्रक्रिया में भाग लेने के तरीके के बारे में भ्रामक हो सकती है।

Loading...

ट्विटर  ने आगे कहा है कि ‘आप चुनाव या अन्य नागरिक प्रक्रियाओं में हेरफेर या हस्तक्षेप करने के उद्देश्य से ट्विटर की सेवाओं का उपयोग नहीं कर सकते हैं। इसमें ऐसी सामग्री पोस्ट करना या साझा करना शामिल है जो किसी नागरिक प्रक्रिया में कब, कहां या कैसे भाग लें, इसके बारे में लोगों की भागीदारी गुमराह हो सकती है। इसके अलावा, हम अतिरिक्त संदर्भ प्रदान करने के लिए नागरिक प्रक्रियाओं के बारे में गलत या भ्रामक जानकारी वाले ट्वीट्स की दृश्यता के लेबल को और कम कर सकते हैं।
ट्रंप के कई ट्वीट को ट्विटर ने पेज से हटाया
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप लगातार ट्वीट कर रहें हैं, लेकिन उनके कई ट्वीट को ट्विटर ने पेज से हटा दिया है।

ट्रंप ने ट्वीट किया, ‘पेनसिल्वेनिया में बड़ी कानूनी जीत!’
डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बाइडेन जीत के करीब पहुंच चुके हैं। वहीं ट्रंप ने जॉर्जिया, मिशिगन और पेनसिल्वेनिया को लेकर मुकदमा दर्ज कराया है। इसी बीच अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने ट्वीट कर कहा कि ‘पेनसिल्वेनिया में बड़ी कानूनी जीत!’
बाइडेन ने ट्वीट कर कहा- ‘धैर्य रखें’
जो बाइडेन ने ट्वीट कर कहा कि ‘धैर्य रखें, लोग। वोटों की गिनती की जा रही है, और हम जिस स्थिति में हैं उसके बारे में अच्छा महसूस करते हैं।’
ट्रंप ने कहा, बंद करो फ्रॉड
ट्रंप लगातार ट्वीट कर रहे हैं। इस बार उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘बंद करो फ्रॉड’
हम ही जीतेंगे- ट्रंप
डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, ‘बाइडेन के दावे वाले सभी राज्यों में हम वोटर फ्रॉड और स्टेट इलेक्शन फ्रॉड के लिए कानूनी चुनौती देंगे। बहुत सारे सबूत हैं- मीडिया देखते रहें। हम ही जीतेंगे।’

वोटों की गिनती रोको-ट्रंप
मतगणना के बीच डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, ‘वोटों की गिनती रोको।’
वहीं, ओबामा की एक और विरासत एफॉरडेबल केयर एक्ट है, जिसे ओबामा केयर भी कहा जाता है। इसके तहत हर अमेरिकी नागरिक के लिए मेडिकल बीमा का प्रावधान किया गया था। ये विरासत भी अगले हफ्ते दांव पर होगी, जब इसे दी गई चुनौती पर सुप्रीम कोर्ट अपना फैसला देगा। सुप्रीम कोर्ट में कंजरवेटिव जजों की भरमार को देखते हुए ज्यादा संभावना यही है कि कोर्ट इस कानून को रद्द कर देगा।
डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवारों को तगड़ा धक्का लगा है
इस बार हुए संसदीय चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवारों को तगड़ा धक्का लगा है। अमेरिका में प्रावधान यह है कि कोई अंतरराष्ट्रीय संधि तभी लागू हो पाती है, जब ऊपरी सदन सीनेट उसे पास कर दे। नई परिस्थितियों में अगर संभावित बाइडेन प्रशासन पेरिस संधि में फिर से अपने देश को शामिल करता है, तब भी उसका संसदीय अनुमोदन करवा पाना उसके लिए बहुत मुश्किल होगा।
इन दोनों मामलों में वापसी आसान नहीं होगी
राष्ट्रपति चुनाव की मतगणना में आगे चल रहे डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बाइडेन अगर सचमुच जीत जाते हैं, तो उनके लिए इन दोनों मामलों में वापसी आसान नहीं होगी। पहला पेरिस संधि और दूसरा एफॉरडेबल केयर एक्ट।
हर वोट की गिनती होनी चाहिए- जो बाइडेन
डेमोक्रेट उम्मीदवार जो बाइडेन ने मतगणना के बीच ट्वीट कर कहा है कि हर वोट की गिनती होनी चाहिए।

अब तक 50 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया है
अभी तक आए नतीजों के बीच अमेरिका के कई राज्यों में ट्रंप समर्थक और विरोधियों ने हिंसक प्रदर्शन किया। अब तक 50 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया है।
ट्रंप अगर यह चुनाव हार जाते हैं तो…
अमेरिका के वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अगर यह चुनाव हार जाते हैं तो वह पिछले तीन दशक के पहले ऐसे अमेरिकी राष्ट्रपति बन जाएंगे जिसे दूसरे कार्यकाल के लिए चुनाव में हार का सामना करना पड़ा हो। इससे पहले साल 1992 में जॉर्ज डब्ल्यू बुश दूसरे कार्यकाल के लिए जीत हासिल करने में नाकाम साबित हुए थे, जब उनके विपक्षी डेमोक्रेट उम्मीदवार बिल क्लिंटन ने जीत हासिल की थी।
ट्रंप की वापसी मुश्किल
ट्रंप भले ही जीत का दावा कर रहे हैं, लेकिन बाइडेन से वह काफी पीछे हैं। बाइडेन की विस्कॉन्सिन-मिशिगन में जीत के बाद ट्रंप की वापसी मुश्किल हो गई है। दोनों नेताओं के बीच वोटों का फासला भी ज्यादा है।
हार मानने के लिए तैयार नहीं हैं राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव अपने रोमांचक दौर में पहुंच चुका है। डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन अभी इलेक्टोरल वोट की रेस में आगे हैं। वहीं, उनके प्रतिद्वंद्वी और वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप हार मानने के लिए तैयार नहीं हैं।
बाइडेन को अब तक 50.4 फीसदी वोट
फॉक्स न्यूज के आंकड़ों के मुताबिक, डेमोक्रेट उम्मीदवार जो बाइडेन को अब तक कुल 72,110,951 वोट हासिल हुए हैं। जो कि पूरे मतों का 50.4 फीसदी है। वहीं दूसरी ओर रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप को 48 फीसदी वोट शेयर के साथ 68,643,544 वोट मिले हैं।
बाइडेन बहुमत के आंकड़े से सिर्फ 6 वोट दूर हैं
538 इलेक्टोरल वोट्स में से बहुमत के लिए 270 वोट की जरूरत है। फिलहाल, बाइडेन के हिस्से 264 इलेक्टोरल वोट्स, जबकि ट्रंप के पास सिर्फ 214 वोट्स हैं।
मिनियापोलिस में प्रदर्शनकारियों की गिरफ्तारी
रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, मिनियापोलिस में प्रदर्शनकारियों ने रास्ते को जाम कर दिया, जिसे लेकर पुलिस ने कई लोगों को गिरफ्तार किया है।
पोर्टलैंड में पुलिस ने दंगे की घोषणा की
पोर्टलैंड में पुलिस ने दंगे की घोषणा की है। पुलिस ने 11 लोगों को गिरफ्तार किया और उनसे आतिशबाजी, हथौड़े और एक राइफल को जब्त किया है। अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में मतदान के बाद रात को विरोध प्रदर्शनों के जवाब में ओरेगन के गवर्नर केट ब्राउन ने नेशनल गार्ड को सक्रिय कर दिया है।

मुख्य राज्यों के नतीजों का अभी भी इंतजार
अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के मद्देनजर जॉर्जिया, पेंसिलवेनिया, उत्तरी कैरोलिना और नेवाडा के नतीजों का अभी भी इंतजार है। चुनाव अधिकारियों को अभी भी लाखों वोटों की गिनती करनी है।

कितनी होती है अमेरिका के राष्ट्रपति की तनख्वाह
अमेरिका के राष्ट्रपति की तनख्वाह सालाना चार लाख डॉलर (करीब 2.8 करोड़ रुपये) होती है। इसके अलावा उन्हें एक हेलिकॉप्टर और एक पर्सनल प्लेन मिलता है।
जॉर्जिया में 95 फीसदी वोटों की गिनती हुई
एडिशन रिसर्च के मुताबिक, जॉर्जिया में ट्रंप को 49.6 फीसदी वोट हासिल हुए हैं। वहीं बाइडेन को 49.1 फीसदी वोट हासिल हुए हैं। राज्य में अब तक 95 फीसदी वोटों की गिनती हो चुकी है। अमेरिकी चुनाव के मद्देनजर जॉर्जिया राज्य बहुत महत्वपूर्ण है।
चुनाव से संबंधित गलत सूचना को लेकर सतर्क रहें मीडिया संस्थान
मानवाधिकार संगठन ‘ह्यूमन राइट्स वाच’ की ओर से जारी एक वक्तव्य में कहा गया कि अमेरिका की निर्वाचन प्रक्रिया के तहत तीन नवंबर को हुए आम चुनाव में पड़े मतों को तालिकाबद्ध करने में समय लगेगा। इसके साथ ही संगठन ने चेताया कि मीडिया संस्थानों और सोशल मीडिया कंपनियों को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का ध्यान रखते हुए चुनाव से संबंधित गलत सूचना के प्रसार के प्रति सतर्क रहना चाहिए।
नेता तय नहीं करते कि कौन जीत रहा है: मानवाधिकार संस्था
राष्ट्रपति चुनाव में मतगणना में फर्जीवाड़े का दावा करते हुए सर्वोच्च न्यायालय जाने की अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की धमकी के मद्देनजर एक मानवाधिकार संगठन ने बुधवार को कहा कि अमेरिका की निर्वाचन प्रक्रिया को वोटों को तालिकाबद्ध करने में समय लगेगा। संगठन ने इस पर जोर दिया कि नेता तय नहीं करते कि कौन जीतेगा।
प्रमुख राज्यों में जारी है वोटों की गिनती
दुनिया राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और जो बाइडेन के बीच व्हाइट हाउस की रेस के परिणाम की प्रतीक्षा कर रही है। वहीं, प्रमुख राज्यों में चुनाव अधिकारी मतों की गिनती में तेजी लाने की कोशिश कर रहे हैं। नेवाडा, जॉर्जिया, उत्तरी कैरोलिना और पेंसिलवेनिया में अंतिम परिणाम अभी भी आने बाकी हैं।
एरिजोना में बाइडेन को मिली ट्रंप पर मामूली बढ़त
बैटलग्राउंड स्टेट एरिजोना में जो बाइडेन को ट्रंप पर मामूली बढ़त हासिल हुई है। जो बाइडेन को 9,12,585 वोट हासिल हुए हैं। वहीं, डोनाल्ड ट्रंप को यहां पर 8,38,071 वोट हासिल हुए हैं। इस तरह राष्ट्रपति चुनाव अभी भी रोमांचक बना हुआ है।
बाइडेन कर चुके हैं भारत की आलोचना
डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन भारत की कई नीतियों की आलोचना कर चुके हैं। भारत में एक धड़ा मानता है कि बाइडेन और हैरिस जिस तरह से जम्मू कश्मीर में मानवाधिकार और एनआरसी-सीएए को लेकर मुखर रहे हैं, उससे भारत को परेशानी हो सकती है। डेमोक्रेटिक पार्टी का पाकिस्तान को लेकर रिपब्लिकन पार्टी की तुलना में रवैया भी काफी नरम रहा है।
ट्रंप के कार्यकाल में भारत के साथ सुधरे अमेरिका के संबंध
डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति रहने के दौरान भारत और अमेरिका के संबंध पहले की तुलना में काफी प्रगाढ़ हुए। कई मौके पर ट्रंप के बयानों ने भारत को असहज भी किया है बावजूद इसके वह भारत के साथ ज्यादा मुखर तरीके से खड़े रहे हैं।

अमेरिका में एक सदी बाद सबसे अधिक मतदान
अमेरिका में एक सदी से अधिक समय के बाद सबसे अधिक मतदान का अनुमान लगाया जा रहा है। हालांकि, अंतिम परिणाम आने में कई दिन लग सकते हैं।
ट्रंप हारे तो बुश के बाद दूसरे राष्ट्रपति होंगे जो कुर्सी नहीं बचा पाए
विस्कॉन्सिन और मिशिगन में मिली जीत के बाद डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन राष्ट्रपति चुनाव जीतने की तरफ अग्रसर हो रहे हैं। उन्हें सिर्फ नेवाडा में जीत की जरूरत है, जिसके बाद वह बहुमत के आंकड़ें 270 तक पहुंच जाएंगे। अगर बाइडेन राष्ट्रपति बनते हैं तो जॉर्ज एस डब्ल्यू बुश के बाद ट्रंप दूसरे ऐसे राष्ट्रपति होंगे जो दोबारा राष्ट्रपति नहीं बन पाए।
ट्रंप के खिलाफ अमेरिका के प्रमुख शहरों में प्रदर्शन
न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, डोनाल्ड ट्रंप के वोटों की गिनती रोकने के प्रयास को लेकर प्रदर्शनकारियों ने अमेरिका के प्रमुख शहरों में प्रदर्शन किया है। प्रदर्शनकारियों ने मांग की है कि हर एक वोट की गिनती होनी चाहिए।
पेंसिलवेनिया में अभी करीब 7,63,000 वोटों की गिनती बाकी
पेंसिलवेनिया में कुल 26 लाख मतदाताओं ने वोट दिया। इसमें से 71 फीसदी की गिनती हो चुकी है। वहीं अधिकारियों को अभी भी करीब 7,63,000 वोटों की गिनती करनी है।
मैनहैटन में 60 प्रदर्शनकारी हिरासत में
न्यूयॉर्क सिटी के मैनहैटन में बुधवार को शांतिपूर्ण प्रदर्शन हिंसक झड़प में तब्दील हो गए। इसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए 60 प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया है।
पांच महिलाओं सहित एक दर्जन से अधिक भारतवंशियों ने राज्यों में दर्ज की जीत
अमेरिका में राष्ट्रपति पद के साथ-साथ कई राज्यों में भी हुए चुनावों में पांच महिलाओं सहित एक दर्जन से अधिक भारतवंशियों ने जीत दर्ज की है। कई मायनों में भारतीय-अमेरिकी समुदाय के लिए ऐसा पहली बार हुआ है।

इनके अलावा चार भारतीय मूल के उम्मीदवार- डॉ.एमी बेरा, प्रमिला जयपाल, रो खन्ना और राजा कृष्णमूर्ति- अमेरिकी कांग्रेस के निम्न सदन हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव के लिए दोबारा निर्वाचित हुए हैं। वहीं भारतीय मूल के कम से कम तीन ऐसे प्रत्याशी हैं जिनका फैसला नहीं हुआ है और इनमें एक हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव के लिए मैदान में है।
फिलाडेल्फिया में प्रदर्शन, हर वोट की गिनती की मांग की गई
चुनाव परिणामों के लिए बेहद अहम राज्य पेंसिलवेनिया के फिलाडेल्फिया में मतगणना के दौरान सैकड़ों प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतरे हैं और उनकी मांग है कि हर एक वोट गिना जाए। ट्रंप के चुनावी कैंपेन ने विस्कॉन्सिन, मिशिगन और जॉर्जिया समेत पेंसिलवेनिया में बचे बैलट न गिनने के लिए कानूनी लड़ाई शुरू कर दी है।

जॉर्जिया में 90 हजार वोटों की गिनती बाकी
जॉर्जिया के राज्य सचिव ब्रैड रैफेंसपर्गर के कार्यालय ने कहा है कि अभी राज्य में 90,735 वोटों की गिनती की जानी बाकी है। हालांकि, ये जानकारी नहीं दी गई है कि अभी तक राज्य में कितने वोटों की गिनती हो चुकी है।
जीत से पहले ही बाइडेन ने ट्रांजिशन वेबसाइट शुरू की
अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में जो भी उम्मीदवार जीतता है वो जनवरी में व्हाइट हाउस पहुंचने की तैयारी से पहले अपनी एक ट्रांजिशन टीम का गठन करता है। चुनाव में अभी तक कोई विजेता नहीं है लेकिन दोनों उम्मीदवारों को भरोसा है कि वे जीतेंगे। दोनों इस तह का नजरिया पेश कर रहे हैं ताकि पद की दौड़ में वे आगे दिखें।

इस कड़ी में, बाइडेन ने ‘बिल्ड बैक बेटर’ नाम से ट्रांजिशन वेबसाइट शुरू की है। इसमें लिखा है, देश जिस तरह के संकट से गुजर रहा है उनमें महामारी से लेकर आर्थिक मंदी और जलवायु परिवर्तन से लेकर नस्लीय अन्याय जैसे गंभीर मुद्दे शामिल हैं। ट्रांजिशन टीम पूरी तेजी के साथ तैयारी करेगी जिससे बाइडेन-हैरिस प्रशासन पहले दिन से काम शुरू कर सके।
मतगणना केंद्रों के बाहर जमा हुए ट्रंप समर्थक
ट्रंप समर्थकों का एक समूह डेट्रायट और फीनिक्स में मतगणना केंद्रों पर एकत्र हुआ है। इसने वोटिंग को रोके जाने की मांग की है। डेट्रायट में ट्रंप समर्थकों ने ‘स्टॉप द काउंट’ के नारे लगाए।
पांच भारतीय-अमेरिकी महिलाओं ने भी जीता चुनाव
राज्य विधानसभाओं के लिए चुनी गई पांच महिलाएं न्यूयॉर्क स्टेट असेंबली में जेनिफर राजकुमार, केंटकी स्टेट हाउस में नीमा कुलकर्णी, वर्मोंट स्टेट सीनेट के लिए केशा राम, वाशिंगटन स्टेट हाउस में वंदना स्लेटर और मिशिगन स्टेट हाउस में पद्मा कुप्पा हैं।

यदि बाइडेन हारे तो डेमोक्रेट को सीनेट में बहुमत के लिए आवश्यक होंगी चार सीटें
यदि बाइडेन रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप से हार जाते हैं, तो डेमोक्रेट को सीनेट में बहुमत के लिए चार सीटों की आवश्यकता होगी।
जॉर्जिया में हुई 95 फीसदी वोटों की गिनती
एडिशन रिसर्च के मुताबिक, जॉर्जिया में अब तक 95 फीसदी वोटों की गिनती हो चुकी है। ट्रंप को यहां पर 49.7 फीसदी वोट हासिल हुए हैं। वहीं, बाइडेन को 49.1 फीसदी वोट मिले हैं।
इस वक्त अमेरिकी चुनाव पर कोई टिप्पणी नहीं: संयुक्त राष्ट्र प्रवक्ता
संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस के प्रवक्ता ने कहा कि वह इस समय अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव 2020 पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं और पूरी प्रक्रिया पर करीब से नजर रखी जा रही है। प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने बुधवार को कहा, नहीं, इस समय नहीं। मेरा मतलब है कि हम निश्चित तौर पर पूरी प्रक्रिया पर करीब से नजर बनाए हुए हैं। अब भी प्रक्रिया चल रही है। इस समय हम टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं।
बैटलग्राउंड स्टेट पेंसिलवेनिया में ट्रंप को मिली बढ़त
एडिशन रिसर्च के मुताबिक, बैटलग्राउंड स्टेट पेंसिलवेनिया में 89 फीसदी वोटों की गिनती पूरी हो चुकी है। ट्रंप को यहां पर 50.7 फीसदी वोट हासिल हुए हैं। वहीं, बाइडेन को 48.1 फीसदी वोट मिले हैं।
बाइडेन ने हासिल किया खास रिकॉर्ड
इस बार के राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेमोक्रेट्स उम्मीदवार जो बाइडेन ने एक नया रिकॉर्ड अपने नाम किया है। अमेरिकी चुनावी इतिहास में किसी राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को अब सबसे अधिक वोट मिलने का रिकॉर्ड बाइडेन ने अपने नाम कर लिया है। अभी तक हुई वोटों की गिनती के मुताबिक, बाइडेन को सात करोड़ वोट मिले हैं। वहीं ट्रंप को करीब 6.8 करोड़ वोट हासिल हुए हैं। बता दें कि, इससे पहले यह रिकॉर्ड बराक ओबामा के नाम था। ओबामा को 6.94 करोड़ वोट हासिल हुए थे।
कोलाराडो और एरिजोना में डेमोक्रेट्स को मिली जीत
डेमोक्रेटिक पार्टी को कोलाराडो और एरिजोना में जीत हासिल हुई है। डेमोक्रेट्स के लिए यह जीत बहुत जरूरी थी, लेकिन पार्टी को अलाबामा में हार मिली है।
वोटों की गिनती पूरी होने पर हम जीतेंगे: बाइडेन
जो बाइडेन ने कहा है कि उन्हें पूरा विश्वास है कि वोटों की पूरी गिनती होने के बाद वह राष्ट्रपति बनने जा रहे हैं। बाइडेन ने कहा, वह स्विंग स्टेट में ट्रंप पर बढ़त बनाए हुए हैं, इसलिए उनका मानना है कि ये राज्य नतीजों पर प्रभाव डालेंगे। बाइडेन ने कहा, मैं यहां यह कहने नहीं आया हूं कि हम जीत रहे हैं। लेकिन मैं यहां यह कहने आया हूं कि मुझे विश्वास है जब गिनती पूरी हो जाएगी, तो हम जीतेंगे।
अमेरिकी नागरिकों को मतदान प्रक्रिया पर हो विश्वास: कमला हैरिस
अमेरिकियों को मतदान प्रक्रिया में विश्वास होना चाहिए और संवैधानिक अधिकार है कि उनके विधिपूर्वक डाले गए मतपत्रों को गिना जाए। यह सरल प्रस्ताव अमेरिकी लोकतंत्र की आधारशिला है।

जॉर्जिया में जीत हासिल करना जरूरी: ट्रंप के चुनावी अभियान के सलाहकार
ट्रंप के चुनावी अभियान के सलाहकार का कहना है कि उन्हें इस बात का विश्वास है कि वह इतने वोट हासिल कर लेंगे, जिससे की वह एरिजोना में जीत सकें। सलाहकार ने कहा, हम एरिजोना में जीत रहे हैं। लेकिन सलाहकार ने इस बात को रेखांकित किया कि जॉर्जिया में जीत हासिल करना ट्रंप के लिए बहुत जरूरी है।

बैटलग्राउंट स्टेट जॉर्जिया को लेकर बाइडेन के चुनावी अभियान अच्छा महसूस कर रहा
जो बाइडेन के चुनावी अभियान के सलाहकार का कहना है कि वह जॉर्जिया को लेकर अच्छा महसूस कर रहे हैं। साथ ही एरिजोना और पेंसिलवेनिया को लेकर भी चिंता नहीं है, क्योंकि अभी वहां पर वोटों की गिनती जारी है। बाइडेन के चुनावी अभियान को पता है कि जॉर्जिया में मिली जीत से बाइडेन आसानी से अपने प्रतिद्वंद्वी ट्रंप से आगे निकल सकते हैं।
जॉर्जिया के फुल्टन काउंटी में बाकी है 29 हजार मेल-इन बैलेट्स की गिनती
जॉर्जिया के फुल्टन काउंटी में 29 हजार मेल-इन बैलेट्स की गिनती बाकी है। काउंटी के चुनाव निदेशक रिचर्ड बैरन ने कहा, हम इस बात का ख्याल रखेंगे कि हर वोट की गिनती आज रात तक हो जाए, फिर हमें ऐसा करने में पूरी रात ही क्यों न लग जाए। उन्होंने कहा, मुझे इस बारे में पता है कि सभी की निगाहें जॉर्जिया पर टिकी हुई हैं, क्योंकि यहां से अगले राष्ट्रपति का निर्धारण हो सकता है।
ट्रंप के बयान से कोई फर्क नहीं पड़ता, हर वोट की गिनती होनी चाहिए: कमला हैरिस
उपराष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार कमला हैरिस ने कहा, इससे फर्क नहीं पड़ता की ट्रंप क्या कहते हैं, हमें हर एक वोट की गिनती करानी चाहिए। कमला हैरिस ने कानूनी लड़ाई के मद्देनजर बाइडेन के समर्थकों से आर्थिक मदद की अपील भी की है।
भारत की तरह अमेरिका में नहीं है चुनाव आयोग
अमेरिका में भारत की तरह चुनाव आयोग जैसी संस्था नहीं है। वहीं हर राज्य के अपने अलग कानून हैं, ऐसे में सभी राज्य इनका पालन करते हुए मतगणना करवाते हैं। यही वजह है वहां कौन जीता और किसे कितने वोट मिले इसकी आधिकारिक जानकारी सरकारी एजेंसी के मार्फत जारी नहीं होती। इसके बजाय फॉक्स न्यूज और एसोसिएटेड प्रेस जैसी समाचार संगठनों द्वारा जारी रुझानों से परिणाम का आकलन किया जाता है।
ट्रंप के चुनावी अभियान ने पेंसिल्वेनिया, मिशीगन और जॉर्जिया सरकार पर मुकदमा किया
ट्रंप के चुनावी अभियान ने पेंसिल्वेनिया, मिशीगन और जॉर्जिया सरकार पर मुकदमा दायर किया है। इन राज्यों में ट्रंप अपने प्रतिद्वंद्वी जो बाइडेन से पीछे रह गए हैं। ट्रंप के चुनावी अभियान ने यह भी कहा है कि वह विस्कॉन्सिन में दोबारा वोटों की गिनती करवाना चाहते हैं।
ट्रंप और बाइडेन के चुनावी कैंपेन ने क्या कहा
बुधवार की दोपहर बाइडेन ने डेलावेयर में कहा, जब वोटों की गिनती समाप्त हो जाएगी तो हमें विश्वास है कि हम जीतेंगे। उन्होंने कहा, मैं एक अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर शासन चलाऊंगा। राष्ट्रपति पद अपने आप में कोई पक्षपातपूर्ण संस्थान नहीं है।

राष्ट्रपति ट्रंप के कैंपेन मैंनेजर बिल स्टेपियन ने कहा, हम पेंसिल्वेनिया में जीत की घोषणा कर रहे हैं। यह किसी भावना के आधार पर नहीं बल्कि गणित के आधार पर है। अगर हम सभी कानूनी बैलट गिनते हैं तो हम जीतेंगे।
बाइडेन ने कहा, राष्ट्रपति बनने के बाद फिर से पेरिस समझौते पर होगा हस्ताक्षर
अमेरिका बुधवार को पेरिस जलवायु समझौते से औपचारिक रूप से अलग हो गया। वहीं, जो बाइडेन ने कहा है कि अगर वह राष्ट्रपति बनते हैं तो पेरिस जलवायु समझौते पर फिर से हस्ताक्षर करेंगे। बाइडेन ने ट्वीट कर कहा, आज ट्रंप प्रशासन आधिकारिक तौर पर पेरिस जलवायु समझौते से अलग हो गया। और ठीक 77 दिनों में, बाइडेन प्रशासन इस पर फिर से हस्ताक्षर करेगा।
एरिजोना में छह लाख वोटों की गिनती बाकी
एरिजोना की गृह मंत्री कैटी होब्स ने कहा है कि अभी करीब छह लाख वोटों की गिनती की जानी है। अकेले 3,40,000 वोटों की गिनती तो मैरिकोपा काउंटी में ही की जानी है। यह राज्य का सबसे अधिक आबादी वाला क्षेत्र है।
मेल-इन वोटों और प्रारंभिक वोटों की रिकॉर्ड संख्या बनी परिणामों में देरी की वजह
मेल-इन वोटों और प्रारंभिक वोटों की रिकॉर्ड संख्या की वजह से अमेरिकी चुनाव परिणाम में देरी हुई है क्योंकि कुछ राज्यों ने मंगलवार को मतदान बंद होने तक इन वोटों की गिनती शुरू नहीं की।
चुनाव के बीच बढ़ा वायरस का खतरा
अमेरिकी राष्ट्रपति पद के लिए हुए चुनावों की वोटों की गिनती जारी है। इसी बीच अमेरिका में कोरोना वायरस के रिकॉर्ड मामले सामने आए हैं। अमेरिका में हर रोज औसतन 86 हजार मामले सामने आ रहे हैं। सर्दियों के मौसम की शुरुआत होते ही देश में वायरस का खतरा बढ़ता जा रहा है।
एरिजोना में 86 फीसदी वोटों की गिनती हुई
एडिशन रिसर्च के अनुसार, बैटलग्राउंट स्टेट एरिजोना में 86 फीसदी वोटों की गिनती हो चुकी है। यहां पर ट्रंप को 47.9 फीसदी और बाइडेन को 50.7 फीसदी वोट मिले हैं।
नेवाडा में भी रोचक हुआ मुकाबला
एडिशन रिसर्च के मुताबिक, बैटलग्राउंड स्टेट नेवाडा में ट्रंप को 48.7 फीसदी और बाइडेन को 49.3 फीसदी वोट मिले हैं। नेवाडा में दोनों उम्मीदवारों के बीच कांटे की टक्कर देखने को मिल रही है।
जॉर्जिया में मामूली अंतर से ट्रंप आगे
एडिशन रिसर्च के मुताबिक, बैटलग्राउंड स्टेट जॉर्जिया में ट्रंप को 49.8 फीसदी और बाइडेन को 49.0 फीसदी वोट मिले हैं। बता दें कि जॉर्जिया में 95 फीसदी वोटिंग हुई थी।
बाइडेन ने बराक ओबामा को छोड़ा पीछे
अमेरिकी चुनावों के लिए वोटों की गिनती जारी है, लेकिन डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बाइडेन ने एक रिकॉर्ड बना लिया है। बाइडेन अमेरिका के इतिहास में पहले ऐसे राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बन चुके हैं, जिन्हें सबसे ज्यादा वोट मिले हैं। उन्होंने ओबामा का रिकॉर्ड तोड़ दिया है।
बहुमत से सिर्फ 6 वोट दूर बाइडेन
बाइडेन बहुमत से मात्र अब छह इलेक्टोरल वोट दूर हैं। बाइडेन को 264 इलेक्टोरल कॉलेज सीट पर जीत हासिल हुई है जबकि राष्ट्रपति ट्रंप 214 पर ही बने हुए हैं। बाइडेन को 50.4 फीसदी वोट मिले हैं वहीं ट्रंप को 48 फीसदी वोट मिले हैं।
बाइडेन ने ट्रंप का नाम लिए बिना साधा निशाना
बाइडेन ने अपने भाषण में ट्रंप नाम लिए बिना निशाना साधा है। बाइडेन ने कहा कि कोई सत्ता हथिया नहीं सकता बल्कि सत्ता जनता सौंपती है। बाइडेन ने अपने भाषण में एकता की बात की। बाइडेन को पता है कि राष्ट्रपति बनने के बाद भी चुनौतियां बेशुमार हैं। इतने करीबी के नतीजों से साफ है कि दोनों नेताओं के पक्ष में विभाजन बहुत तगड़ा है। अभी नतीजे भले नहीं आए हैं लेकिन शेयर बाजार में भारी उछाल है।
US Election 2020 LIVE: तीन दिन बाद भी तय नहीं कौन संभालेगा अमेरिका की ‘कमान’, कानूनी दांव पेच बरकरार
दुनिया की सबसे बड़ी शक्तियों में शुमार अमेरिका की सत्ता किसके पास होगी, इसका फैसला करने के लिए अमेरिकी नागरिकों ने मतदान किया। इस चुनावी जंग में रिपब्लिकन पार्टी की ओर से वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार और पूर्व उपराष्ट्रपति जो बाइडेन चुनौती दे रहे हैं। राष्ट्रपति पद के लिए हो रहे चुनाव की मतगणना में जो बाइडेन बहुमत के करीब पहुंच चुके हैं।  538 इलेक्टोरल वोट्स में से बहुमत के लिए 270 वोट्स की जरूरत है।

 

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/