Breaking News

पटाखे छोड़ते वक्त इन सावधानियों के साथ मनाए सुरक्षित दिवाली

पटाखे छोड़ते वक्त अक्सर कई लोग इतना खो जाते हैं कि अनहोनी को न्योता दे बैठते हैं। हर्षोल्लास का पर्व एक ही पल में शौक से भर जाता है। प्रतिवर्ष दिवाली पर पटाखों से पूरे देशभर में दुर्घटनाएं होती हैं।

यह दुर्घटनाएं उम्र नहीं देखतीं, बच्चे, बुजुर्ग कोई भी इनका शिकार हो सकता है। कई बार तो ऐसे लोग भी पटाखों की वजह से दुर्घटना का शिकार होते हैं, जिन्होंने अपने पूरे जीवन में कभी पटाखे नहीं छोड़े होते हैं लेकिन दूसरों की लापरवाही का परिणाम भुगतना शायद इनकी नियति में लिखा होता। इसलिए इस वर्ष जब पटाखे छोड़ने जाएं तो इन सावधानियों को बरतें और सुरक्षित दिवाली मनाएं।

-खरीददारी के दौरान सावधानी जरूरी
जब भी पटाखों की दुकान पर जाएं तो आसपास नजर घूमायें, सबकुछ ठीक लगने पर ही वहां से खरीददारी करें। बच्चों को अकेले पटाखों की किसी भी दुकान पर न जाने दें। विश्वसनीय दुकान से ही पटाखे लें और सस्ते दाम के लालच में पुराने पटाखे न खरीदें। पुराने पटाखे दुर्घटना को न्योता दे सकते हैं।

Loading...

-कपड़ों का रखें ध्यान
पटाखे छोड़ते समय विशेष रुप से कपड़ों का ध्यान रखें। यदि ज्यादा भारी कपड़े पहन रखे हैं तो पहले उन्हें बदलें, फिर ही पटाखे छोड़ें। ऊनी और रेशमी कपड़े भूलकर भी न पहनें। ये कपड़े बहुत जल्दी आग पकड़ लेते हैं। कोशिश करें कि पटाखे छोड़ते समय सूती वस्त्र पहन लें, ये जल्दी आग नहीं पकड़ते इसलिए दुर्घटना की संभावनाएं कम हो जाती है।

-फर्स्ट एड किट रखें तैयार
जिस भी स्थान पर आप पटाखे जला रहे हैं, उसके निकट ही फर्स्ट एड किट तैयार रखें। किट में एसिटामिनोफेन, आइब्युप्रोफेन जैसे क्रीम जरूर रखें ताकि माइनर बर्न का तत्काल उपचार हो सके। साथ ही पुराना कम्बल और एक बाल्टी पानी भी भरकर रखें। यदि आग लग जाती है तो पैनिक होने की बजाय समझदारी से काम लें।

-बच्चों का रखें ध्यान
जब भी आप पटाखे जला रहे हैं तो यह जरूर देखें कि बच्चे कहां हैं? छोटे बच्चों को पटाखों से दूर रखें। बच्चे शैतान होते हैं और ऐसे समय में उनका दिमाग बहुत तेज दौड़ता है। तो यदि वे कोई डिब्बा वगैरह खोजते दिखाई देते हैं तो पहले ही उन्हें समझा दें कि इस तरह से पटाखे छोड़ने से अनहोनी हो सकती है।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/