Breaking News

क्या इस बार सुप्रीम कोर्ट करेगा अमेरिका के राष्ट्रपति का चयन? जाने पूरी ख़बर

अमेरिका में राष्ट्रपति पद की दौड़ के लिए मुकाबला अभी भी जारी है। डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बिडेन वर्तमान राष्ट्रपति और रिपब्लिकन प्रत्याशी डोनाल्ड ट्रंप से काफी आगे चल रहे हैं। नतीजों से पहले ही ट्रंप ने सुप्रीम कोर्ट जाने की बात कह दी है तो बिडेन ने भी कानूनी चुनौती स्वीकार करने को तैयार हैं। ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या इस बार अमेरिका के राष्ट्रपति का चयन सुप्रीम कोर्ट करेगा।

ट्रंप ने सुप्रीम कोर्ट जाने की बात मतगणना में धांधली का आरोप लगाते हुए कही। इससे पहले उन्होंने मतगणना जारी रहने के दौरान ही चुनाव जीतने की बात कह दी थी। जिसके बाद अमेरिका की कई हस्तियों ने उनकी आलोचना की थी। ट्रंप ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि हम इस चुनाव को जीतने जा रहे हैं, सही कहूं तो हम यह चुनाव जीत गए हैं। ट्रंप ने यह बयान तब दिया था जब लाखों मतों की गणना बाकी थी।
अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि यह देश के साथ धोखाधड़ी हो रही है। हम चाहते हैं कि कानून का सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए। हम सुप्रीम कोर्ट के पास जा रहे हैं। हम चाहते हैं कि मतगणना रोक दी जाए। बिडेन की कैंपेन ने इसे लेकर ट्रंप को आड़े हाथों लिया और कहा कि मतगणना नहीं रुकेगी। यह तब तक जारी रहेगी जब तक आखिरी वोट नहीं गिन लिया जाता। बिडेन ने भी ट्रंप के बयान को बेवजह का बताते हुए अदालती चुनौती के लिए तैयार होने की बात कही।

क्या इसलिए सुप्रीम कोर्ट जाना चाहते हैं ट्रंप?
उल्लेखनीय है कि मतदान और मतगणना में करीबी मुकाबला होने पर अदालत का रुख अपनाया जा सकता है। व्यक्तिगत तौर पर राज्यों में दायर मामले सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच सकते हैं। ट्रंप के सुप्रीम कोर्ट जाने के पीछे एक और कारण सामने आ रहा है। दरअसल, उन्होंने चुनाव से कुछ दिन पहले ही एमी कोनी बैरेट को अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट का न्यायाधीश नियुक्त किया है। ऐसे में उन्हें उम्मीद है कि अगल मामला सुप्रीम कोर्ट में गया तो निर्णय ट्रंप के पाले में आ सकता है।

Loading...

मंगलवार को हुए चुनाव में महत्वपूर्ण राज्यों में कांटे की टक्कर नजर आ रही है जिनमें बिडेन 224 निर्वाचक मंडल मत जीत रहे हैं, जबकि ट्रंप 213 निर्वाचक मंडल मतों के साथ थोड़ा पीछे हैं। स्पष्ट जीत के लिए 538 निर्वाचक मंडल सदस्यों में से विजेता बनने के लिए कम से कम 270 निर्वाचक मंडल मतों की आवश्यकता है। इस चुनाव को अमेरिका के इतिहास में सर्वाधिक विभाजक और कटु चुनावों में से एक बताया जा रहा है।

 

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/