Breaking News

चीन की बढ़ी टेंशन, ‘क्वाड’ देश पहली बार एकसाथ करेंगे नौसैन्य युद्धाभ्यास

चीन की अपना प्रभुत्व बढाने की रणनीति पर अंकुश लगाने के लिए भारत, अमेरिका , जापान और आस्ट्रेलिया के ‘क्वाड’ की लामबंदी आज उस समय और अधिक मजबूत हो गई जब भारत ने अमेरिका तथा जापान की नौसेना के साथ होने वाले अभ्यास मालाबार में आस्ट्रेलियाई नौसेना को शामिल करने के लिए औपचारिक निमंत्रण दे दिया। नौसेना ने आज कहा कि समुद्री क्षेत्र में अन्य देशों के साथ सहयोग बढाने और विशेष रूप से आस्ट्रेलिया के साथ रक्षा क्षेत्र में सहयोग को पुख्ता करने की दिशा में आगे बढते हुए इस वर्ष होने वाले मालाबार अभ्यास में आस्ट्रेलियाई नौसेना की भी हिस्सेदारी का निर्णय लिया गया है।

यह अभ्यास बंगाल की खाड़ी और अरब सागर में होगा। भारत और अमेरिका की नौसेनाओं के बीच मालाबार अभ्यास 1992 में शुरू हुआ था। पांच साल पहले वर्ष 2015 में जापान नौसेना भी इसमें शामिल हुई थी। नौसेना के अनुसार इस वर्ष यह अभ्यास केवल समुद्री क्षेत्र में होगा और इससे चारों देशों की नौसेनाओं के बीच समन्वय बढेगा। यह तालमेल समुद्री क्षेत्र में सुरक्षा को बढाने में सहायक सिद्ध होगा। ये देश मुक्त, खुले और समावेशी हिन्द प्रशांत क्षेत्र के पक्षधर हैं और अंतर्राष्ट्रीय नियम और कानूनों पर आधारित व्यवस्था के प्रति वचनबद्ध हैं।

Loading...

मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि यह युद्धाभ्यास के बंगाल की खाड़ी और अरब सागर में इस साल के अंत तक होने की उम्मीद है। इस युद्धाभ्यास को लेकर ऑस्ट्रेलिया की रक्षा मंत्री लिंडा रेनॉल्ड्स ने भी समर्थन जताया है। उन्होंने अपने बयान में कहा है कि मालाबार युद्धाभ्यास इंडो-पैसिफिक क्षेत्र के चार प्रमुख लोकतांत्रिक देशों के बीच गहरे विश्वास और उनकी साझा इच्छाशक्ति को आम सुरक्षा हितों पर एक साथ काम करने के लिए प्रतिबद्धता दिखाता है।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/