Breaking News

भारत-चीन सीमा विवाद पर डोनाल्ड ट्रम्प ने फिर दिया ऑफर, कहा- मामला सुलझाने में अमेरिका कर सकता है मदद

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि अगर वह भारत चीन विवाद में मदद कर सकते हैं, तो उन्हें काफ़ी खुशी होगी। ट्रंप ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उम्मीद जताई कि भारत और चीन मौजूदा सीमा विवादों को खुद ही हल करने में सक्षम होंगे। इस दौरान उन्होंने दोनों एशियाई दिग्गजों की मदद के लिए अपना प्रस्ताव दोहराया। ट्रंप ने व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा, ‘मुझे पता है कि अब चीन और भारत को कठिनाई हो रही है। उम्मीद है कि वे इसे हल कर पाएंगे। अगर हम मदद कर सकते हैं, तो हम मदद करना पसंद करेंगे।’

डोनाल्ड ट्रंप (फाइल फोटो)

ट्रंप का यह बयान ऐसे समय पर आया है जब एक दिन पहले भारत और चीन के सैन्य कमांडरों ने लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर महीनों से जारी गतिरोध को खत्म करने के लिए बातचीत की है। दोनों देश हिमालय में विवादित सीमा पर अधिक सैनिकों को न भेजे जाने पर सहमत हो गए हैं। इसी बीच द वॉल स्ट्रीट जर्नल ने बताया कि सीमा संघर्ष भारत को एक असममित (असिमेट्रिक) प्रतिक्रिया के लिए प्रेरित कर रहा है।

अखबार ने कहा, ‘भारत नए जहाजों के निर्माण के दौरान अमेरिका और उसके सहयोगियों के साथ संयुक्त नौसैनिक युद्धाभ्यास तेज कर रहा है। साथ ही तटीय निगरानी चौकियों का एक नेटवर्क स्थापित कर रहा है जो नई दिल्ली को हिंद महासागर के समुद्री यातायात पर नजर रखने की इजाजत देगा।’

Loading...

ट्रंप बोले- अमेरिका कोरोना के खिलाफ 'बहुत अच्छा' कर रहा, भारत में 'जबर्दस्त  समस्या' है - Donald trump said america is doing very good against corona  india has tremendous problem - Latest

ग्रांड तमाशा पॉडकास्ट में भारत और दक्षिण एशिया पर अमेरिकी विशेषज्ञ एशले टेलिस ने कहा कि ट्रंप प्रशासन ने इस संकट में भारत का बहुत पारदर्शी तौर पर समर्थन किया है। यह निश्चित रूप से चीन का व्यापक पैमाने पर सामना करने के अवसरों से प्रेरित है। उन्होंने कहा कि चीनी आक्रमण इतना जबरदस्त रहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका स्टैंडबाय पर नहीं खड़ा नहीं हो सका और न ही वो तो इसे अनदेखा कर सकता है।

टेलिस ने कहा, ‘चीन ने सैन्य कार्रवाई की ओर तेजी से कदम बढ़ाए जिसके परिणामस्वरूप जानमाल का नुकसान हुआ है। मुझे लगता है कि उसने खुद को संयुक्त राज्य के विपरीत दिशा में खड़ा कर दिया है। इसके अलावा चीन के साथ ट्रंप प्रशासन की अपनी द्विपक्षीय समस्याएं हैं जिसकी वजह से उसके पास भारत का समर्थन करने की बजाय कोई और विकल्प नहीं है।’

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/