Breaking News

अच्छी ख़बर :- कोरोना संकट के बीच 30 हजार लोग पहुंचे चारधाम, 500 से ज्यादा पर्यटकों ने किया फूलों की घाटी का दीदार

उत्तराखंड सरकार की ओर से अनलॉक-4 में प्रतिबंधों में छूट देने से पर्यटकों की आमद बढ़ने लगी है। 30 हजार से ज्यादा तीर्थ यात्री चारधाम में दर्शन कर चुके हैं। इस सीजन में साहसिक यात्रा के शौकीन और घाटी के सौंदर्य को निहारने के लिए 530 पर्यटक ही पहुंचे हैं। नंदा देवी राष्ट्रीय पार्क को अब अगले वर्ष से घाटी में फिर से पर्यटकों के उमड़ने की उम्मीद है। सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर ने कहा कि फूलों की घाटी विदेशी पर्यटकों के लिए स्विट्जरलैंड के ट्यूलिप मीडोज से कम नहीं है।

एक अगस्त से पर्यटकों के लिए फूलों की घाटी को खोला गया था। अब तक 530 पर्यटक फूलों की घाटी में आ चुके हैं। पिछले साल 15 हजार पर्यटन वैली में आए थे।

Loading...

फूलों की घाटी में सबसे पहले एनीमोन और प्रिमुला प्रजाति के पुष्प खिलते हैं। 15 जून से 15 सितंबर तक यहां जर्मेनियम, मार्श, गेंदा, पोटेंटिला, लिलियम, हिमालयी नीला पोस्त, बछनाग, डेलफिनियम, रानुनकुलस, कोरिडालिस, इंडुला, सौसुरिया, कंपानुला, पेडिक्युलरिस, मोरिना, इंपेटिनस, बिस्टोरटा, लिगुलारिया, लोबिलिया, थर्मोपसिस, ट्रौलियस, एक्युलेगिया सहित फूलों की 300 से भी अधिक प्रजाति खिलती है। पर्वत श्रृंखलाओं की तलहटी में ब्रह्मकमल भी खिले रहे।

पर्यटकों के लिए कोविड जांच की निगेटिव रिपोर्ट, होटल व होम स्टे में दो दिन ठहरने की बुकिंग का प्रतिबंध हटाने से उत्तराखंड आने वाले पर्यटकों की संख्या बढ़ेगी। पर्यटक आवास सुविधाओं के लिए फूलों की घाटी के बेस कैंप घाघरिया स्थित कई होटल, गेस्टहाउस, होम स्टे और कैंप की बुकिंग करा सकते हैं।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/