Breaking News

कई मुख्यमंत्रियों को पीछे छोड़ आगे निकले सीएम त्रिवेंद्र, अब एनडी तिवारी के तोड़ेंगे रिकॉर्ड

देहरादून। उत्तराखंड राज्य को बने हुए 20 साल चल रहा है,लेकिन इन 20 सालों में उत्तराखंड में राजनीति की बात करें तो 70 विधानसभा सीटों वाले छोटे से राज्य में हमेशा की राजनैतिक अस्थिरता का माहौल बना रहा है। 2002 से लेकर 2007 तक एनडी तिवारी के नेतृत्व में कांग्रेस ने पूरे 5 साल एक चेहरे पर भरोषा जताते हुए मुख्यमंत्री नहीं बदला,एनडी तिवारी अब तक उत्तराखंड के एक ऐसे मुख्यमंत्री रहे जिन्होने प्रदेश में सरकार पूरे 5 साल चलाई और अकेले मुख्यमंत्री रहें है,जिनहोने 5 साल मुख्यमंत्री की कुर्सी संभाली।

एनडी तिवारी के बाद अब उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी संभाल रहे त्रिवेंद्र सिंह रावत ने एनडी तिवारी के बाद सबसे ज्यादा दिनों तक मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालने का रिकाॅर्ड बनाया है। यानी कि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री की कुर्सी सबसे ज्यादा दिनों तक संभालने का  रिकाॅर्ड जहां एनडी तिवारी के नाम है,वहीं उसके बाद सबसे ज्यादा दिनों तक मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालने का रिकाॅर्ड अब मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के नाम हो गया है।

पहली निर्वाचित सरकार के मुख्यमंत्री के रहते एनडी तिवारी ने 1832 दिन तक मुख्यमंत्री की कुर्सी संभाली वहीं अब मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने एनडी तिवारी के बाद 1281 दिन तक मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालने का रिकाॅड बनाया है,और जिस अंदाज में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत प्रदेश के मुख्यमंत्री की कर्सुी संभालने का जिम्मा संभाले हुए है,उसे लगता यहीं है कि एडनी तिवारी के बाद त्रिवेंद्र सिंह रावत पूरे 5 साल मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालने वाले प्रदेश के दूसरे मुख्यमंत्री बनेगे और एडनी तिवारी बराबरी कर लेंगे.

Loading...

वहीं 1097 दिनों तक मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालने के साथ हरीश रावत प्रदेश की कमान सबसे ज्यादा दिनों तक संभालने की लिष्ट में तीसरे नम्बर पर है। वहीं बीसी खंडूरी इस लिष्ट मेें चैथे नम्बर पर है,839 दिनों तक एक बार में यानी 8 मार्च 2007 से एक बार में तो 11 सितम्बर 2011 से 13 मार्च 2012 तक 185 तक दूसरी बार बार प्रदेश की कमान संभालने के दौरान कुल मिलाकर 1024 दिन तक मुख्यमंत्री के रूप में खंडूरी ने प्रदेश की कमान संभाली है।

वहीं 5 नम्बर पर 808 दिनों तक रमेश पोखरियाल निशंक प्रदेश की कमान संभाली है। तो 690 दिन तक विजय बुहगुणा ने प्रदेश की कमाना संभाली है। जबकि राज्य गठन के बाद पहली अंतरिम सरकार में मुख्यमंत्री के रूप में 354 दिनों तक नित्यनंद स्वामी तो 123 दिन तक अंतरिम सरकार में दूसरे मुख्यमत्री के रूप में भगत सिंह कोश्यारी ने प्रदेश के मुख्यमंत्री की कमान संभाली है। लेकिन कुल मिलाकर देखे तो जिस तरह से उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के रूप में त्रिवेंद्र सिंह रावत का नेतृत्व रहा है,उससे कहा जा सकता है कि त्रिवेंद्र पूरे 5 साल का नारा जो भाजपा ने त्रिवेंद्र सिंह रावत के मुख्यमंत्री बनने के बाद दिया था,वह पूरा होगा।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/