Breaking News

SSR केस: पहली बार संदीप सिंह ने सभी आरोपों पर तोड़ी चुप्पी, इन 4 पोस्ट के जरिए दिया हर सवाल का जवाब

एक्टर सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput Case) के मामले में कई ऐसी गुत्थियां हैं जो अभी भी एक पहेली की तरह बनी हुई है. इसे सुलझाने के लिए सीबीआई (CBI) से लेकर नारकोटिक्स ब्यूरो की टीम दिन रात एक कर रही है. इस मसले में सुशांत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) बुरी तरह से फंस चुकी हैं. तो वहीं दूसरी तरफ सुशांत के मामले में उनके दोस्त संदीप सिंह (Sandip Ssingh) को लेकर भी कई तरह की खबरें सामने आ रही हैं. दरअसल ये वही संदीप सिंह हैं जिन्हें सुशांत की डेथ के बाद उनके घर से लेकर पोस्टमार्टम और अंतिम संस्कार में देखा गया. इसके साथ ही उन्होंने एक्टर के मौत पर सोशल मीडिया के जरिए काफी दुख भी जताया है. जिसे देखकर ये कहा जा सकता है कि संदीप वाकई सुशांत के काफी करीबी दोस्त थे.

लेकिन सवाल ये उठता है कि यदि संदीप सुशांत के इतने करीब थे तो दोनों के बीच काफी लंबे अरसे से बातचीत क्यों नहीं हुई? यहां तक कि वो सुशांत के घरवालों से भी कभी नहीं मिले. तो एक्टर को लेकर इतनी सहानुभूति क्यों दिखा रहे हैं. क्या वो कुछ छिपाने की कोशिश कर रहे हैं? हालांकि ऐसे कई सवाल संदीप पर उठाए जा रहे हैं. जिन सवालों पर पहली बार संदीप सिंह ने चुप्पी तोड़ते हुए सोशल मीडिया के जरिए अपनी बात रखी है. यहां तक कि अपने इंस्टा अकाउंट पर संदीप ने कुछ चैट के स्क्रीनशॉट भी साझा किए हैं जो उन्होंने एंबुलेंस ड्राइवर और सुशांत की बहन मीतू सिंह से बात की थी.

Loading...

दरअसल इंस्टाग्राम पर अपनी पहली पोस्ट साझा करते हुए संदीप सिंह ने लिखा है कि, ‘माफ करें मेरे भाई, लेकिन मेरी चुप्पी ने मेरी 20 साल से बनाई हुई छवि और फैमिली को टुकड़ों में तोड़ कर रख दिया है. क्योंकि मुझे इस बात का अंदाजा तक नहीं था कि दोस्ती के लिए अब किसी प्रमाण पत्र की जरूरत होती है. इसलिए आज पहली बार मैं अपनी पर्सनल चैट को इस तरह पब्लिकली साझा कर रहा हूं. क्योंकि यही एक अंतिम चारा है जो हमारे रिश्ते को साबित करता है.’

बता दें कि जब मीडिया से संदीप सिंह रूबरू हुए तो उनसे ये सवाल किया गया था कि बीते एक साल से आप सुशांत के संपर्क में नहीं थे लेकिन जब उनकी मौत हुई तो आप अचानक से हर जगह दिखने लगे? इस सवाल का जवाब देते हुए संदीप ने कहा था कि, मैं एक बिहारी परिवार से ताल्लुक रखता हूं, ऐसे में यदि हम किसी अनजान शख्स की भी अर्थी को देखते हैं तो उसे भी कंधा दे देते हैं, और ये तो मेरा अपना दोस्त था. संदीप ने ये भी बताया कि मैं सुशांत से साल 2011 में मिला और हमारी दोस्ती उसी दौरान शुरू हुई. इसके साथ ही संदीप ने एक और पोस्ट किया है. जिसमें उन्होंने लिखा है कि, ’14 जून के दिन जब तुम्हारे बारे में सुना, तो खुद पर वहां आने से कंट्रोल नहीं कर पाया, और तुम्हारे घर की ओर दौड़ पड़ा. लेकिन जब वहां पर सिर्फ मीतू दीदी को देखा तो मैं दंग रह गया क्योंकि फैमिली से सिर्फ वही एक थीं. ऐसे में मैं यही सोच रहा हूं कि क्या वहां उस वक्त मैंने तुम्हारी बहन के इस कठिन दौर में उनका साथ देकर कोई गुनाह किया या मुझे तुम्हारे दोस्तों के आने का इंतजार करना चाहिए था.’

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/