Breaking News

दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन: इस हफ्ते आम लोगों के लिए होगी उपलब्ध

कोरोना के कहर के बीच रूस के राष्ट्रपति व्लादिपुतिन ने अचानक 11 अगस्त को ऐलान किया था कि रूस ने कोरोना पर वैक्सीन बना ली है. इसके बाद पूरी दुनिया के एक्सपर्ट्स अचरज में पड़ गए. इसी बीच रूस ने फिर खुशखबरी देते हुए बताया कि इसी सप्ताह यह वैक्सीन आम लोगों के लिए उपलब्ध होगी.

दरअसल, रूस के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा है कि इस हफ्ते से कोरोना वायरस वैक्सीन ‘स्पूतनिक वी’ को आम नागरिकों के लिए जारी कर दिया जाएगा. इस वैक्सीन को रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने 11 अगस्त को लॉन्च किया था.

रूसी न्यूज एजेंसी TASS ने रशियन एकेडमी ऑफ साइंसेस में डेप्युटी डायरेक्टर डेनिस लोगुनोव के हवाले से कहा कि स्पूतनिक वी वैक्सीन को रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय की अनुमति के बाद व्यापक उपयोग के लिए जारी किया जाएगा. स्वास्थ्य मंत्रालय इस वैक्सीन का टेस्ट शुरू करने जा रहा है और हम जल्द ही इसकी अनुमति हासिल कर लेंगे.

रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने कहा कि आम लोगों को वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिए निश्चित प्रक्रिया है.  10 से 13 सितंबर के बीच नागरिक इस्तेमाल के लिए वैक्सीन के बैच की अनुमति प्राप्त करनी है. इसके बाद जनता को वैक्सीन लगाई जानी शुरू हो जाएगी.

बता दें कि इस वैक्सीन को मॉस्‍को के गामलेया रिसर्च इंस्टिट्यूट ने रूसी रक्षा मंत्रालय के साथ मिलकर एडेनोवायरस को बेस बनाकर तैयार किया है. इस वैक्सीन के दो ट्रायल इस साल जून-जुलाई में किए गए थे और इसमें 76 प्रतिभागी शामिल थे. परिणामों में 100 फीसदी एंटीबॉडी विकसित हुई थी.

मानव शरीर में ‘ऐंटीबॉडी’ बना रही वैक्सीन

वैक्सीन का वितरण रूसी स्वास्थ्य मंत्रालय की जांच के तहत किया जाएगा. लोगुनोव ने कहा कि वितरण को हाई रिस्क वाली जगहों पर प्राथमिकता दी जाएगी. द लांसेट जर्नल में शुक्रवार को प्रकाशित एक अध्ययन में यह दावा किया गया कि कोविड-19 के रूसी टीके ‘Sputnik V’ के कम संख्या में मानवों पर किए गए परीक्षणों में कोई गंभीर नुकसान पहुंचाने वाला परिणाम सामने नहीं आया है. इसने परीक्षणों में शामिल किए गए सभी लोगों में ‘ऐंटीबॉडी’ भी विकसित की.

Loading...

ईरान- रूस मिलकर करेंगे वैक्सीन का प्रोडक्शन

IANS की रिपोर्ट के मुताबिक ईरान-रूस के बीच वैक्सीन के प्रोडक्शन को लेकर कोऑपरेशन की घोषणा शनिवार को मॉस्को में ईरान के राजदूत कजेम जलाली और रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष के सीईओ किरील दिमित्रिग ने ऑनलाइन मीटिंग में की. इस दौरान जलाली ने दोनों देशों के बीच स्वास्थ्य और चिकित्सा सहयोग का आह्वान किया.

भारत और रूस के बीच चर्चा जारी

 हाल ही में लॉन्च की गई रूस की कोरोना वैक्सीन की सप्लाई और उत्पादन को लेकर भारत और रूस के बीच कई स्तरों पर बातचीत चल रही है. भारत में रूस के राजदूत निकोलेय कुशादेव ने इस बात की जानकारी दी है.

आधिकारिक सूत्रों ने अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को जानकारी दी है की रूस ने भारत के साथ स्पूतनिक V को लेकर सहयोग के तरीके साझा किए हैं. भारत सरकार फिलहाल इसका बारीकी से अध्ययन कर रही है. रूस के राजदूत कुशादेव ने कहा ‘कुछ जरूरी तकनीकी प्रक्रियाओं के बाद वैक्सीन बड़े पैमाने पर (अन्य देशों में भी) इस्तेमाल की जा सकेगी.’

माना जा रहा है कि विदेश मंत्री एस जयशंकर के हालिया रूस दौरे के दौरान भी कोरोना के टीके को लेकर चर्चा होगी. आपको बता दें कि रूस इसी हफ्ते से कोरोना वैक्सीन स्पूतनिक वी को आम नागरिकों के लिए उपलब्ध कराने जा रहा है. इस वैक्सीन को मॉस्‍को के गामलेया रिसर्च इंस्टिट्यूट ने रूसी रक्षा मंत्रालय के साथ मिलकर एडेनोवायरस को बेस बनाकर तैयार किया है.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/