Breaking News

SSR केस की जांच करने से पहले CBI को BMC से इस बात की लेनी होगी मंजूरी, ये है बड़ी वजह

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मामले की जांच अब सीबीआई को सौंप दी गई है। सर्वोच्च न्यायलय के इस निर्देश के बाद सुशांत के प्रशंसकों के बीच खुशी की लहर है। कोर्ट के इस फैसले को सभी सच की जीत बता रहे हैं। माना जा रहा है कि सीबीआई को जांच सौंपे जाने के बाद अब इस पूरे मामले की हकीकत सामने आएगी, लेकिन इससे पहले बीएमसी (बृहन्मुंबई महानगर पालिका) के एक शीर्ष अधिकारी ने सीबीआई को सौंपे गए जांच के संदर्भ में कहा कि अगर सीबीआई को जांच के मामले में मुंबई के किसी शहर में एक सप्ताह से अधिक समय बीताना है तो उसे इसकी जानकारी पहले बीएमसी को देनी होगी। उसे गृह पृथक वास के लिए बकायदा आवेदन करना होगा।

मुंबई पुलिस भी करती रहेगी जांच 
इस संदर्भ में अधिक जानकारी देते हुए बीएमसी के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार के नियमों के मुताबिक महत्वपूर्ण काम की वजह से प्रदेश में आने वाले सभी सरकारी अधिकारियों को नियमों को पृथक वास में छूट दी गई है। उधर, कोविड-19 की जांच कर रहे डॉक्टरों को भी नियमों के मुताबिक सात दिनों के पृथकवास की छूट दी गई है। इस बीच बीएमसी ने साफ कर दिया है कि अगर किसी को सात दिन से अधिक समय तक रहना है तो उसे नियमों के तहत जांच के आदेश देने होंगे। उधर, महाराष्ट्र सरकार के मंत्री ने कहा कि सीबीआई के साथ-साथ महाराष्ट्र पुलिस भी इस पूरे प्रकरण की जांच करती रहेगी।

Loading...

उधर, सुप्रीम कोर्ट द्वारा सुशांत सिंह मामले की जांच सीबीआई को सौंपे जाने पर शिवसेना के मंत्री ने कहा कि मुंबई पुलिस द्वारा अब तक हुई जांच में किसी प्रकार की कोई त्रूटि नहीं पाई गई है। शिवसेना के वरिष्ठ नेता परब सिंह का दावा है कि अभी तक कोर्ट द्वार मुंबई पुलिस की जांच में कोई त्रूटि नहीं पाई गई है। परब ने कहा कि महाराष्ट्र इतना चाहती था कि इस पूरे मामले को मुंबई पुलिस को स्थांनारित किया जाए, चूंकि यह उसके क्षेत्राधिकार का मसला है।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/