Breaking News

तबलीगी जमात मामले में 20 ठिकानों पर ED ने मारा छापा…ये है वजह

तबलीगी जमात मनी लॉन्ड्रिंग मामले में प्रवर्तन निदेशालय अंधेरी सहित मुंबई में चार स्थानों पर छापेमारी कर रहा है। ईडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने एचटी ये जानकारी दी है। ईडी भारत और विदेश दोनों जगहों से निज़ामुद्दीन में तब्लीगी जमात मरकज़ की फंडिंग की जांच कर रहा है। तब्लीगी जमात के जरिए ही यह धार्मिक मण्डली और विदेशियों की यात्रा विभिन्न राज्यों में आयोजित की जाती है।

केंद्रीय एजेंसी ने अप्रैल में तब्लीगी जमात प्रमुख मौलाना मुहम्मद साद और पांच अन्य लोगों के खिलाफ दिल्ली पुलिस अपराध शाखा की प्राथमिकी के आधार पर धन शोधन रोकथाम अधिनियम के तहत अपनी जांच शुरू की थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि जमात सदस्यों ने देशव्यापी तालाबंदी का उल्लंघन किया था। इसमें साद को भी दोषी ठहराया गया। एक अधिकारी ने बताया कि जमात के स्रोत की और दुनिया भर के साद को मिले फंड कीजांच ईडी द्वारा की जा रही है। ईडी की जांच इस बात पर भी केंद्रित है कि क्या मारकज को प्राप्त दान मनी लॉन्ड्रिंग का हिस्सा था और क्या इसे हवाला या गैर-बैंकिंग चैनलों के माध्यम से स्थानांतरित किया गया था।

Loading...

जमात के मुंबई और आसपास के जिलों में कार्यालय और सदस्य हैं। इसके सदस्यों के ठिकानों पर संदिग्ध मनी लॉन्ड्रिंग पर और सबूत जुटाने के लिए छापेमारी की जा रही है। ईडी ने देश भर में अलग-अलग आयोजनों में जमात द्वारा धन के उपयोग की जांच की और धन के संचालकों की पहचान की। अप्रैल में सरकार ने कहा था कि तब्लीगी जमात के सदस्य कोरोना वायरस के प्रारंभिक प्रसार का कारण थे। तबलीगी के लगभग 26,000 संपर्क देश भर में थे।

गृह मंत्रालय ने तब लगभग 1500 विदेशी तब्लीगी कार्यकर्ताओं को उनके वीजा की शर्तों का उल्लंघन करने के लिए ब्लैकलिस्ट कर दिया था। देश भर में जमात के खिलाफ कई मामले दर्ज किए गए थे जिनमें महाराष्ट्र में संक्रामक बीमारी फैलाने के लिए जमात के खिलाफ किए गए थे।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/