Breaking News

एक्ट्रेस अक्षरा सिंह ने खोले फिल्म इंडस्ट्री के काले चिट्ठे, कहा- मैं शिकार बनी…

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद नेपोटिज्म पर जमकर बहस हो रही है। बॉलीवुड से जुड़े कई सेलेब्स इन दिनों नेपोटिज्म और ग्रुपिज्म पर खुलकर बोल रहे है। इतना ही नहीं, नेपोटिज्म की वजह से सलमान खान, करण जौहर समेत कई बड़े स्टार्स सोशल मीडिया पर लोगों के निशाने पर है लेकिन इन सबके बीच अब भोजपुरी इंडस्ट्री की टॉप एक्ट्रेस अक्षरा सिंह ने भी फिल्मी दुनिया के राज खोले है। अक्षरा सिंह ने फैंस को भोजपुरी इंडस्ट्री की सच्चाई बताई है। इतना ही नहीं, एक्ट्रेस ने फैंस के बीच उन दिनों का भी जिक्र किया। जब भोजपूरी इंडस्ट्री में उनके साथ भी भेदभाव हुआ था। एक्ट्रेस ने बताया कि कई मेल एक्टर थे जो एक तरफ हो गए थे।

दरअसल अक्षरा सिंह ने अपने यू-ट्यूब चैनल पर एक वीडियो शेयर किया। इस वीडियो में एक्ट्रेस ने नेपोटिज्म और ग्रुपिज्म के बारे में खुलकर बात की। एक्ट्रेस ने कहा कि बॉलीवुड में नेपोटिज्म है लेकिन हमारी इंडस्ट्री में ग्रुपिज्म है वो भी बहुत हद तक। जिसकी शिकार मैं भी हो चुकी हूं। मैं जब इंडस्ट्री में नई-नई आई थी मैं एक हीरो के साथ करती थी। तो बाकि सब हीरो मेरे साथ काम करने के लिए मना कर देते थे। वो लोग कहते थे कि ये तो इसके साथ काम कर रही है, उसके साथ काम कर रही हैं। इसके काम नहीं मिलेगा अब, इसको फिल्में मत देना। जैसी बातों का मुझे भी सामना करना पड़ा है।

Loading...

इसके आगे एक्ट्रेस ने कहा कि, ‘कई किस्से है जो खत्म हो चुके थे लेकिन फिर भी वो बातें दोबारा शुरू हुई थी। ये सब चीजे आप जानते है। आपसे कुछ नही छुपा है। मेरे बोलने के बाद मुझे फिल्मों से निकाला जाने लगा। ऐसे में वो लोग ग्रुप बनाकर एक तरफ हो गए। मेरे खिलाफ ग्रुपिज्म शुरू हो गया था। यहां एक कोई भगवान बन गया था और अब उसके इर्द-गिर्द घूमने लगे थे। कुछ लोग मेरा साथ देना चाहते थे पर वो भी मजबूत थे। लेकिन मैं समझ गई थी इसलिए मैंने सरवाइव करने के लिए गाना शुरू किया। जिसके बाद ही मेरे पास पैसा आना शुरू हुआ। जिसके बाद गाने रातों रात गाने हिट होने लगे। इसी दौरान मेरे पास एक कॉल आया था। और कहा कि गाना फटाफट भेजो। लेकिन मेरा वो गाना भी रिलीज नहीं हुआ। जिसका कारण बताते हुए मुझसे कहा गया कि ऊपर से प्रेशर है।’

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/