Breaking News

कोरोना काल में देश की सुरक्षा को तैयार ‘शूरवीर’, देश को मिले 333 नए अफसर

कोरोना वायरस महामारी के साथ-साथ देश को सरहद पर चीन की चुनौती का सामना भी करना पड़ रहा है। लाइन ऑफ एक्चुआल कंट्रोल यानी एलएसी (LAC) पर भारत-चीन के बीच तनातनी जारी है। इस बीच आज देवभूमि उत्तराखंड के देहरादून में भारतीय सैन्य अकादमी में प्रशिक्षु अधिकारियों की पासिंग आउट परेड हुई।

देहरादून स्थित भारतीय सैन्य अकादमी यानी IMA में शनिवार को पासिंग आउट परेड आयोजित की गई। परेड के बाद कुल 423 जेंटलमैन कैडेट इंडियन मिलिट्री एकेडमी से भारतीय सेना के अधिकारी बन गए। इनमें 333 युवा सैन्य अधिकारी भारतीय थलसेना को मिले, जबकि अफगानिस्तान समेत नौ मित्र देशों के 90 सैन्य अधिकारी अपनी सेनाओं में शामिल होंगे।

सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे ने परेड की सलामी ली। सेना के यूट्यूब चैनल पर परेड का प्रसारण किया गया। सेना प्रमुख नरवणे ने जवानों का सेना में स्वागत करते हुए परिवारवालों से कहा कि कल तक ये आपके बच्चे थे, आज से हमारे हैं। सेना प्रमुख ने स्वॉर्ड ऑफ ऑनर अवॉर्ड आकाश ढिल्लों को प्रदान किया।

Loading...

Naravane

दरअसल, कोरोना संकट के चलते जीवन के इस बेहद खास पल में इन सभी जेंटलमैन कैडेट्स के परिजनों को इस समारोह में शामिल होने का मौका नहीं मिला। इंडियन मिलिट्री एकेडमी के 87 वर्ष के इतिहास में ऐसा पहली बार है जब परिवार के लोग नए अधिकारियों के कंधों पर सितारे नहीं लगा पाए।

बता दें कि इस दौरान परेड के दौरान भी सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पूरा पालन किया गया। 2 गज की दूरी के साथ IMA की पासिंग आउट परेड हुई। अधिकारी से लेकर कैडेट सभी मास्क पहने हुए नजर आए। परेड सादगी के साथ आयोजित की गई। हल्की बारिश के बीच परेड जारी रही। दरअसल, बारिश के दौरान परेड को चालू रखा जाता है। अगर किसी भी वजह से परेड कैसिंल करनी पड़े या अंदर ले जानी पड़े, उसे इंडियन मिलिट्री एकेडमी में मान्यता के अनुसार अपशगुन माना जाता है।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/