Breaking News

59 साल बाद शिवरात्रि पर बन रहा राजयोग, ऐसे होंगे भोलेनाथ प्रसन्न

भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए महाशिवरात्रि से का दिन सबसे खास माना जाता है। इस साल महाशिवरात्रि का त्यौहार 21 फरवरी को मनाया जाएगा। इस साल की शिवरात्रि को ज्योतिष्य शास्त्र में काफी महत्त्व दिया जा रहा है। माना जा रहा है कि इस बार शिवरात्रि पर 59 साल बाद विशेष योग बन रहा है। इस दिन भोले नाथ के सभी भक्तो की मनोकामना पूरी होने वाली है।

ज्योतिषों के अनुसार इस बार महाशिवरात्रि पर ग्रहों की विशेष स्थिति बन रही है। इस वर्ष महाशिवरात्रि पर शनि अपनी ही राशि मकर में होंगे, जिसके कारण शश योग बन रहा है। इस योग को राजयोग कहा जाता है। इसके अलावा मकर राशि में शनि और चंद्रमा रहेंगे, कुंभ में सूर्य-बुध की युति रहेगी, शुक्र अपनी उच्च राशि मीन में रहेगा। ग्रहों के ये सभी योग इससे पहले साल 1961 में बने थे और अब 59 साल बाद फिर से ग्रहों के ये योग बन रहे हैं।

ग्रहों के इस योग से भोलेनाथ के भक्तों को कई शुभ फल प्राप्त होने वाले है। इस दिन शिव पार्वती की पूजा करने से मनचाहा जीवनसाथी प्राप्त होता है। इस दिन सच्चे मन से इस दिन भोलेनाथ की पूजा करने से मन की सभी मनोकामनाएं पूरी होती है।

Loading...

शिवरात्रि पर ऐसे करें भगवान भोलेनाथ की पूजा

महाशिवरात्रि की पूजा सुबह और शाम के समय की जाती है। कई लोग रात तक जागकर शिव जी की पूजा करते हैं। पूजा करने हेतु आप शिव मंदिर जाएं और शिवलिंग पर पानी चढ़ाएं। पानी चढाने के बाद शिव का अभिषेक करें। शिव जी को प्रसन्न करने के लिए उनपर बेलपत्र, आक-धतूरे के फूल, चावल आदि चीजें अर्पित करें। इसके बाद शिव जी को चंदन का तिलक लगाएं और शिव जी के पास एक दीपक जला दें।

शिव जी की तरह ही मां पार्वती की पूजा भी इस दिन जरूर करें। मां पार्वती की पूजा करने के लिए उन्हें मोली का धागा अर्पित करें। हो सके तो मोली के धागे को शिवलिंग और पार्वती पर एक साध लपेट दें। इसके बाद मां को फूल और हरे रंग की चूड़ियां पहनाएं।अब मां के सामने एक घी का दीपक जला दें और मां की पूजा करें। शिवरात्रि के दिन आप चाहे तो शिव पुराण का पाठ भी कर सकते हैं।

error: Content is protected !!
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/