Breaking News

अभी-अभी : बाबा रामदेव पर महिला ने लगाया आरोप, महिला ने कहा- बाबा ने मुझे बर्बाद करके रख दिया

कुरुक्षेत्र हरियाणा की रहने वाली एक महिला ने बाबा रामदेव पर गंभीर आरोप लगाए हैं।

आरोप ये है कि बाबा रामदेव ने जबरन एक युवा को सन्यास लेने पर मजबूर किया है। साथ ही दो वर्षो से उसे उसके परिवार से भी मिलने नहीं दिया जा रहा।  बता दें कि आज ही योग गुरु बाबा रामदेव ने 41 महिलाओं और 51 पुरुषों को सन्यास की दीक्षा दी है।
कुरूक्षेत्र की एक मां को जब इस बात का पता चलता है कि उसके बेटे ने सन्यास ले लिया है, तो उसके पैरों तले जमीन खिसक गई। उसने भी अपने बेटे के कई सपने बुने थे जो पलभर में चकनाचूर हो गए। मां का कहना है कि बाबा ने मुझे बर्बाद कर दिया है। मेरा बेटा अब मेरा नहीं रहा।  कुरुक्षेत्र की रहने वाली महिला ने कहा की उसका इकलौता बेटा है ओम सिंह और जबरदस्ती उसको सन्यासी बना दिया गया हैं, दो वर्षों से हमे उससे मिलने भी नहीं दिया जाता।
रोती बिलखती मां ने इस दौरान योग गुरु बाबा रामदेव पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि पढ़ाई करने के लिए मेरा बेटा यहां आया था लेकिन बाबा रामदेव ने उसको सन्यासी बनाया हैं। हमारी कोई इच्छा नहीं है की हमारा बेटा सन्यासी बने। मां दे रोते-बिलखते कहा कि मेरे बेटे ओम सिंह के लिए हमने तमाम सपने देखे थे। लेकिन दो साल से बच्चे से मिलने भी नहीं दिया जा रहा है।कहा जाता है मां अपने बच्चों की खुशी के लिए के लिए पूरी कायनात से लड़ जाती है। वो अपने जिंगर के टुकड़े को हमेशा खुश देखना चाहती है।
मां की ममता कहें या प्यार अपने बच्चों की खुशी के लिए अपना जीवन तपा देती है। वहीं एक मां ने बाबा रामदेव पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने बाबा रामदेव पर अपने एकलौते बेटे को जबरदस्ती सन्यासी बनाने का आरोप लगाया है। बताते चलें कि योग गुरु बाबा रामदेव ने 41 महिलाओं और 51 पुरुषों को आज सन्यास की दीक्षा दी। पिछले चार दिनों से पूरे विधि विधान के साथ योग गुरु विद्वान सन्यासी तैयार करने का दम भर रहे हैं और देश को 2050 तक एक हजार आध्यात्मिक गुरु देंगे। लेकिन सन्यास ग्रहण करने वाले नौजवान सन्यासियों में से एक सन्यासी की मां ने बाबा रामदेव के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

आपका एक लाइक बताएगा कि आपको यह खबर पसंद आई है, अगर खबर पसंद है तो लाइक जरुर करें?

Loading...
error: Content is protected !!
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/