Breaking News

बुआजी के राजनितिक दांव से इस मुसीबत में फसा बबुआ

लखनऊ । समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन में अब नया पेंच आ गया है। आगामी 23 मार्च को होने वाले राज्यसभा चुनाव में बसपा अपने उम्मीदवार भीमराव अंबेडकर को जिताने के लिए हर हथकंडा अपना रही है। सपा अपने 10 अतिरिक्त वोट बसपा को देने का वादा किया है, लेकिन नरेश अग्रवाल के भाजपा में चले जाने के बाद उनके बेटे नितिन अग्रवाल अब भाजपा उम्मीदवार को वोट देंगे। इसके अलावा एक और सपा विधायक के भाजपा खेमे में जाने के आसार हैं। जिससे बसपा की चिंता बढ़ गयी है। इसी के चलते बुआजी ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को फोन कर सपा के 10 प्रतिबद्ध विधायकों के वोट बसपा उम्मीदवार को आवंटित करने का आग्रह किया है।

सपा की अधिकृत उम्मीदवार जया बच्चन को सीट निकालने में मुश्किल

इस आग्रह के चलते अब अखिलेश पशोपेश में हैं, क्योंकि 10 प्रतिबद्ध विधायकों के वोट अगर बसपा को दे दिये। इसके बाद राज्यसभा चुनावों में यदि क्रॉस वोटिंग हो गयी तो सपा की अधिकृत उम्मीदवार जया बच्चन को सीट निकालने में मुश्किल हो जायेगी। सपा के सूत्रों के मुताबिक पार्टी के अधिकांश नेता बसपा मुखिया के इस आग्रह को मानने के पक्ष में नहीं हैं, लेकिन अंतिम निर्णय अखिलेश पर छोड़ दिया गया है।

अखिलेश के निर्णय पर टिका सपा का राज्यसभा चुनाव का गणित

बसपा के 19 विधायक हैं और सीट जीतने के लिए 37 विधायक चाहिए। बसपा की रणनीति है कि सपा के 10 वोट अगर उसे मिल जाएं तो उसकी राह आसान हो सकती है, क्योंकि कांग्रेस के 7 और रालोद का एक वोट उसे मिलना पहले से ही तय है। इससे पहले बुधवार देर रात सपा और भाजपा ने विधायकों के लिए रात्रिभोज का आयोजन किया । इसमें राज्यसभा चुनावों के लिए पार्टी विधायकों को निर्देश भी दिये गये। अखिलेश यादव के रात्रिभोज में उनके चाचा शिवपाल सिंह यादव और निर्दलीय विधायक राजा भैय्या शमिल हुए। सपा विधायकों और नेताओं की बैठक को संबोधित करते हुए अखिलेश ने कहा कि भाजपा मनमानी पर उतारू है। यदि भाजपा में जरा भी नैतिकता और लोकतांत्रिक मूल्यों की परवाह होती तो वह राज्यसभा के लिए नौवां प्रत्याशी नहीं उतारती। लगता है कि भाजपा को कदाचार से कोई परहेज नहीं है।

राज्यसभा चुनाव 23 मार्च को

शिवपाल यादव ने कहा कि वह राज्य सभा चुनाव में मतदान करूंगा। सपा और सपा समर्थित बसपा उम्मीदवार इसमें जीतेंगे। मेरा आशीर्वाद हमेशा अखिलेश के साथ है। इससे घोषणा से अखिलेश ने राहत की सांस ली। इस रात्रिभोज में पार्टी की प्रत्याशी जया ब​च्चन और सांसद डिंपल यादव भी मौजूद थी। बतातें चलें कि भाजपा ने एक अतिरिक्त उम्मीदवार के रूप में बड़े व्यावसायी अनिल कुमार अग्रवाल को मैदान में उतारा है। उत्तर प्रदेश में राज्यसभा चुनाव 23 मार्च को होना है।

आपका एक लाइक बताएगा कि आपको यह खबर पसंद आई है, अगर खबर पसंद है तो लाइक जरुर करें?

Loading...
error: Content is protected !!
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/