Breaking News

अभी अभी : चुनाव के नतीजे आये थे कि यूपी के इस बड़े नेता के बेटे ने खुद को मारी गोली, हुई मौत

जैसा की हम सबको पता है की आज सभी न्यूज़ चैनल पर सिर्फ और सिर्फ यूपी के उपचुनाव के नतीजों की गणित नज़र आ रही है,सभी पार्टियों के कार्यकर्ता रुझानो पर नजर रखे हुए है ,लेकिन इसी बीच एक ऐसी खबर आयी जिसने सबको हिला कर रख दिया ,खबर आई की नेता जी के बेटे ने खुद को गोली मार ली ,आइये आपको बताते है की पूरा मामला क्या था.

आपको बता दे की बसपा के पूर्व मंत्री लालजी वर्मा के बेटे विकास वर्मा  जिनकी उम्र तकरीबन 39 साल है, उन्होंने बुधवार की सुबह अपने सीने में गोली मारकर आत्महत्या कर ली.खबर मिलते ही उन्हें ट्रॉमा सेंटर ले जाया तो गया, लेकिन अफ़सोस उन्हें डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया,लोगो द्वारा पता चला है की विकास काफी दिनों से बीमार था ,बिमारी से छुटकारा पाने के लिए उसने ये कदम उठाया !आपको बता दे की  लालजी वर्मा के परिवार में उनकी पत्नी शोभावती, पुत्र विकास वर्मा, बहू माधुरी, विकास के दो बेटे अंश (7) और अभय (4) रहते हैं. लालजी की बेटी केजीएमयू में डॉक्टर है. 

बताया जा रहा है कि बुधवार सुबह 11 बजे के करीब लोगों को विकास के कमरे से गोली की आवाज़ आई, लोग जब भागकर विकास के कमरे में गए तो वहां वो खून से लथपथ पड़े मिले.
आपको बता दे की विकास मरने से पहले एक सुसाइड नोट लिखा था जिसको  उन्होंने फेस बुक पर पोस्ट किया था ,जिसको हम नीचे दे रहे है ..

मरने से पहले लिखा था सुसाइड नोट:-
“मुझे किसी से कोई गिला-शिकवा नहीं है. जानता हूं आप सभी मुझे बहुत चाहते हैं और मैं भी आप सभी से बहुत प्यार करता हूं. मगर स्वास्थ्य खराब होने के कारण ना किसी से मिल पाता हूं यहां तक की फोन भी अक्सर रिसीव नहीं कर पाता. बहुत कमजोर हो गया हूं. कभी जीवन में ऐसी जिंदगी की कल्पना नही की थी एक दो दिन या महीने की बात होती किसी तरह जी लेता लेकिन रोज रोज मर के जीने के बजाय एक बार मर जाना उचित समझता हूं.कोई गलती हुई किसी के प्रति तो माफी चाहता हूं. मेरे परिवार के लोग आपस में सामंजस्य बना कर रहिएगा और मेरे बेटों को उनकी मां, बुआ, दादी पढा़ने पर जरूर ध्यान दीजियेगा. अपनी तकदीर से अब लड़ नहीं पा रहा हूं ,प्लीज कोई मेरे मरने पर उदास नहीं होइएगा जो आया है सभी को जाना पड़ता है अपने दोस्तों से उम्मीद करता हूं मेरी परिस्थितियों को समझकर मेरे परिवार का ढाढ़स बढ़ाइएगा और उनकी आंखों में आंसू मत आने दीजिएगा. आत्महत्या लोग कहते हैं कमजोर लोग करते हैं हो सकता है ये सही हो लेकिन अब और नहीं लड़ा जा रहा है बहुत जगह इलाज कराया कोई सुधार नही होता दिख रहा है और मजबूरी के साथ मुझे जीना नहीं आता. आप सभी का अपना विकास वर्मा,”

आपका एक लाइक बताएगा कि आपको यह खबर पसंद आई है, अगर खबर पसंद है तो लाइक जरुर करें?

Loading...

error: Content is protected !!
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/