Breaking News

सुहागरात पर वर्जिनिटी टेस्ट के खिलाफ आवाज उठाने वालों की पंचायत ने कर दी धुनाई

शादी के बाद दुल्‍हनों की बिना मर्जी के वर्जिनिटी टेस्ट करने वालों के खिलाफ आवाज उठाने वाले एक समूह की जमकर पिटाई कर दी गई। इस मामले में 40 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जा चुकी है। सूत्रों की माने तो समूह के तीनों सदस्‍यों को पीटने वाले उन्‍हीं के समुदाय के लोग (कंजरभट) थे।बता दें, तीनों सदस्‍यों प्रशांत अंकुश इंद्रेकर ने पिंपरी पुलिस स्टेशन में अपने खिलाफ हुई मारपीट की शिकायत दर्ज कराई। उनमें से इंद्रेकर ने बताया कि उन्‍हें किसी शादी में जाने का इनविटेशन मिला था। वो जब शादी में गए तो शादी की रस्‍में पूरी होने के बाद पंचायत बैठायी गई। इस दौरान दूल्हा-दुल्हन से पैसे लेने और दुल्‍हन की वर्जिनिटी टेस्ट करने का फैसला लिया गया।वहीं इंद्रेकर इस प्रथा के खिलाफ ‘स्टॉप द वी वर्चुअल’ नाम से व्हाट्सऐप ग्रुप चला रहे हैं। जिसके जरिए वे कंजरभट समुदाय में प्रचलित दुल्हनों के वर्जिनिटी टेस्ट (कौमार्य प्रथा) के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं। ऐसे में उन्‍हें देखकर वहां कुछ युवक आए। दरअसल, उन्‍हें पता था कि इंद्रेकर इस प्रथा के खिलाफ हैं। इसलिए वहां मौजूद 30 -40 लोगों ने उपनर चिल्‍लाना शुरू कर दिया और इंद्रेकर समेत तीनों सदस्‍यों के साथ मारपीट की।

Loading...
इस मामले में सीनियर पुलिस इंस्पेक्टर श्रीधर जाधव ने बताया कि, ” हमने इस मामले में अमोल भट और मधुकर भट को गिरफ्तार किया है। बाकी आरोपियों की तलाश जारी है। प्रथा के नाम पर मारपीट गलत है। दोषियों पर कड़ी कार्रवाई होगी।”
आखिर क्‍या है प्रथा
इस प्रथा के मुताबिक, गांव की पंचायत दूल्हा-दुल्हन को सुहाग रात पर सफेद चादर मुहैया कराती है। अगली सुबह चादर पर अगर लाल धब्बा मिलता है तो दुल्हन वर्जिनिटी टेस्ट में पास हो जाती है। अगर ऐसा नहीं होता है तो दुल्हन पर पूर्व में शारीरिक संबंध बनाने के आरोप मढ़ दिए जाते हैं। वहीं इस प्रथा के लिए दुल्हन से इजाजत नहीं ली जाती है।
error: Content is protected !!
http://newsindialive.in/ Digital marketting agency/