Tuesday , July 16 2024

विजिलेंस ने 2,70,000 रुपये की रिश्वत लेने के आरोप में एएसआई के खिलाफ मामला किया दर्ज

शिकायतकर्ता से होटल चलाने के लिए की थी प्रति माह 2 लाख रुपये की मांग
खबर खास, चंडीगढ़ :
पंजाब विजिलेंस ब्यूरो ने राज्य में भ्रष्टाचार के खिलाफ चल रहे अभियान के दौरान 2,70,000 रुपये की रिश्वत मांगने के आरोप में लुधियाना शहर के पुलिस स्टेशन डिवीजन नंबर 5 में तैनात सहायक सब इंस्पेक्टर (एएसआई) चरणजीत सिंह के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया है।
इस संबंध में जानकारी देते हुए विजिलेंस ब्यूरो के आधिकारिक प्रवक्ता ने बताया कि उक्त पुलिसकर्मी के खिलाफ मामला बस स्टैंड के पास जवाहर नगर कैंप स्थित ताज होटल के मालिक कमलजीत आहूजा की मुख्यमंत्री की भ्रष्टाचार विरोधी एक्शन लाइन में दर्ज करवायी शिकायत के आधार पर दर्ज किया गया है।
उन्होंने आगे कहा कि शिकायतकर्ता ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया कि उक्त एएसआई ने उसके परिवार के सदस्यों के खिलाफ संबंधित पुलिस स्टेशन में दर्ज एक मामले में आईपीसी की धारा 307, 379-बी जोड़ने की धमकी देकर उससे रिश्वत वसूल चुका है और अब और रिश्वत मांग रहा है।
प्रवक्ता ने आगे बताया कि इस शिकायत की जांच के दौरान शिकायतकर्ता द्वारा लगाए गए आरोप सही पाए गए, जिसमें शिकायतकर्ता ने सबूत के तौर पर एएसआई चरणजीत सिंह और उनके (शिकायतकर्ता) के बीच हुई बातचीत की रिकॉर्डिंग भी पेश की गई है। प्रारंभिक जांच में यह साबित हो गया कि ए.एस.आई. इस पुलिस स्टेशन के एस.एच.ओ के नाम पर 2,70,000 रुपये की रिश्वत ली गई थी और वह शिकायतकर्ता से अपने होटल को बिना किसी परेशानी के चलाने के बदले में प्रति माह 2 लाख रुपये की रिश्वत देने के लिए भी कह रहा था।
उन्होंने कहा कि इस रिपोर्ट के आधार पर उक्त एएसआई चरणजीत सिंह के खिलाफ विजिलेंस ब्यूरो के लुधियाना रेंज पुलिस स्टेशन में भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने आगे बताया कि आरोपी को गिरफ्तार करने के प्रयास किए जा रहे हैं क्योंकि वह बार-बार नोटिस जारी करने के बावजूद जांच में शामिल नहीं हुआ है और अपनी ड्यूटी से भी अनुपस्थित है।
प्रवक्ता ने बताया कि जांच के दौरान इस मामले में उक्त एस.एच.ओ. वहीं अन्य कर्मचारियों की भूमिका की जांच की जाएगी।

The post विजिलेंस ने 2,70,000 रुपये की रिश्वत लेने के आरोप में एएसआई के खिलाफ मामला किया दर्ज first appeared on Khabar Khaas.