Friday , July 12 2024

महिला सिपाही के साथ रंगरेलियां मनाते डीएसपी को मिली बड़ी सजा, सरकार ने बनाया सिपाही

उन्नाव. आमतौर से लोगों का नौकरी में प्रमोशन होता है, लेकिन उन्नाव के डिप्टी एसपी  रहे कृपा शंकर कनौजिया का डिमोशन करके कॉन्स्टेबल बना दिया गया. कानपुर के एक होटल में महिला सिपाही के साथ रंगरेलियां मनाते पकड़े जाने के बाद उन्हें डिमोट किया गया. कृपा शंकर ने पीएसी में कॉन्स्टेबल के पद से प्रमोशन पाकर डीएसपी तक पहुंचे थे. लखनऊ में अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजी) के 22 जून को जारी आदेश के बाद गोरखपुर में पीएसी की 26 बटालियन में उनकी तैनाती की गई है.

महिला सिपाही से हो गया था अफेयर

कृपा शंकर कनौजिया देवरिया के रहने वाले हैं. जुलाई 2021 में उनकी उन्नाव जिले की बीघापुर सर्किल में सीओ के पद पर तैनाती थी. इस दौरान एक महिला सिपाही से उनका अफेयर हो गया. महिला सिपाही की तैनाती उनके कार्यक्षेत्र में आने वाले एक थाने में थी. कृपा शंकर और महिला सिपाही दोनों पहले से शादीशुदा हैं. महिला का पति प्रयागराज के एक थाने में सिपाही के पद पर तैनात था.

होटल के कमरे में महिला सिपाही के साथ पकड़े गए

6 जुलाई, 2021 को कृपा शंकर ने इलाज के लिए छुट्टी ली. उन्होंने पत्नी को घर आने की सूचना दी. लेकिन घर जाने की जगह महिला सिपाही के साथ कानपुर चले गए. वहां माल रोड स्थित एक होटल में दोनों ठहरे. कृपा शंकर ने अपने नाम पर कमरा बुक किया. इसके साथ ही ष्टत्र और पर्सनल दोनों फोन बंद कर लिए. पत्नी ने कॉल किया तो फोन बंद मिला. काफी देर कॉल करने के बाद पत्नी घबरा गई. उन्होंने उन्नाव के स्क्क आनंद कुलकर्णी को कॉल करके पूरी बात बताई. यह भी बताया कि पति अक्सर अपनी हत्या की आशंका जताते रहते हैं. उनके फोन बंद होने से मुझे डर लग रहा है कि कहीं उनके साथ कोई अनहोनी तो नहीं हो गई.

सर्विलांस से कानपुर के होटल में मिली लोकेशन

इस पर SP ने सर्विलांस सेल को कृपा शंकर का पता लगाने के लिए लगाया. उनकी आखिरी लोकेशन कानपुर के माल रोड पर एक होटल में मिली. उन्नाव और कानपुर की संयुक्त टीम होटल पहुंची, तो पता चला कि शाम 5 बजे से कृपा शंकर एक महिला के साथ कमरे में हैं. रूम बुकिंग में उनकी आईडी लगी थी. जांच-पड़ताल के बाद होटल स्टाफ ने कमरा नंबर- 201 का दरवाजा खटखटाया गया, लेकिन दरवाजा नहीं खोला गया. इसके बाद होटल मैनेजर शिव कुमार खुद गए और कमरा खुलवाया. उन्होंने कृपा शंकर को बताया कि नीचे पुलिस टीम मौजूद है. तब वह नीचे पहुंचे.

इस भंडाफोड़ के बाद कृपा शंकर को सस्पेंड करके गोरखपुर पीएसी भेज दिया गया था. 18 जून को उनके खिलाफ दंड निर्धारण हुआ और आदेश 22 जून को जारी किया गया. वहीं, महिला सिपाही अभी उन्नाव के माखी थाने में तैनात है. इस मामले के बाद महिला सिपाही के पति ने उसको तलाक दे दिया है.

शासन को भेजी गई थी रिपोर्ट

मामला सामने आने के बाद पुलिस विभाग की छवि खराब होने के बाद शासन को रिपोर्ट भेजी गई थी. शासन ने मामले की समीक्षा के बाद कृपा शंकर कनौजिया को सिपाही बनाने की संस्तुति की. अपर पुलिस महानिदेशक के आदेश पर कृपा शंकर कनौजिया को अधिकारी पद से आरक्षी के पद पर तैनात किया जा रहा है.