Sunday , July 21 2024

डा. बलजीत कौर ने फरीदकोट आब्जर्बेशन होम का किया दौरा

कहा, राज्य सरकार जल्द ही कौशल विकास प्रोग्राम करेगी शुरू

खबर खास, चंडीगढ़ :

सामाजिक सुरक्षा, स्त्री और बाल विकास मंत्री डा. बलजीत कौर ने आज फरीदकोट के आब्जर्वेशन होम और प्लेस आफ सेफ्टी का दौरा किया और वहाँ रहते लड़कों के सशक्तीकरन के लिए कई नयी पहलकदमियां की शुरुआत की।

अपनी दौरे दौरान डा. कौर ने वहाँ रहते लड़को के कौशल को ओर निखारने और उनको बढिया भविष्य के लिए तैयार करने के लिए कौशल विकास प्रोग्राम शुरू करने का ऐलान किया। उन्होंने मुहैया करवाई जाने वाली मौजूदा सुविधाओं का जायज़ा लिया और स्टाफ को अगले 15 दिनों के अंदर- अंदर किसी भी कमी को दूर करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही उन्होंने मनोरंजक गतिविधियों को उत्साहित करने, एक व्यापक सेहत जांच कैंप लगाने और संस्कृतिक प्रोग्रामों को शामिल करने के लिए भी कहा।

मंत्री ने बताया कि मौजूदा समय आब्जर्वेशन होम में अलग- अलग जिलों के 60 से अधिक लड़के रह रहे है, जिनमें 18 साल से कम आयु के लड़के भी शामिल है जिन पर कानूनी अपराधों के मामलों में दोष लगाया गया है और 18 से 21 साल की आयु वर्ग के प्लेस आफ सेफ्टी में रह रहे हैं। इन नयी पहलकदमियों के साथ उनके जीवन की गुणवत्ता और भविष्य की संभावनाओं में महत्वपूर्ण सुधार होने की उम्मीद है।

डा. कौर ने आब्जर्वेशन होम के स्टाफ से काम सम्बन्धित जाना और स्टाफ द्वारा किए जा रहे प्रयासों पर संतोष व्यक्त किया । उन्होंने सुपरडैंट को बैंडों की स्थिति बारे एक सप्ताह में रिपोर्ट देने और लड़कों की स्वास्थ्य सुरक्षा को यकीनी बनाने के लिए मैडीकल कैंप लगाने के आदेश भी दिए।

मंत्री ने बताया कि शुरू में यह होम 50 लड़कों के रहने के लिए बनाया गया था परन्तु इसकी सामर्थ्य को 100 लड़कों तक बढ़ाने के लिए लगातार यत्न किए जा रहे हैं। उन्होंने विश्वास दिलाया कि मुख्य मंत्री भगवंत सिंह मान के नेतृत्व में पंजाब सरकार इस पहलकदमी के लिए अपेक्षित बजट और स्टाफ मुहैया करवाने के लिए पूरी तरह वचनबद्ध है।
ज़िक्रयोग्य है कि इन यत्नों का उदेश्य फरीदकोट के आब्जर्वेशन होम में रहने वाले लड़कों के जीवन को सुधार कर सकारात्मक तबदीलियाँ लाना है।
इस दौरे दौरान ज़िला सामाजिक सुरक्षा अधिकारी फरीदकोट नवीन गडवाल भी उपस्थित थे।

The post डा. बलजीत कौर ने फरीदकोट आब्जर्बेशन होम का किया दौरा first appeared on Khabar Khaas.