Friday , July 19 2024

पंजाब पुलिस में होंगी 10 हजार नईं भर्तियां, नशे के खिलाफ भी उठाए सख्त कदम

खबर खास, चंडीगढ़:

पंजाब में नशीली दवाओं के खतरे से निपटने के लिए राज्य सरकार की प्रतिबद्धता दोहराते हुए मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान ने कहा कि पंजाब सरकार ने राज्य से इस समस्या को खत्म करने के लिए एक बहु-दिशात्मक रणनीति तैयार की है।

चंडीगढ़ में पंजाब पुलिस के शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब सरकार राज्य की पुलिसिंग में कई सुधार लाने जा रही है। उन्होंने कहा कि चुनाव की तैयारियों के दौरान पंजाब पुलिस ने बड़ी मात्रा में नकदी और ड्रग्स जब्त किए हैं और ड्रग्स की आपूर्ति के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी इकट्ठा की है। उन्होंने कहा कि यह देखने में आया है कि कई निचले स्तर के पुलिसकर्मी नशा तस्करों के साथ मिले हुए हैं। भगवंत सिंह मान ने कहा कि राज्य सरकार ने एक महत्वपूर्ण पहल करते हुए उन पुलिस कर्मियों के बड़े पैमाने पर तबादले किए हैं जो पदानुक्रम में सबसे निचले स्तर पर हैं और लंबे समय से एक ही स्थान पर तैनात हैं।

10 हजार से अधिक पुलिसकर्मियों का तबादला
मुख्यमंत्री ने कहा कि विभिन्न प्रमंडलों में तैनात 10 हजार से अधिक पुलिसकर्मियों का तबादला किया गया है और पोस्टिंग में रोटेशन की प्रक्रिया जारी है। भगवंत सिंह मान ने कहा कि राज्य में मादक पदार्थों की तस्करी पर अंकुश लगाने के लिए कदम उठाए गए हैं क्योंकि उन्हें रिपोर्ट मिली है कि निचले स्तर के कई पुलिस अधिकारी नशा तस्करों के साथ मिले हुए हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग में इन काली भेड़ों की पहचान की जाएगी और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

पंजाब पुलिस में होंगी नईं भर्तियां
मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर कोई मादक पदार्थों की तस्करी में संलिप्त पाया गया तो पुलिस एक सप्ताह के अंदर उसकी संपत्ति जब्त कर लेगी। उन्होंने कहा कि अधिकारियों को इस नीति को मिशनरी भावना से लागू करने को कहा गया ताकि मादक पदार्थों की तस्करी पर अंकुश लगाया जा सके। भगवंत सिंह मान ने कहा कि पंजाब पुलिस की दक्षता बढ़ाने के लिए बल में 10 हजार नए पद सृजित करने का निर्णय लिया गया है।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे एक ओर जहां भविष्य में अपराध पर अंकुश लगाने में मदद मिलेगी, वहीं दूसरी ओर युवाओं के लिए रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे। उन्होंने कहा कि राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के लिए पंजाब पुलिस को अत्याधुनिक तकनीक से लैस किया गया है और राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई सड़क सुरक्षा बल सफलतापूर्वक काम कर रही है। भगवंत सिंह मान ने कहा कि अपने अस्तित्व में आने के बाद से इस बल ने सड़क दुर्घटनाओं के बाद दो हजार से अधिक कीमती जिंदगियां बचाई हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिकारियों को राज्य के कल्याण के लिए नशीली दवाओं के खिलाफ युद्ध को एक जन आंदोलन में बदलने के लिए कहा गया है। भगवंत सिंह मान ने कहा कि अब वो दिन गए, जब राज्य सरकार ‘कमीशन’ पर चलती थी। अब सरकार एक ‘मिशन’ की तरह चल रही है। इसी प्रकार, राज्य में तस्करी के लिए ड्रोन का उपयोग करने वाले तस्करों, गैंगस्टरों और आतंकवादियों से निपटने के लिए एक विस्तृत रणनीति बनाई गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब देश में नशे के खिलाफ लड़ाई लड़ रहा है और इस काम में कोई कसर नहीं छोड़ी जायेगी। भगवंत सिंह मान ने कहा कि पंजाब में ड्रग्स का उत्पादन बिल्कुल नहीं होता है, लेकिन दूसरे राज्यों और सीमा पार से ड्रग्स की तस्करी की जाती है। उन्होंने कहा कि पुलिस अधिकारियों को रोजमर्रा के काम के लिए थाने आने वाले लोगों से सम्मानजनक व्यवहार करने को कहा गया है। भगवंत सिंह मान ने कहा कि पुलिस स्टेशनों में आने वाले आम लोगों की अनावश्यक परेशानी के लिए संबंधित जिले के एसएसपी जिम्मेदार होंगे।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस अधिकारियों को विधायकों और अन्य निर्वाचित प्रतिनिधियों के प्रति उचित सम्मान दिखाने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार पहले ही भ्रष्टाचार और नशे से न निपटने की रणनीति अपना चुकी है और इस प्रक्रिया में कोई भी चूक बर्दाश्त नहीं की जाएगी। भगवंत सिंह मान ने कहा कि इन जघन्य अपराधों में जो भी शामिल होगा, उसे बख्शा नहीं जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार उन लोगों की ओर से आंखें नहीं मूंद सकती जो ड्रग्स बेचकर हमारी पीढ़ी का ‘नरसंहार’ कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार इन लोगों को अनुकरणीय सजा देगी ताकि अन्य लोगों को ऐसे घृणित कृत्यों में शामिल होने से रोका जा सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ सत्ता में भागीदार नहीं बनने से निराश हैं। उन्होंने कहा कि इसी हताशा के कारण पूर्व सांसद द्वारा राज्य सरकार के खिलाफ बेबुनियाद बयान जारी किये जा रहे हैं। भगवंत सिंह मान ने कहा कि इन नेताओं को केवल अपने निजी हितों की चिंता है, जबकि मुख्यमंत्री के रूप में उन्हें राज्य की प्रगति और लोगों की भलाई की चिंता है।

मुख्यमंत्री ने इस बात पर अफसोस जताया कि लंबे समय तक चुनाव आचार संहिता लागू रहने के कारण राज्य में विकास कार्य ठप पड़ गये। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के समग्र विकास और जनता की खुशहाली के लिए प्रतिबद्ध है और प्रदेश सरकार जनता की भलाई के लिए फिर से हरकत में आ गई है। भगवंत सिंह मान ने कहा कि राज्य सरकार जमीनी स्तर पर लोगों से फीडबैक लेकर लोगों के कल्याण के लिए विभिन्न रणनीतियां बना रही है।

The post पंजाब पुलिस में होंगी 10 हजार नईं भर्तियां, नशे के खिलाफ भी उठाए सख्त कदम first appeared on Khabar Khaas.